Asianet News Hindi

बदसूरत कह ताने मारते थे लोग, अब मर्दों को देती हैं पटखनी..पढ़िए बॉडी बिल्डर गर्ल्स की दिलचस्प कहानी

First Published Sep 24, 2020, 3:04 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

गुडगांव (हरियाणा). फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के खिलाड़ियों और दूसरे सेलेब्रिटीज से बात की। पीएम ने उनसे उनकी फिटनेस के बारे में पूछा। इसी बीच हम आपको एक ऐसी लेडी से मिलाने जा रहे हैं, जिनको एक समय लोग बदसूरत कहकर बुलाते थे। लेकिन आज यह आलम यह है कि वही लोग उनकी बॉडी देखकर डर जाते हैं। जिनकी बॉडी के सामने बॉलीवुड के कई स्टार्स पानी भरते नजर आते हैं। जानिए इनके बारे में और देखिए मिस इंडिया बॉडी बिल्डर की तस्वीरें...

दरअसल, हम बात कर रहे हैं देश-विदेश में अपनी पहचान बना चुकी 40 वर्षीय बॉडी बिल्डर यास्मीन चौहान की। जिन्होंने मिस एशिया बॉडी बिल्डिंग चैंपियनशिप जीतकर भारत का नाम रोशन किया है। वह साल 2016 में मिस इंडिया बॉडी बिल्डर का खिताब अपने नाम कर चुकी हैं।
 

दरअसल, हम बात कर रहे हैं देश-विदेश में अपनी पहचान बना चुकी 40 वर्षीय बॉडी बिल्डर यास्मीन चौहान की। जिन्होंने मिस एशिया बॉडी बिल्डिंग चैंपियनशिप जीतकर भारत का नाम रोशन किया है। वह साल 2016 में मिस इंडिया बॉडी बिल्डर का खिताब अपने नाम कर चुकी हैं।
 


बता दें कि यास्मीन मूल रूप से उत्तर प्रदेश की रहने वाली हैं, लेकिन इस समय वह अपने पति  के साथ गुड़गांव में रहती हैं। वह मिस इंडिया डबल्स में स्वर्ण और मिस एशिया चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली भारत की एकमात्र महिला हैं। 


बता दें कि यास्मीन मूल रूप से उत्तर प्रदेश की रहने वाली हैं, लेकिन इस समय वह अपने पति  के साथ गुड़गांव में रहती हैं। वह मिस इंडिया डबल्स में स्वर्ण और मिस एशिया चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली भारत की एकमात्र महिला हैं। 


एक इंटरव्यू के दौरान यास्मीन ने बताया था कि मैं बचपन से काफी पतली थी, वजन बढ़ाने के लिए इलाज भी कराया, लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ। लोग मुझको बदसूरत बोलते थे, लेकिन मैंने हार नहीं मानी, क्योंकि मुझको यकीन था कि एक दिन में जरूर खूबसूरत लगूंगी। अब वही लोग मेरी तारीफ करने से नहीं थकते हैं। यास्मीन आज के समय में अच्छे-अच्छे मर्दों की पटखनी लगाती हैं।


एक इंटरव्यू के दौरान यास्मीन ने बताया था कि मैं बचपन से काफी पतली थी, वजन बढ़ाने के लिए इलाज भी कराया, लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ। लोग मुझको बदसूरत बोलते थे, लेकिन मैंने हार नहीं मानी, क्योंकि मुझको यकीन था कि एक दिन में जरूर खूबसूरत लगूंगी। अब वही लोग मेरी तारीफ करने से नहीं थकते हैं। यास्मीन आज के समय में अच्छे-अच्छे मर्दों की पटखनी लगाती हैं।

यास्मीन ने कहा कि मैंने 17 की उम्र में जिम जाना शुरू कर दिया था। उस वक्त लड़कियों के लिए जिम जाना काफी मुश्किल था, लेकिन मे घरवालों ने मैरा हौंसला बढ़ाया और आगे बढ़ने के लिए सपोर्ट किया। इस दौरान कई लोग मुझे ताना मारते थे, लेकिन मैंने कभी उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया। फिर धीरे धीरे मेरी बॉडी के साथ साथ खूबसूरती भी दिखाई देने लगी।

यास्मीन ने कहा कि मैंने 17 की उम्र में जिम जाना शुरू कर दिया था। उस वक्त लड़कियों के लिए जिम जाना काफी मुश्किल था, लेकिन मे घरवालों ने मैरा हौंसला बढ़ाया और आगे बढ़ने के लिए सपोर्ट किया। इस दौरान कई लोग मुझे ताना मारते थे, लेकिन मैंने कभी उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया। फिर धीरे धीरे मेरी बॉडी के साथ साथ खूबसूरती भी दिखाई देने लगी।


बता दें कि यास्मीन गुड़गांव में अपना एक जिम चलाती हैं, जिसमें करीब 300 लड़के और लड़कियां आती हैं। वह बताती हैं कि पहली बार कोई जब जिम ज्वॉइन करने आता है तो वह मेरे बारे में जानकर हैरान हो जाता है। वह यही पूछते हैं कि आप लड़की होकर लड़कों की फिटनेस और बॉडी बनवाती हैं।  


बता दें कि यास्मीन गुड़गांव में अपना एक जिम चलाती हैं, जिसमें करीब 300 लड़के और लड़कियां आती हैं। वह बताती हैं कि पहली बार कोई जब जिम ज्वॉइन करने आता है तो वह मेरे बारे में जानकर हैरान हो जाता है। वह यही पूछते हैं कि आप लड़की होकर लड़कों की फिटनेस और बॉडी बनवाती हैं।  

यास्मीन खुद को मेहनती, मजबूत और फोकस्ड वुमेन मानती हैं। वे कहती हैं कि अगर मैंने अपने लिए कोई गोल डिसाइड कर लिया तो मुझे उसे पाने से कोई भी नहीं रोक सकता है।

यास्मीन खुद को मेहनती, मजबूत और फोकस्ड वुमेन मानती हैं। वे कहती हैं कि अगर मैंने अपने लिए कोई गोल डिसाइड कर लिया तो मुझे उसे पाने से कोई भी नहीं रोक सकता है।


यास्मीन ने के दिलो-दिमाग पर बस एक ही जुनून था, बॉडी बिल्डर बनना। जब बॉडी बनानी शुरू की तो लोगों ने उन्हें देख ट्रांसजेंडर कहकर पुकारने लगे। तो कोई उनका शरीर देखकर मर्द जैसा कहने लगा। यास्मीन ने सभी का जवाब अपनी मेहनत से दिया।


यास्मीन ने के दिलो-दिमाग पर बस एक ही जुनून था, बॉडी बिल्डर बनना। जब बॉडी बनानी शुरू की तो लोगों ने उन्हें देख ट्रांसजेंडर कहकर पुकारने लगे। तो कोई उनका शरीर देखकर मर्द जैसा कहने लगा। यास्मीन ने सभी का जवाब अपनी मेहनत से दिया।


यास्मीन चौहान आज के समय में जिम ट्रेनिंग के अलावा वह मॉडलिंग करती हैं। वह सरकार के कई विज्ञापन में भी नजर आ चुकी हैं।


यास्मीन चौहान आज के समय में जिम ट्रेनिंग के अलावा वह मॉडलिंग करती हैं। वह सरकार के कई विज्ञापन में भी नजर आ चुकी हैं।

 अपने पति के साथ बॉडी बिल्डर गर्ल्स यास्मीन चौहान।

 अपने पति के साथ बॉडी बिल्डर गर्ल्स यास्मीन चौहान।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios