मंगल के अशुभ फल से बचना चाहते हैं तो 26 मई को करें ये आसान उपाय

First Published 25, May 2020, 3:23 PM

उज्जैन. इस बार 26 मई, मंगलवार को ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है। इस दिन अंगारक चतुर्थी का योग बन रहा है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्‌ट के अनुसार, जिन लोगों की कुंडली में मंगल अशुभ है, वे अगर इस दिन कुछ खास उपाय करें तो उनकी परेशानियां कुछ कम हो सकती हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं-

<p>मंगल के अशुभ फल से बचने के लिए अंगारक चतुर्थी पर हनुमानजी की पूजा करें। हो सके तो सुंदरकांड का पाठ भी करें। संभव हो तो ये उपाय प्रति मंगलवार को करें।</p>

मंगल के अशुभ फल से बचने के लिए अंगारक चतुर्थी पर हनुमानजी की पूजा करें। हो सके तो सुंदरकांड का पाठ भी करें। संभव हो तो ये उपाय प्रति मंगलवार को करें।

<p>अंगारक चतुर्थी से शुरू कर प्रत्येक मंगलवार को बंदरों को गुड़ और चने खिलाएं। इससे मंगल का अशुभ फल कम हो सकता है।</p>

अंगारक चतुर्थी से शुरू कर प्रत्येक मंगलवार को बंदरों को गुड़ और चने खिलाएं। इससे मंगल का अशुभ फल कम हो सकता है।

<p>मसूर की दाल का दान करें या नदी में प्रवाहित करें। मंगलवार को मसूर की दाल खाने से बचें।</p>

मसूर की दाल का दान करें या नदी में प्रवाहित करें। मंगलवार को मसूर की दाल खाने से बचें।

<p>किसी योग्य ज्योतिषी से सलाह लेकर मंगल का रत्न मूंगा धारण करें। अंगूठी के लिए तांबे का उपयोग करें, क्योंकि ये मंगल की धातु है।</p>

किसी योग्य ज्योतिषी से सलाह लेकर मंगल का रत्न मूंगा धारण करें। अंगूठी के लिए तांबे का उपयोग करें, क्योंकि ये मंगल की धातु है।

<p>अंगारक चतुर्थी की सुबह स्नान आदि करने के बाद मंगलदेव की पूजा करें और रुद्राक्ष की माला से <strong>ऊं अं अंगारकाय नमः</strong> मंत्र का जाप करें।</p>

अंगारक चतुर्थी की सुबह स्नान आदि करने के बाद मंगलदेव की पूजा करें और रुद्राक्ष की माला से ऊं अं अंगारकाय नमः मंत्र का जाप करें।

<p>अंगारक चतुर्थी पर किसी मंदिर में लाल रंग का झंडा दान करें। इससे भी मंगल दोष में कमी आ सकती है।</p>

अंगारक चतुर्थी पर किसी मंदिर में लाल रंग का झंडा दान करें। इससे भी मंगल दोष में कमी आ सकती है।

loader