Asianet News Hindi

शातिर घरवाली, पति के हाथों किसी को मरवा दिया, फिर 9 साल पहले स्कूल जाते समय मिले पहले प्यार को फंसा दिया

First Published Sep 5, 2020, 11:49 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गुड़गांव, हरियाणा. यह कहानी एक ऐसी शातिर पत्नी की है, जिसने न सिर्फ अपने पति को प्रेमी के हाथों मरवा दिया, बल्कि इससे पहले पति के हाथों किसी और की हत्या करवा दी थी। अब प्रेमिका के बहकावे में हत्यारा बना प्रेमी जेल पहुंच गया है। मामला सेक्टर-5 में रहने वाले सुरेश नामक व्यक्ति की हत्या से जुड़ा है। सुरेश 5 महीने पहले लापता हो गया था। शुक्रवार को इस हत्याकांड का खुलासा हुआ। महिला ने अपने पहले प्यार सुखबीर के हाथों पति की हत्या करवा दी थी। पुलिस ने जब डूमरखां निवासी सुखबीर को पकड़ा, तो उसने सारी कहानी बयां कर दी। आरोपी ढाबा चलाता है। उसने सुरेश की लाश ढाबे के आंगन में गाड़ दी थी। शनिवार को रोहतक मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम कराया गया।

पति के जेल भिजवाकर प्रेमी को बुलाया
सुनीता नामक महिला ने भिवानी के गांव बड़ेसरा के एक व्यक्ति की अपने पति से हत्या कर करवा दी थी। इसके बाद पति जेल चला गया। इस दौरान सुनीता अपने पहले प्यार सुखबीर के संपर्क में आ गई। 6-7 महीने पहले जब पति जेल से छूटकर आया, तो उसे सुनीता और सुखबीर के संबंधों के बारे में पता चला। उसने सुनीता को समझाया। सुनीता किसी प्राइवेट कंपनी में काम करती थी। आगे पढ़ें इसी क्राइम के बारे में...

पति के जेल भिजवाकर प्रेमी को बुलाया
सुनीता नामक महिला ने भिवानी के गांव बड़ेसरा के एक व्यक्ति की अपने पति से हत्या कर करवा दी थी। इसके बाद पति जेल चला गया। इस दौरान सुनीता अपने पहले प्यार सुखबीर के संपर्क में आ गई। 6-7 महीने पहले जब पति जेल से छूटकर आया, तो उसे सुनीता और सुखबीर के संबंधों के बारे में पता चला। उसने सुनीता को समझाया। सुनीता किसी प्राइवेट कंपनी में काम करती थी। आगे पढ़ें इसी क्राइम के बारे में...

सुनीता ने बताया कि 9 साल पहले सुखबीर और वो स्कूल पढ़ने जाते थे। उसी समय दोनों के बीच प्रेम संबंध बन गए थे। सुखबीर नरवाड़ा पढ़ने जाता था, जबकि सुनीता बड़ेसरा गांव से खरल गुरुकुल। दोनों की मुलाकात डुमरखां बस अड्ड पर होती थी। आगे पढ़ें इसी क्राइम के बारे में...

सुनीता ने बताया कि 9 साल पहले सुखबीर और वो स्कूल पढ़ने जाते थे। उसी समय दोनों के बीच प्रेम संबंध बन गए थे। सुखबीर नरवाड़ा पढ़ने जाता था, जबकि सुनीता बड़ेसरा गांव से खरल गुरुकुल। दोनों की मुलाकात डुमरखां बस अड्ड पर होती थी। आगे पढ़ें इसी क्राइम के बारे में...

सुरेश के जेल जाने के बाद सुखबीर और सुनीता दुबारा मिलने लगे। लेकिन जब सुरेश को इसका पता चला, तो उसे रास्ते से हटाने का प्लान बनाया गया। सुखबीर ने सुरेश को अपने ढाबे पर बुलाया था। यहां दोनों ने शराब पी। जब सुरेश बेहोश हो गया, तो सुखबीर ने उसे गोली मार दी। लंबे समय तक अपने बेटे से संपर्क नहीं होने पर सुरेश के पिता रधाना निवासी राममेहर ने एक सितंबर को गुड़गांव सेक्टर-5 पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। सुनीता ने पुलिस को बयान दिया था कि सुरेश उससे लड़-झगड़कर कहीं चला गया है।

अगली स्टोरी पढ़ें कहीं और सुसाइड नोट लिखती, तो पति मिटा देता सबूत...इसलिए 'गुप्त' जगह पर लिखी आपबीती

सुरेश के जेल जाने के बाद सुखबीर और सुनीता दुबारा मिलने लगे। लेकिन जब सुरेश को इसका पता चला, तो उसे रास्ते से हटाने का प्लान बनाया गया। सुखबीर ने सुरेश को अपने ढाबे पर बुलाया था। यहां दोनों ने शराब पी। जब सुरेश बेहोश हो गया, तो सुखबीर ने उसे गोली मार दी। लंबे समय तक अपने बेटे से संपर्क नहीं होने पर सुरेश के पिता रधाना निवासी राममेहर ने एक सितंबर को गुड़गांव सेक्टर-5 पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। सुनीता ने पुलिस को बयान दिया था कि सुरेश उससे लड़-झगड़कर कहीं चला गया है।

अगली स्टोरी पढ़ें कहीं और सुसाइड नोट लिखती, तो पति मिटा देता सबूत...इसलिए 'गुप्त' जगह पर लिखी आपबीती

उदयपुर, राजस्थान. सुसाइड का यह चौंकाने वाला मामला सेमारी थाना क्षेत्र के मल्लाड़ा गांव में सामने आया था। पति की प्रताड़ना से परेशान होकर रेखा मेघवाल नामक महिला ने जहर खा लिया था। महिला को पति खेमराज का इतना खौफ था कि उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो सुसाइड नोट कहां लिखे? जब पुलिस ने उसकी जांघ पर लिखा सुसाइड नोट देखा, तो हैरान रह गई। महिला ने साफ लिखा कि अगर वो कागज पर सुसाइड नोट लिखती, तो उसका पति फाड़ देता। दीवार पर लिखती, तो मिटा देता। जांघ पर उसकी नजर नहीं पड़ती, इसलिए उसने यह जगह चुनी। पढ़िए इसी घटना के बारे में...

उदयपुर, राजस्थान. सुसाइड का यह चौंकाने वाला मामला सेमारी थाना क्षेत्र के मल्लाड़ा गांव में सामने आया था। पति की प्रताड़ना से परेशान होकर रेखा मेघवाल नामक महिला ने जहर खा लिया था। महिला को पति खेमराज का इतना खौफ था कि उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो सुसाइड नोट कहां लिखे? जब पुलिस ने उसकी जांघ पर लिखा सुसाइड नोट देखा, तो हैरान रह गई। महिला ने साफ लिखा कि अगर वो कागज पर सुसाइड नोट लिखती, तो उसका पति फाड़ देता। दीवार पर लिखती, तो मिटा देता। जांघ पर उसकी नजर नहीं पड़ती, इसलिए उसने यह जगह चुनी। पढ़िए इसी घटना के बारे में...

रेखा मेघवाल की यह तीसरी शादी थी। उसकी कोई संतान नहीं थी, जबकि खेमराज के पहले पत्नी से 4 बच्चे है। एक बेटे की शादी हो चुकी है। महिला ने जांघ पर 14 लाइन का सुसाइड नोट लिखा। इसमें लिखा कि पति कहता था कि तेरे जैसी 17 और ले आऊंगा। आगे पढ़ें....लवमैरिज के 9 महीने बाद ही उठ गई

रेखा मेघवाल की यह तीसरी शादी थी। उसकी कोई संतान नहीं थी, जबकि खेमराज के पहले पत्नी से 4 बच्चे है। एक बेटे की शादी हो चुकी है। महिला ने जांघ पर 14 लाइन का सुसाइड नोट लिखा। इसमें लिखा कि पति कहता था कि तेरे जैसी 17 और ले आऊंगा। आगे पढ़ें....लवमैरिज के 9 महीने बाद ही उठ गई

यह मामला हरियाणा के जींद में पिछले दिनों सामने आया था। 21 साल की इस लड़की ने 9 महीने पहले लवमैरिज की थी। पति कुछ करता नहीं, इसलिए उसने दहेज की डिमांड शुरू कर दी। लड़की कनाडा जाकर पढ़ना चाहती थी, लेकिन लॉकडाउन ने सपना पूरा नहीं होने दिया। दो तरफा परेशानियों से घिरी लड़की ने पिछले दिनों फांसी लगाकर अपनी जान दे दी थी। तृप्ति बीकॉम तृतीय वर्ष में पढ़ रही थी। वो कनाडा जाकर पढ़ाई करना चाहती थी। इसके लिए उसने डाक्यूमेंट्स तैयार कर रखे थे। लेकिन मार्च में लॉकडाउन लगने से वो नहीं जा सकी।

यह मामला हरियाणा के जींद में पिछले दिनों सामने आया था। 21 साल की इस लड़की ने 9 महीने पहले लवमैरिज की थी। पति कुछ करता नहीं, इसलिए उसने दहेज की डिमांड शुरू कर दी। लड़की कनाडा जाकर पढ़ना चाहती थी, लेकिन लॉकडाउन ने सपना पूरा नहीं होने दिया। दो तरफा परेशानियों से घिरी लड़की ने पिछले दिनों फांसी लगाकर अपनी जान दे दी थी। तृप्ति बीकॉम तृतीय वर्ष में पढ़ रही थी। वो कनाडा जाकर पढ़ाई करना चाहती थी। इसके लिए उसने डाक्यूमेंट्स तैयार कर रखे थे। लेकिन मार्च में लॉकडाउन लगने से वो नहीं जा सकी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios