Asianet News HindiAsianet News Hindi

हरियाणा में बड़ा हादसा: ट्रक ने किसान आंदोलन की महिलाओं को रौंदा, 3 की स्पॉट पर दर्दनाक मौत

हरियाणा के बहादुरगढ़ से सुबह-सुबह बड़े हादसे की खबर सामने आई है। जहां किसान आंदोलन की 5 महिलाओं को एक ट्रक ने तेज रफ्तार में कुचल दिया। जिसमें तीन की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं 2 की हालत गंभीर बनी हुई है।

haryana news bahadurgarh accident truck  over speeding women farmer 3 died on the spot kisan andolan
Author
Bahadurgarh, First Published Oct 28, 2021, 10:37 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बहादुरगढ़. हरियाणा के बहादुरगढ़ (Bahadurgarh Accident:)से सुबह-सुबह बड़े हादसे की खबर सामने आई है। जहां किसान आंदोलन की 5 महिलाओं ( women farmer)को एक ट्रक ने तेज रफ्तार में कुचल दिया। जिसमें तीन की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं 2 की हालत गंभीर बनी हुई है। आनन-फानन में उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं आरोपी ट्रक चालक टक्कर मारने के बाद भाग निकला। पुलिस ने मौके पर पहुंची मामले की कार्रवाई शुरू कर दी है। वहीं इस हादसे के बाद सड़क पर किसानों ने हंगामा भी शुरु कर दिया है।

यह भी पढ़ें-मुंबई-आगरा हाइवे पर कोहराम: आपस में टकराईं 8-10 गाड़ियां, अंदर फंसे कई लोग, 4 के मरने की खबर

डिवाइडर पर बैठीं थीं महिलाएं तभी मौत बनकर आया डंपर
दरअसल, यह भयानक एक्सीडेंट सुबह करीब 6 बजे झज्जर रोड पर हुआ। जहां किसान आंदोलन से लौंटी महिलाएं ऑटो के इंतजार में सड़क किनारे डिवाइडर पर बैठी हुई थीं। इसी दौरान सामने से एक डंपर तेज रफ्तार में आया और महिलाओं को ऊपर चढ़ गया। हादसा इतना भयानक था कि दो ने तो मौके पर ही दम तोड़ दिया, वहीं एक की अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई।

कातिल भैंसा! जिसने अपने मालिक को दर्दनाक मौत देकर मार डाला, फिर जो हुआ वह भी बड़ा शॉकिंग था

पंजाब की महिला किसान थीं, आंदोलन का थीं हिस्सा
जानकारी के मुताबिक, हादसे की शिकार हुईं पांचों महिलाएं पंजाब की रहने वाली थीं। वह  टिकरी बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में विरोध प्रदर्शन कर वापस अपने कैंप में लौंट रहीं थीं। इन्होंने अपना कैंप झज्जर रोड पर एक ब्रिज के पास बनाया हुआ है। मृतक महिलाओं की पहचान छिंदर कौर (60), अमरजीत कौर (58) और गुरमेल कौर (60) के रुप में हुई।

सीएम गहलोत के सामने मंच पर बोलते-बोलते कांग्रेस नेता की मौत, उपचुनाव में पहुंचे थे वोट मांगने

सरकार के खिलाफ डटी थीं तीनों 
बता दें कि पिछले एक साल यानि नवंबर 2020 से दिल्ली बॉर्डर पर केंद्र सरकार के लाए तीन कानूनों के विरोद में किसानों का आंदोलन चल रहा है। हादसे में मारे जानी वाली यह तीन महिलाएं इसी आंदोलन से जुड़ी थीं। ये महिलाएं रोटेशन के तहत अपने कैंप में जाने वाली थीं। जहां पर वह आराम करती थीं। क्योंकि इनके कैंप में पहुंचने के बाद दूसरा जत्था यहां पहुंचने के लिए रवाना होता था। लेकिन उससे पहले उनकी मौत हो गई।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios