Asianet News Hindi

जिसकी जन्म कुंडली में राहु बनाता है ये 3 शुभ योग, उसे अपनी लाइफ में सभी सुख मिलते हैं

First Published Mar 4, 2021, 12:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. राहु के बारे में माना जाता है कि वह कुंडली के जिस भाव में बैठता है या जिस ग्रह के साथ बैठता है, उसे खराब कर देता है। हालांकि, यह बात पूरी तरह सही नहीं है। हमेशा वक्री स्थिति में रहने वाला राहु अगर कुंडली में सही स्थिति में है या योगकारक है तो व्यक्ति के जीवन को नई ऊंचाई पर ले जाने में अहम भूमिका निभाता है। साथ ही जीवन की सभी बाधाओं को दूर कर देता है। हम यहां राहु से बनने वाले ऐसे ही कुछ योगों के बारे में बता रहे हैं...

1. अष्ट लक्ष्मी योग
जब राहु कुंडली के छठे भाव में और गुरु दशम भाव में हो तो अष्ट लक्ष्मी योग होता है। ऐसा राहु अपने पाप प्रभावों को त्यागकर गुरु के समान फल देने लगता है। ऐसा व्यक्ति अत्यधिक आस्थावान और ईश्वर के प्रति समर्पित होता है। इन्हें जीवन में यश और सम्मान हासिल होता है। ऐसा व्यक्ति कभी धन के अभाव में नहीं रहता है।

1. अष्ट लक्ष्मी योग
जब राहु कुंडली के छठे भाव में और गुरु दशम भाव में हो तो अष्ट लक्ष्मी योग होता है। ऐसा राहु अपने पाप प्रभावों को त्यागकर गुरु के समान फल देने लगता है। ऐसा व्यक्ति अत्यधिक आस्थावान और ईश्वर के प्रति समर्पित होता है। इन्हें जीवन में यश और सम्मान हासिल होता है। ऐसा व्यक्ति कभी धन के अभाव में नहीं रहता है।

2. परिभाषा योग
अगर राहु लग्न में या 3, 6, 11 में से किसी भी स्थान में हो तो परिभाषा योग का निर्माण होता है। ऐसे राहु पर शुभ ग्रह की दृष्टि होने से यह शुभ फलदायक होता है। जिन लोगों की कुंडली में ये योग होता है, उन्हें भी राहु के नकारात्मक प्रभावों का सामना नहीं करना पड़ता। ऐसे लोगों को जीवन भर आर्थिक लाभ मिलता रहता है। ऐसे लोगों के काम भी आसानी से बनते जाते हैं।

 

2. परिभाषा योग
अगर राहु लग्न में या 3, 6, 11 में से किसी भी स्थान में हो तो परिभाषा योग का निर्माण होता है। ऐसे राहु पर शुभ ग्रह की दृष्टि होने से यह शुभ फलदायक होता है। जिन लोगों की कुंडली में ये योग होता है, उन्हें भी राहु के नकारात्मक प्रभावों का सामना नहीं करना पड़ता। ऐसे लोगों को जीवन भर आर्थिक लाभ मिलता रहता है। ऐसे लोगों के काम भी आसानी से बनते जाते हैं।

 

3. लग्नकारक योग
लग्नकारक योग राहु द्वारा निर्मित शुभ योगों में से एक है। यह योग मेष, वृष और कर्क लग्न की कुंडलियों में बनता है, जब राहु दूसरे, नौवें या 10वें भाव में नहीं होता है। ऐसे लोगों को राहु शुभ फल देता है, उन्हें संकटपूर्ण स्थितियों का सामना ना के बराबर करना पड़ता है। इन लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी रहती है और जीवन भी सुखमय होता है।

3. लग्नकारक योग
लग्नकारक योग राहु द्वारा निर्मित शुभ योगों में से एक है। यह योग मेष, वृष और कर्क लग्न की कुंडलियों में बनता है, जब राहु दूसरे, नौवें या 10वें भाव में नहीं होता है। ऐसे लोगों को राहु शुभ फल देता है, उन्हें संकटपूर्ण स्थितियों का सामना ना के बराबर करना पड़ता है। इन लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी रहती है और जीवन भी सुखमय होता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios