गर्लफ्रेंड के संग बंकरनुमा किले में रहता था यह गैंगस्टर, गब्बरसिंह शैली की इसकी हंसी से डरते थे पुलिसवाले

First Published 10, Jul 2020, 5:55 PM

नागौर, राजस्थान. यूपी के गैंगस्टर विकास दुबे का एनकाउंटर मीडिया की सुर्खियों में है। अपने घर पर दबिश देने पहुंची पुलिस को घेरकर गोलीबारी करने वाले इस गैंगस्टर को पकड़ने कई राज्यों की पुलिस लगी हुई थी। विकास दुबे 8 पुलिसवालों की गोली मारकर हत्या करने के बाद से फरार था। उसे मप्र के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर से पकड़ा गया था। कानपुर ले जाते समय उसका एनकाउंटर कर दिया गया। पुलिस का तर्क है कि वो भागने की कोशिश कर रहा था। विकास के एनकाउंटर ने कई पुराने एनकाउंटर की याद ताजा करा दी। इसमें एक है राजस्थान के दुर्दांत गैंगस्टर आनंदपाल का एनकाउंटर। इसे 24 जून, 2017 को मार गिराया गया था। यह विकास दुबे से भी ज्यादा खतरनाक था। मुठभेड़ के दौरान भी इसने सरेंडर न करते हुए एके-47 जैसी राइफल से पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं। आनंदपाल पर भी विकास की तरह 5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था। हालांकि दोनों ही मामलों इन गैंगस्टर को राजनीति संरक्षण मिले होने की चर्चाएं हैं। आनंदपाल के एनकाउंटर के वक्त उसके समाज के हजारों लोगों ने आगजनी करते हुए आंदोलन किए थे। आनंदपाल नागौर के अपने बंकरनुमा किले में अपनी प्रेमिका के साथ रहता था। पुलिस से बचने जैसा इंतजाम विकास ने कर रखा था, ठीक वैसे ही आनंदपाल ने भी। लेकिन आनंदपाल के बारे में यह भी कहा जाता है कि वो अपने समुदाय के लोगों की खूब मदद किया करता था। आगे पढ़िए बाकी की कहानी..

<p>आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद प्रशासन ने उसकी करीब 150 करोड़ रुपए से ज्यादा की बेनामी सम्पत्ति कुर्क की थी।</p>

आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद प्रशासन ने उसकी करीब 150 करोड़ रुपए से ज्यादा की बेनामी सम्पत्ति कुर्क की थी।

<p>आनंदपाल नागौर सके लाडनू स्थित अपने बंकरनुमा फार्म हाउस में रहता था। यह फार्म हाउस 9 बीघा जमीन पर बना था।</p>

आनंदपाल नागौर सके लाडनू स्थित अपने बंकरनुमा फार्म हाउस में रहता था। यह फार्म हाउस 9 बीघा जमीन पर बना था।

<p>पुलिस से बचने फार्म हाउस में किसी पुराने किले की तरह बाहर निकले या छुपने के लिए बंकर थे। बंकर में तहखाना भी बना रखा था। पुलिस के अनुसार बंकर में उन्हें एक पिंजरा मिला था। माना जा रहा था कि आनंदपाल उसमें अपने दुश्मनों को बंद करके रखता था।</p>

पुलिस से बचने फार्म हाउस में किसी पुराने किले की तरह बाहर निकले या छुपने के लिए बंकर थे। बंकर में तहखाना भी बना रखा था। पुलिस के अनुसार बंकर में उन्हें एक पिंजरा मिला था। माना जा रहा था कि आनंदपाल उसमें अपने दुश्मनों को बंद करके रखता था।

<p>आनंदपाल लोगों की जमीनें हथिया लेता था। अगर कोई विरोध करता, तो उसे फिल्म अंदाज में यातनाएं देता था।</p>

आनंदपाल लोगों की जमीनें हथिया लेता था। अगर कोई विरोध करता, तो उसे फिल्म अंदाज में यातनाएं देता था।

<p>आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद उसके समुदाय के लोगों ने नागौर के सांवराद स्थित उसके गृहक्षेत्र में दंगे करा दिए थे।</p>

आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद उसके समुदाय के लोगों ने नागौर के सांवराद स्थित उसके गृहक्षेत्र में दंगे करा दिए थे।

<p>24 जून, 2017 को राजस्थान के सालासर में आनंदपाल एनकाउंटर में मारा गया था। इससे पहले उसने अपने दो साथियों के साथ मिलकर पुलिस पर एके-47 से 100 राउंड फायर किए थे। आनंदपाल को 6 गोलियां लगी थीं।</p>

24 जून, 2017 को राजस्थान के सालासर में आनंदपाल एनकाउंटर में मारा गया था। इससे पहले उसने अपने दो साथियों के साथ मिलकर पुलिस पर एके-47 से 100 राउंड फायर किए थे। आनंदपाल को 6 गोलियां लगी थीं।

<p>लोग कहते हैं कि आनंदपाल उर्फ पप्पू एक सीधा-सादा आदमी था। लेकिन गांववालों ने प्रताड़ित करके उसे खूंखार अपराधी बना दिया।</p>

लोग कहते हैं कि आनंदपाल उर्फ पप्पू एक सीधा-सादा आदमी था। लेकिन गांववालों ने प्रताड़ित करके उसे खूंखार अपराधी बना दिया।

<p>आनंदपाल खुद को अपने समुदाय के लिए मसीहा के तौर पर पेश करता था।</p>

आनंदपाल खुद को अपने समुदाय के लिए मसीहा के तौर पर पेश करता था।

<p>आनंदपाल शारीरिक तौर पर भी बलशाली था। इसलिए भी लोग उसे डरते थे।<br />
 </p>

आनंदपाल शारीरिक तौर पर भी बलशाली था। इसलिए भी लोग उसे डरते थे।
 

loader