यहां खुलेंगे महिलाओं के लिए शराब के ठेके; कुछ ऐसा होगा इंतजाम, जानिए क्या है माजरा?

First Published 29, Feb 2020, 4:41 PM

भोपाल. महिलाएं अकसर शराब के ठेकों को बंद करवाने को लेकर विरोध प्रदर्शन करती नजर आती हैं। मीडिया में ऐसी सैकड़ों खबरें सामने आती हैं जब किसी क्षेत्र में महिलाए शराब की दुकान को बंद करवाने के लिए धरना देती हैं। पर इस बार शराब के ठेके महिलाएं के लिए खोले जाने की बात हो रही है। दरअसल ज्यादा शराब के ठेके और दुकान पुरुषों के लिए होते हैं। महिलाएं इन दुकानों पर बोतल खरीदने जाने से कतराती हैं। ऐसे में मीडिया में खबर आई कि, हमारे देश में महिलाओं की इस समस्या का समाधान निकल चुका है।

बीते दिनों खबर आई कि,  मध्‍य प्रदेश सरकार ने दुकान से शराब खरीदने की इच्‍छुक महिलाओं के लिए एक तरीका ढूंढ निकाला है। राज्‍य सरकार कुछ शहरों में महिलाओं के लिए शराब की दुकानें खोलेगी, जहां वे आराम से खरीददारी कर सकें।

बीते दिनों खबर आई कि, मध्‍य प्रदेश सरकार ने दुकान से शराब खरीदने की इच्‍छुक महिलाओं के लिए एक तरीका ढूंढ निकाला है। राज्‍य सरकार कुछ शहरों में महिलाओं के लिए शराब की दुकानें खोलेगी, जहां वे आराम से खरीददारी कर सकें।

क्या है मामला?  एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं के लिए ऐसे दो स्‍टोर्स भोपाल और इंदौर में खोले जाएंगे, जबकि ग्‍वालियर और जबलपुर में एक-एक ठेका खोला जाएगा। इतना ही नहीं इन स्‍टोर्स में इस बात का खास खयाल रखा जाएगा कि वहां पर महंगे विदेशी ब्रांड की शराब को जगह दी जाए जो महिलाओं को पसंद आती हैं। किसी लोकल ब्रांड जिनका राज्‍य में रजिस्‍ट्रेशन नहीं हुआ है उन्‍हें इन दुकानों में जगह नहीं दी जाएगी। महिलाओं की शराब पसंद को लेकर भी ध्यान रखने को कहा गया। "इन विदेशी ब्रांड की शराब पर कोई अतिरिक्‍त कर नहीं लगाया जाएगा क्‍योंकि इन्‍हें ड्यूटी चुकाने के बाद ही विदेशों से खरीदा जाएगा।

क्या है मामला? एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं के लिए ऐसे दो स्‍टोर्स भोपाल और इंदौर में खोले जाएंगे, जबकि ग्‍वालियर और जबलपुर में एक-एक ठेका खोला जाएगा। इतना ही नहीं इन स्‍टोर्स में इस बात का खास खयाल रखा जाएगा कि वहां पर महंगे विदेशी ब्रांड की शराब को जगह दी जाए जो महिलाओं को पसंद आती हैं। किसी लोकल ब्रांड जिनका राज्‍य में रजिस्‍ट्रेशन नहीं हुआ है उन्‍हें इन दुकानों में जगह नहीं दी जाएगी। महिलाओं की शराब पसंद को लेकर भी ध्यान रखने को कहा गया। "इन विदेशी ब्रांड की शराब पर कोई अतिरिक्‍त कर नहीं लगाया जाएगा क्‍योंकि इन्‍हें ड्यूटी चुकाने के बाद ही विदेशों से खरीदा जाएगा।

क्या दावा किया जा रहा है?   शुरुआती रिपोर्ट में मीडिया ने बताया कि, मध्य प्रदेश सरकार राज्‍स्‍व बढ़ाने के लिए इंदौर, भोपाल और ग्‍वालियर में अलग-अलग हाई-फाई विदेशी ब्रांड वाली शराब की दुकाने खोलने वाली हैं। ये दुकाने खासतौर पर महिलाओं के लिए होंगीं। महिलाएं यहां बेझिझक शराब खरीद सकेंगी। राज्य सरकार इसके लिए वाइन फेस्टिवल का आयोजन भी करेगी।

क्या दावा किया जा रहा है? शुरुआती रिपोर्ट में मीडिया ने बताया कि, मध्य प्रदेश सरकार राज्‍स्‍व बढ़ाने के लिए इंदौर, भोपाल और ग्‍वालियर में अलग-अलग हाई-फाई विदेशी ब्रांड वाली शराब की दुकाने खोलने वाली हैं। ये दुकाने खासतौर पर महिलाओं के लिए होंगीं। महिलाएं यहां बेझिझक शराब खरीद सकेंगी। राज्य सरकार इसके लिए वाइन फेस्टिवल का आयोजन भी करेगी।

सच्चाई क्या है?   ये खबर बड़े-बड़े न्यूज चैनल्स और वेबसा्इट्स पर छाई रही। अब खबर से जुड़ी एक सच्चाई सामने आई है। दरअसल मध्य प्रदेश के आबकारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौड़ ने इस खबर को पूरी तरह खारिज कर दिया। मीडिया में आई खबरों का खंडन करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि, महिलाओं के लिए विशेष शराब की दुकानें खोले जाने की कोई तैयारी नहीं है। “शहरों में ब्रांडेड विदेशी शराब की बिक्री के लिए शराब की दुकानें खोली जाने की योजना है। महिलाओं की शराब की दुकानों के बारे में कुछ भी पता नहीं है। ”

सच्चाई क्या है? ये खबर बड़े-बड़े न्यूज चैनल्स और वेबसा्इट्स पर छाई रही। अब खबर से जुड़ी एक सच्चाई सामने आई है। दरअसल मध्य प्रदेश के आबकारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह राठौड़ ने इस खबर को पूरी तरह खारिज कर दिया। मीडिया में आई खबरों का खंडन करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि, महिलाओं के लिए विशेष शराब की दुकानें खोले जाने की कोई तैयारी नहीं है। “शहरों में ब्रांडेड विदेशी शराब की बिक्री के लिए शराब की दुकानें खोली जाने की योजना है। महिलाओं की शराब की दुकानों के बारे में कुछ भी पता नहीं है। ”

फिर महिलाओं के लिए शराब की दुकान वाली बात कैसे फैली?   राठौर ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि 'राजस्व बढ़ाने में मदद के लिए हाई क्वालिटी की शराब राज्य में ही उपलब्ध करवाने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा- मध्य प्रदेश में कुछ फीसदी लोग अभी भी ऐसे हैं जो अच्छे ब्रांड की शराब चाहते हैं, लेकिन दुकानों में वह नहीं मिलती थी, ऐसे में कोई विदेश से मंगवाता था तो कोई दिल्ली से। इसमें राजस्व का नुकसान, मध्यप्रदेश सरकार का होता था। हमने यह तय किया है कि बाहर के ब्रांड जो हमारे यहां नहीं मिलते हैं, उसे इंदौर और भोपाल में दो-दो शॉप्स, ग्वालियर और जबलपुर में एक-एक शॉप खोलकर उपलब्ध कराया जाएगा।'

फिर महिलाओं के लिए शराब की दुकान वाली बात कैसे फैली? राठौर ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि 'राजस्व बढ़ाने में मदद के लिए हाई क्वालिटी की शराब राज्य में ही उपलब्ध करवाने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने कहा- मध्य प्रदेश में कुछ फीसदी लोग अभी भी ऐसे हैं जो अच्छे ब्रांड की शराब चाहते हैं, लेकिन दुकानों में वह नहीं मिलती थी, ऐसे में कोई विदेश से मंगवाता था तो कोई दिल्ली से। इसमें राजस्व का नुकसान, मध्यप्रदेश सरकार का होता था। हमने यह तय किया है कि बाहर के ब्रांड जो हमारे यहां नहीं मिलते हैं, उसे इंदौर और भोपाल में दो-दो शॉप्स, ग्वालियर और जबलपुर में एक-एक शॉप खोलकर उपलब्ध कराया जाएगा।'

इसके साथ ये बात भी कही गई कि, ये आउटलेट्स ऐसी जगह खोले जाएंगे जहां से संभ्रांत परिवार के लोग बेझिझक महंगी ब्रांडेड विदेशी शराब खरीद सकेंगे। इस खबर को जानबूझकर महिलाओं से जोड़कर मीडिया में पेश किया गया। हाई प्रोफाइल फैमिली की बात को मध्य प्रदेश में महिलाओं के लिए शराब की दुकानों खोले जानी की बात कही गई। अब नतीजा ये निकलता है कि मध्य प्रदेश में महिलाओं के लिए शराब के ठेके खोले जाने वाली खबर पूरी तरह गलत है।

इसके साथ ये बात भी कही गई कि, ये आउटलेट्स ऐसी जगह खोले जाएंगे जहां से संभ्रांत परिवार के लोग बेझिझक महंगी ब्रांडेड विदेशी शराब खरीद सकेंगे। इस खबर को जानबूझकर महिलाओं से जोड़कर मीडिया में पेश किया गया। हाई प्रोफाइल फैमिली की बात को मध्य प्रदेश में महिलाओं के लिए शराब की दुकानों खोले जानी की बात कही गई। अब नतीजा ये निकलता है कि मध्य प्रदेश में महिलाओं के लिए शराब के ठेके खोले जाने वाली खबर पूरी तरह गलत है।

loader