लॉकडाउन में ठेला लगाने पर मजबूर हुआ डॉक्टर, तीखी धूप में सड़क पर नई नवेली पत्नी के साथ बेच रहा चाय

First Published 18, May 2020, 9:33 AM

करनाल (हरियाणा). लॉकडाउन ने ना सिर्फ मजदूरों की रोजी-रोटी छीनी है, बल्कि कई बड़ी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। तो कहीं लोगों की सैलरी में कटौती की जा रही है, कई ने तो इस मुस्किल वक्त में वेतन देना ही बंद कर दिया है। ऐसा ही एक मामला हरियाणा में सामने आया है, जहां एक निजी अस्पताल में नौकरी करने वाले डॉक्टर को जब जॉब से निकाला तो वह घर का खर्चा चलाने के लिए ठेला लगाकर चाय बेचने पर मजबूर हो गया।

<p>दरअसल, हैरान कर देने वाला यह मामला करनाल शहर में सामने आया है। एक निजी अस्पताल में नौकरी करन वाले डॉक्टर डॉ. गौरव शर्मा जब अपनी दो माह की सैलरी मांगी तो उनका पहला ट्रांसफर कर दिया, जब उसने ट्रांसफर करने से मना किया तो उसे नौकरी से ही निकाल दिया गया।</p>

दरअसल, हैरान कर देने वाला यह मामला करनाल शहर में सामने आया है। एक निजी अस्पताल में नौकरी करन वाले डॉक्टर डॉ. गौरव शर्मा जब अपनी दो माह की सैलरी मांगी तो उनका पहला ट्रांसफर कर दिया, जब उसने ट्रांसफर करने से मना किया तो उसे नौकरी से ही निकाल दिया गया।

<p>नौकरी चली जाने के बाद डॉक्टर गौरव शर्मा अपनी नवविवाहिता पत्नी के साथ सड़क पर तीन दिन से &nbsp;रेहड़ी लगा रहे हैं। वह डॉक्टर्स में ड्रेस ठेले पर चाय बनाकर बेच रहे हैं। जो भी पति-पत्नी को इस हालत में देखता है वहां ठिठक जाता है।</p>

नौकरी चली जाने के बाद डॉक्टर गौरव शर्मा अपनी नवविवाहिता पत्नी के साथ सड़क पर तीन दिन से  रेहड़ी लगा रहे हैं। वह डॉक्टर्स में ड्रेस ठेले पर चाय बनाकर बेच रहे हैं। जो भी पति-पत्नी को इस हालत में देखता है वहां ठिठक जाता है।

<p>&nbsp;डॉ. गौरव ने बताया कि जब वो एक प्राइवेट कंपनी के अस्पताल में आरएमओ के पद पर तैनात थे। वह आइसीयू का काम देखते थे। उन्होंने बताया कंपनी ने उन्हें फरवरी और मार्च में सैलरी नहीं दी और एक माह लीव विदआउट पे पर रहने को कहा था। गौरव ने कहा- जब मैंने इस मामले में सीनियर से बात की तो उनका ट्रांसफर गाजियाबाद कर दिया।&nbsp;</p>

 डॉ. गौरव ने बताया कि जब वो एक प्राइवेट कंपनी के अस्पताल में आरएमओ के पद पर तैनात थे। वह आइसीयू का काम देखते थे। उन्होंने बताया कंपनी ने उन्हें फरवरी और मार्च में सैलरी नहीं दी और एक माह लीव विदआउट पे पर रहने को कहा था। गौरव ने कहा- जब मैंने इस मामले में सीनियर से बात की तो उनका ट्रांसफर गाजियाबाद कर दिया। 

<p><br />
डॉ. गौरव के मुताबिक, वह अस्पताल में एक कंपनी के माध्यम से लगे हुए थे। दो महीने से उसकी सैलरी नहीं दे रहे हैं और चार महीने का ओवरटाइम तक नहीं दिया। दिसंबर में डॉक्टर की शादी हुई है। ऐसे में घर का खर्चा चलाना बहुत मुश्किल है। वह किराए के मकान में रहते हैं।&nbsp;</p>


डॉ. गौरव के मुताबिक, वह अस्पताल में एक कंपनी के माध्यम से लगे हुए थे। दो महीने से उसकी सैलरी नहीं दे रहे हैं और चार महीने का ओवरटाइम तक नहीं दिया। दिसंबर में डॉक्टर की शादी हुई है। ऐसे में घर का खर्चा चलाना बहुत मुश्किल है। वह किराए के मकान में रहते हैं। 

<p>डॉक्टर का कहना है कि जब तक उसकी पेमेंट नहीं मिलती वह इसी तरह चाय की रेहड़ी लगाकर विरोध जताता रहेगा।</p>

डॉक्टर का कहना है कि जब तक उसकी पेमेंट नहीं मिलती वह इसी तरह चाय की रेहड़ी लगाकर विरोध जताता रहेगा।

<p>वहीं इस मामले में डॉक्टर गौरव के सीनियर अधिकारी राकेश ने बताया कि लॉकडाउन के चलते सैलरी देने में दिक्कतें आ रही हैं। लेकिन, जिस तरह से डॉ. गौरव कर रहे हैं वह ठीक नहीं है। दरअसल, वो पहले कई बार गैरकानूनी काम करते पकड़े गए हैं। जिसके चलते उनको पहले तीन चार बार नोटिस भी दिया जा चुका है।</p>

वहीं इस मामले में डॉक्टर गौरव के सीनियर अधिकारी राकेश ने बताया कि लॉकडाउन के चलते सैलरी देने में दिक्कतें आ रही हैं। लेकिन, जिस तरह से डॉ. गौरव कर रहे हैं वह ठीक नहीं है। दरअसल, वो पहले कई बार गैरकानूनी काम करते पकड़े गए हैं। जिसके चलते उनको पहले तीन चार बार नोटिस भी दिया जा चुका है।

<p>तस्वीर में आप देख सकते हैं कि नौकरी चले जाने के बाद किस तरह से पति-पत्नी संर्घष कर रहे हैं।</p>

तस्वीर में आप देख सकते हैं कि नौकरी चले जाने के बाद किस तरह से पति-पत्नी संर्घष कर रहे हैं।

loader