Asianet News Hindi

पुलिस के सामने जमीन पर बैठ फूट-फूटकर रोया सुशील कुमार, जानिए कैसे गुजरी जेल में रात..नींद भी नहीं आई

First Published May 25, 2021, 1:22 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पानीपत (हरियाणा). देश के लिए ओलंपिक में मेडल जीतकर लाखों लोगों के रोल मॉडल बन चुके पहलवान सुशील कुमार अब सलाखों के पीछे हैं। दिल्ली पुलिस छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ की हत्या के मामले में गिरफ्तार सुशील कुमार और उनके साथी अजय बक्‍करवाला स पूछताछ कर रही है। इस दौरान जब क्राइम ब्रांच ने सुशील कुमार से कड़ाई से सवाल जवाब किए तो वह फर्श पर बैठ फूट फूटकर रोने लगा और खाना भी नहीं खाया। उसे देखकर ऐसा लगा जैसे उसे अपनी गलती का अहसास हो गया।


दरअसल, दिल्ली पुलिस सुशील कुमार को मॉडल टाउन थाने लेकर पहुंची जहां इस मामले की जांच कर रहे क्राइम ब्रांच के आयुक्त शिबेश सिंह और पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज ने करीब पांच घंटे पूछताछ की। बताया जाता है कि थाने पहुंचते ही पहलवान अपने लिए कुर्सी तलाशने लगा, लेकिन अधिकारियों ने सुशील और अजय को लॉकअप में डालने का कह दिया। इस दौरान वह सिर झुकाए बैठा रहा और  फूट-फूट कर रोता रहा। तनाव के चलते पूरी रात सुशील कुमार ने जागकर बिताई।


दरअसल, दिल्ली पुलिस सुशील कुमार को मॉडल टाउन थाने लेकर पहुंची जहां इस मामले की जांच कर रहे क्राइम ब्रांच के आयुक्त शिबेश सिंह और पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज ने करीब पांच घंटे पूछताछ की। बताया जाता है कि थाने पहुंचते ही पहलवान अपने लिए कुर्सी तलाशने लगा, लेकिन अधिकारियों ने सुशील और अजय को लॉकअप में डालने का कह दिया। इस दौरान वह सिर झुकाए बैठा रहा और  फूट-फूट कर रोता रहा। तनाव के चलते पूरी रात सुशील कुमार ने जागकर बिताई।

पूछताछ के दौरान सुशील कुमार ने पुलिस को बताया कि वह तो सिर्फ सागर को डराना चहाता था। इसिलए हम लोगो ने उसकी पिटाई की थी। वहीं वीडियो भी डराने के लिए बनवाया गया था। हमारा उसे मारने का कोई उद्देशय नहीं था। मारपीट के दौरान में आ गया था, कुछ देर बाद सूचना मिली की सागर की मौत हो गई। तो मैं डर के चलते भाग गया था। करीब 18 दिन तक इधर-उधर फरारी काटता रहा, आखिर कार दिल्ली लौट आया और अब आपके सामने हूं। 

पूछताछ के दौरान सुशील कुमार ने पुलिस को बताया कि वह तो सिर्फ सागर को डराना चहाता था। इसिलए हम लोगो ने उसकी पिटाई की थी। वहीं वीडियो भी डराने के लिए बनवाया गया था। हमारा उसे मारने का कोई उद्देशय नहीं था। मारपीट के दौरान में आ गया था, कुछ देर बाद सूचना मिली की सागर की मौत हो गई। तो मैं डर के चलते भाग गया था। करीब 18 दिन तक इधर-उधर फरारी काटता रहा, आखिर कार दिल्ली लौट आया और अब आपके सामने हूं। 


अभी तक की पुलिस जांच में सागर धनकड़ और सुशील कुमार के फ्लैट के पीछे हुए विवाद की वजह ही सामने आई है। जिसे जानने में पुलिस लगी हुई है, साथ ही  क्राइम ब्रांच यह भी जानना चाहती है कि फरारी के दौरान सुशील कुमार की किस-किस ने मदद की और वह कहां-कहां गया था। जल्द ही पुलिस सुशील को  छत्रसाल स्टेडियम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर जाएगी।
 


अभी तक की पुलिस जांच में सागर धनकड़ और सुशील कुमार के फ्लैट के पीछे हुए विवाद की वजह ही सामने आई है। जिसे जानने में पुलिस लगी हुई है, साथ ही  क्राइम ब्रांच यह भी जानना चाहती है कि फरारी के दौरान सुशील कुमार की किस-किस ने मदद की और वह कहां-कहां गया था। जल्द ही पुलिस सुशील को  छत्रसाल स्टेडियम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर जाएगी।
 


बता दें कि पहलवान सुशील कुमार का नाम पहले भी की विवादों में रह चुका है। चाहे फिर रियो ओलंपिक जाने का मामला हो या फिर नरसिंह का डोप टेस्ट या फिर प्रवीण राणा के साथ उनका विवाद रहा हो। वह किसी ना किसी वजह से विवादों की वचह से चर्चा में रहा है। कुश्ती की दुनिया का नायक बनने में जिसे सालों लग गए, लेकिन एक अपराध और उस एक लम्हें ने उसे खलनायक बन दिया।
 


बता दें कि पहलवान सुशील कुमार का नाम पहले भी की विवादों में रह चुका है। चाहे फिर रियो ओलंपिक जाने का मामला हो या फिर नरसिंह का डोप टेस्ट या फिर प्रवीण राणा के साथ उनका विवाद रहा हो। वह किसी ना किसी वजह से विवादों की वचह से चर्चा में रहा है। कुश्ती की दुनिया का नायक बनने में जिसे सालों लग गए, लेकिन एक अपराध और उस एक लम्हें ने उसे खलनायक बन दिया।
 


बताया जाता है कि इस पूरे हत्याकांड के पीछ की वजह दिल्ली के मॉडल टाउन के एम ब्लॉक का फ्लैट नंबर डी 10/6 है। जिसके चलते एक जुनियर रेसलर की हत्या हो गई। हालांकि बताया जाता है कि पहले पैसों के लेनदेन का मामूली विवाद था। सागर जिस  फ्लैट में रहता था, वह सुशील कुमार की पत्नी के नाम पर है और सागर में इसमें किराए से रहता था। सुशील ने सागर से किराया मांगा, लेकिन सागर ने देने से मना कर दिया। फिर इसके बाद सुशील ने  4 मई रात के करीब 11 बजे अपने दोस्तों को बुलाकर उसकी लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। बुरी तरह से सागर उसके साथी खून से लथपथ हो गए और सागर की हत्या कर दी।


बताया जाता है कि इस पूरे हत्याकांड के पीछ की वजह दिल्ली के मॉडल टाउन के एम ब्लॉक का फ्लैट नंबर डी 10/6 है। जिसके चलते एक जुनियर रेसलर की हत्या हो गई। हालांकि बताया जाता है कि पहले पैसों के लेनदेन का मामूली विवाद था। सागर जिस  फ्लैट में रहता था, वह सुशील कुमार की पत्नी के नाम पर है और सागर में इसमें किराए से रहता था। सुशील ने सागर से किराया मांगा, लेकिन सागर ने देने से मना कर दिया। फिर इसके बाद सुशील ने  4 मई रात के करीब 11 बजे अपने दोस्तों को बुलाकर उसकी लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। बुरी तरह से सागर उसके साथी खून से लथपथ हो गए और सागर की हत्या कर दी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios