Asianet News Hindi

15 फीट की जगह में लाखों रुपए कमा रहा है यह किसान, वो करिश्मा कर दिखाया जो चीन और स्पेन में होता है

First Published Feb 11, 2021, 4:39 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


हिसार (हरियाणा). एक तरफ पंजाब-हरियाणा और अन्य राज्यों के किसान पिछले ढाई महीनों से केंद्र सरकार नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ हरियाणा से ही एक किसान की सफलता की अनोखी काहानी सामने आई है। जिसने घर की छत पर दुनिया की सबसे मंहगी खेती यानि केसर की खेती करके सबको हैरान कर दिया है। महज 15 फीट की जगह में इस खेती को करके वह लाखों रुपए कमा रहा है। इस किसान ने वो कमाल कर दिखाया हो जिस प्रणाली से विदेश में कृषक खेती करते हैं।

दरअसल, हिसार जिले के कोथकला गांव के रहने वाले दो सगे भाई नवीन और प्रवीण ने अपने 15 * 15 छत पर बने कमरे से केसर की खेती की शुरूआत की थी। दोनों ने मिलकर लॉकडाउन के दिनों में  ट्रायल के तौर पर यह नया काम शुरू किया था। अब वह ऐयरोफोनिक विधि से केसर उगा कर लगभग 6 से 9 लाख की कमाई कर रहे हैं।
 

दरअसल, हिसार जिले के कोथकला गांव के रहने वाले दो सगे भाई नवीन और प्रवीण ने अपने 15 * 15 छत पर बने कमरे से केसर की खेती की शुरूआत की थी। दोनों ने मिलकर लॉकडाउन के दिनों में  ट्रायल के तौर पर यह नया काम शुरू किया था। अब वह ऐयरोफोनिक विधि से केसर उगा कर लगभग 6 से 9 लाख की कमाई कर रहे हैं।
 

बता दें कि नवीन और प्रवीण जिस ऐयरोफोनिक विधि से केसर की खेती कर रहे हैं वह पद्धति स्पेन, चीन और में केसर की फसल तैयार की जाती है। भारत में तो यह खेती जम्मू के किसान खेतों में करते हैं। लेकिन दोनों भाइयों ने मेहनत और लगन से यह करिश्मा कर दिखाया है।
 

बता दें कि नवीन और प्रवीण जिस ऐयरोफोनिक विधि से केसर की खेती कर रहे हैं वह पद्धति स्पेन, चीन और में केसर की फसल तैयार की जाती है। भारत में तो यह खेती जम्मू के किसान खेतों में करते हैं। लेकिन दोनों भाइयों ने मेहनत और लगन से यह करिश्मा कर दिखाया है।
 

किसान नवीन का कहना है कि मेहनत, निष्ठा, लग्न से कोई भी कार्य करें तो बड़े से बड़ा काम आसान हो जाता है। लॉकडाउन के दिनों में हमने गूगल और यूट्यूब पर कुछ नया करने पर बहुत खोज की। जब हमको पता चला कि केसर दुनिया की सबसे मंहगी फसल है तो हमने इसके बारे में जानकारी लेना शुरू कर दिया। यूट्यूब पर वीडियो देखकर इसकी शुरूआत कर दी। अगस्त के महीने में हमने केसर को छत पर लगाया और चार महीने बाद नवंबर 2020 इस फसल को काटकर पूरा कर लिया।

किसान नवीन का कहना है कि मेहनत, निष्ठा, लग्न से कोई भी कार्य करें तो बड़े से बड़ा काम आसान हो जाता है। लॉकडाउन के दिनों में हमने गूगल और यूट्यूब पर कुछ नया करने पर बहुत खोज की। जब हमको पता चला कि केसर दुनिया की सबसे मंहगी फसल है तो हमने इसके बारे में जानकारी लेना शुरू कर दिया। यूट्यूब पर वीडियो देखकर इसकी शुरूआत कर दी। अगस्त के महीने में हमने केसर को छत पर लगाया और चार महीने बाद नवंबर 2020 इस फसल को काटकर पूरा कर लिया।


दोनों भाइयों ने बताया कि शरुआत में एक से डेढ़ किलो केसर की पैदावार हुई, पहली बार में हमको इससे करीब 7 से 9 लाख रुपए की बचत हुई।  जब हम इमको बेंचने के लिए बाजार में गए तो पता चला कि केसर ढाई से तीन लाख रुपए किलो बिक रही है। दोनों का कहना है कि हमने इसकी खेती के लिए नौकरी छोड़ दी है।


दोनों भाइयों ने बताया कि शरुआत में एक से डेढ़ किलो केसर की पैदावार हुई, पहली बार में हमको इससे करीब 7 से 9 लाख रुपए की बचत हुई।  जब हम इमको बेंचने के लिए बाजार में गए तो पता चला कि केसर ढाई से तीन लाख रुपए किलो बिक रही है। दोनों का कहना है कि हमने इसकी खेती के लिए नौकरी छोड़ दी है।

किसान नवीन व प्रवीण का कहना है कि किसान केसर का प्रोजेक्ट लगाकर प्रधानमंत्री मोदी का सपना 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का पूरा कर सकता है। उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट में  7 से 10 लाख रुपए का खर्च आता है। इसके लिए कई तरह की मशीनें आती हैं जो इस बजट में आ जाती हैं। इस खेती को किसान छोटी से छोटी जगह में भी आसानी से कर सकता है और ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकता है। 
 

किसान नवीन व प्रवीण का कहना है कि किसान केसर का प्रोजेक्ट लगाकर प्रधानमंत्री मोदी का सपना 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का पूरा कर सकता है। उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट में  7 से 10 लाख रुपए का खर्च आता है। इसके लिए कई तरह की मशीनें आती हैं जो इस बजट में आ जाती हैं। इस खेती को किसान छोटी से छोटी जगह में भी आसानी से कर सकता है और ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकता है। 
 

दोनों भाइयों ने बताया कि कोई भी किसान एक बार रेड गोल्ड फसल लगाकर केसर की फसल लगातार 5 साल तक ले सकता है। इस फसल में कई लेबर की जुरुरत नहीं होती है। एक व्यक्ति आसानी से इसे कर सकता है। इसकी खेती कहीं भी की जा सकती है, बस दिन का तापमान 20 डिग्री और रात का 10 डिग्री होना चाहिए। वहीं सूर्य का प्रकाश त‍िरछे रूप से आना चाहिए। अगर सूर्य का प्रकाश न हो तो लाइट का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा  बैक्टीरिया फ्री लैब होनी चाहिए और थर्माकोल का उपयोग भी कर सकते हैं।
 

दोनों भाइयों ने बताया कि कोई भी किसान एक बार रेड गोल्ड फसल लगाकर केसर की फसल लगातार 5 साल तक ले सकता है। इस फसल में कई लेबर की जुरुरत नहीं होती है। एक व्यक्ति आसानी से इसे कर सकता है। इसकी खेती कहीं भी की जा सकती है, बस दिन का तापमान 20 डिग्री और रात का 10 डिग्री होना चाहिए। वहीं सूर्य का प्रकाश त‍िरछे रूप से आना चाहिए। अगर सूर्य का प्रकाश न हो तो लाइट का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा  बैक्टीरिया फ्री लैब होनी चाहिए और थर्माकोल का उपयोग भी कर सकते हैं।
 

किसान नवीन और प्रवीण ने राज्य सरकार से मांग की है कि केसर की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी दी जाए। ताकि वह आसानी से इस फसल को उगा सकें। जिससे उनकी आय दोगुनी हो जाएगी। जिससे राज्य का हर किसान आर्थिक रूप से मजबूत होगा। साथ दोनों भाइयों ने कहा कि अगर किसी को भी यह खेती करना हो हमसे आप मदद या ट्रेनिंग ले सकते हैं।

किसान नवीन और प्रवीण ने राज्य सरकार से मांग की है कि केसर की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी दी जाए। ताकि वह आसानी से इस फसल को उगा सकें। जिससे उनकी आय दोगुनी हो जाएगी। जिससे राज्य का हर किसान आर्थिक रूप से मजबूत होगा। साथ दोनों भाइयों ने कहा कि अगर किसी को भी यह खेती करना हो हमसे आप मदद या ट्रेनिंग ले सकते हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios