Asianet News Hindi

बिना कोचिंग के अनुराग ने 12वीं में पूरे प्रदेश में किया टॉप, IAS बनने का है ख्वाब; पिता चलाते हैं दुकान

First Published Jun 27, 2020, 3:02 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बागपत(Uttar Pradesh). यूपी बोर्ड के इंटर और हाईस्कूल का रिजल्ट घोषित हो गया है। हाईस्कूल और इंटर दोनों में ही बड़ौत के श्रीराम इंटर कॉलेज के छात्रों ने टॉप किया है। इंटर में अनुराग मलिक ने 97 फीसदी मार्क्स लाकर टॉप किया है जबकि हाईस्कूल में रिया जैन ने  96.67 फीसदी मार्क्स प्रदेश में पहला स्थान हासिल किया  है। अनुराग ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता व गुरुजनों को दिया है। वह आगे चलकर IAS बनना चाहते हैं।

यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में बागपत के बड़ौत इलाके के रहने वाले अनुराग मालिक ने प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त किया है। अनुराग के पिता प्रमोद मालिक घर के पास ही एक इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान चलाते हैं।
 

यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में बागपत के बड़ौत इलाके के रहने वाले अनुराग मालिक ने प्रदेश में पहला स्थान प्राप्त किया है। अनुराग के पिता प्रमोद मालिक घर के पास ही एक इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान चलाते हैं।
 

अनुराग ने बिना किसी कोचिंग का सहारा लिए ये मुकाम हासिल किया है। मीडिया से बातचीत के दौरान अनुराग ने बताया कि उनकी इस सफलता में मेहनत के साथ ही माता-पिता व गुरुजनों का आशीर्वाद भी शामिल है।

अनुराग ने बिना किसी कोचिंग का सहारा लिए ये मुकाम हासिल किया है। मीडिया से बातचीत के दौरान अनुराग ने बताया कि उनकी इस सफलता में मेहनत के साथ ही माता-पिता व गुरुजनों का आशीर्वाद भी शामिल है।

अनुराग का कहना है कि बचपन से ही उनकी तमन्ना कलेक्टर बनने की रही है। वह शुरू से अपना यही लक्ष्य मानकर पढ़ाई कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह 14 से 16 घंटे तक पढाई करते हैं। कभी-कभी ये समय 18 घंटे तक भी पहुंच जाता है।
 

अनुराग का कहना है कि बचपन से ही उनकी तमन्ना कलेक्टर बनने की रही है। वह शुरू से अपना यही लक्ष्य मानकर पढ़ाई कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह 14 से 16 घंटे तक पढाई करते हैं। कभी-कभी ये समय 18 घंटे तक भी पहुंच जाता है।
 

अनुराग ने इस सफलता के बाद भगवान का धन्यवाद देते हुए कहा कि मेरे साथ साथ परिजनों ने भी बहुत मेहनत की थी। पढ़ाई के दौरान मेरा ध्यान रखा। कब क्या पढ़ाना है इसका पूरा टाइम टेबल बनाया। अनुराग ने बताया कि उन्होंने कभी किसी विषय को ज्यादा या कम महत्व नहीं दिया,सारे विषयों को एक तरीके से ही पढ़ा।

अनुराग ने इस सफलता के बाद भगवान का धन्यवाद देते हुए कहा कि मेरे साथ साथ परिजनों ने भी बहुत मेहनत की थी। पढ़ाई के दौरान मेरा ध्यान रखा। कब क्या पढ़ाना है इसका पूरा टाइम टेबल बनाया। अनुराग ने बताया कि उन्होंने कभी किसी विषय को ज्यादा या कम महत्व नहीं दिया,सारे विषयों को एक तरीके से ही पढ़ा।

अनुराग ने बताया कि उनके परिजन बस एक ही चीज पर फोकस करते थे कि बेटा आआगे चलकर नाम रोशन करे। इसके लिए पूरे परिवार ने मेरा साथ दिया। मम्मी ने कभी मुझे एक भी काम करने को नहीं कहा। उन्होंने हमेशा खुद से सारे काम कर लिए ताकि मुझे पढ़ाई में डिस्टर्बेंस न हो। वह हमेशा सिर्फ पढ़ाई में मन लगाने के लिए प्रेरित करती थीं।

अनुराग ने बताया कि उनके परिजन बस एक ही चीज पर फोकस करते थे कि बेटा आआगे चलकर नाम रोशन करे। इसके लिए पूरे परिवार ने मेरा साथ दिया। मम्मी ने कभी मुझे एक भी काम करने को नहीं कहा। उन्होंने हमेशा खुद से सारे काम कर लिए ताकि मुझे पढ़ाई में डिस्टर्बेंस न हो। वह हमेशा सिर्फ पढ़ाई में मन लगाने के लिए प्रेरित करती थीं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios