पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की 5 तस्वीरें

First Published 7, Nov 2019, 2:37 PM IST

इस्लामाबाद. करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को पाकिस्तानी सेना ने झूठा साबित कर दिया है। पाकिस्तानी सेना ने कहा है कि करतापुर गलियारे के रास्ते करतारपुर साहिब आने वाले भारतीय सिख श्रद्धालुओं को अपने साथ पासपोर्ट लाना होगा। कुछ ही दिन पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने घोषणा की थी कि भारतीय श्रद्धालुओं को पवित्र गुरुद्वारा दरबार साहिब आने के लिए महज एक वैध पहचान-पत्र की जरूरत होगी। इन बयानों के बीच देखते हैं गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की तस्वीरें।

सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी ने करतारपुर साहिब में ही सिख समुदाय को एकजुट किया था।

सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी ने करतारपुर साहिब में ही सिख समुदाय को एकजुट किया था।

करतारपुर का पवित्र गुरुद्वारा पाकिस्तान के नारोवाल जिले में रावी नदी के किनारे स्थित है।

करतारपुर का पवित्र गुरुद्वारा पाकिस्तान के नारोवाल जिले में रावी नदी के किनारे स्थित है।

गुरुद्वारा की दूरी लाहौर से लगभग 120 किलोमीटर है। भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा से इसकी दूरी 4 किलोमीटर है।

गुरुद्वारा की दूरी लाहौर से लगभग 120 किलोमीटर है। भारत की अंतरराष्ट्रीय सीमा से इसकी दूरी 4 किलोमीटर है।

8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और 9 नवंबर को पाकिस्तान की तरफ से वहां के पीएम इमरान खान कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे।

8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और 9 नवंबर को पाकिस्तान की तरफ से वहां के पीएम इमरान खान कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे।

करतारपुर साहिब में ही गुरु नानक देव ने अपने जीवन के 17 साल से ज्यादा बिताए थे।

करतारपुर साहिब में ही गुरु नानक देव ने अपने जीवन के 17 साल से ज्यादा बिताए थे।

गुरुद्वारा दरबार साहिब में बाबा गुरु नानक देव के श्राइन में कार्यकर्ताओं ने फर्श की सफाई करते हुए।

गुरुद्वारा दरबार साहिब में बाबा गुरु नानक देव के श्राइन में कार्यकर्ताओं ने फर्श की सफाई करते हुए।

loader