Asianet News Hindi

निकिता मर्डर केस में सामने आया वेब सीरीज 'मिर्जापुर' कनेक्शन, तौसीफ बनना चाहता था विलेन मुन्ना भैया

तौसीफ ने एसआईटी के सामने कहा कि जिस तरह फिल्म मिर्जापुर में मुन्ना भैया (दिव्येंदु शर्मा)  एक लड़की स्वीटी (श्रेया पिलगांवकर) को गोली मार देता है। क्योंकि वह उससे एकतरफा प्यार करता है। ठीक इसी सीन से प्रेरित होकर तौसीफ ने निकिता के मर्डर का प्लान बनाया और हत्या कर दी। क्योंकि वो निकिता से बहुत करता था।

haryana news faridabad nikita murder case tousif murder plans by watching web series mirzapur kpr
Author
Faridabad, First Published Nov 1, 2020, 5:20 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

फरीदाबाद (हरियाणा). बल्लभगढ़ के निकिता हत्याकांड तूल पकड़ता जा रहा है, रविवार को समाज के लोगों ने महापंचायत की। जिसमें दिल्ली एनसीआर और उत्तरप्रदेश हरियाणा से भारी संख्या में लोग जमा हुए। इस दौरान भीड़ ने फरीदाबाद-बल्लभगढ़ हाईवे को जाम कर दिया। वह हाथों में बैनर-पोस्टर लिए हुए आरोपी को फांसी पर लटकाने की मांग कर रहे थे। वहीं इस मामले में आरोपी तौसीफ ने एसआईटी के सामने चौंका देने वाला खुलासा किया है। अपना गुनाह कबूलते हुआ का कि उसने फिल्म वेब सीरीज 'मिर्जापुर' देखकर निकिता की हत्या करने की योजना बनाई थी।

मिर्जापुर में मुन्ना भैया से प्रेरित था आरोपी तौसीफ
तौसीफ ने एसआईटी के सामने कहा कि जिस तरह फिल्म मिर्जापुर में मुन्ना भैया (दिव्येंदु शर्मा)  एक लड़की स्वीटी (श्रेया पिलगांवकर) को गोली मार देता है। क्योंकि वह उससे एकतरफा प्यार करता है। ठीक इसी सीन से प्रेरित होकर तौसीफ ने निकिता के मर्डर का प्लान बनाया और हत्या कर दी। क्योंकि वो निकिता से बहुत करता था, उससे शादी करना चाहता था, लेकिन निकिता उसको पसंद नहीं करती थी।

 

कंगना ने कहा बॉलीवुड को शर्म आनी चाहिए 
वेब सीरीज देखकर हत्या करने के मामले पर एक्ट्रेस कंगना रानोट का बॉलवुड फिल्म को लेकर गुस्सा टूट पड़ा है। उन्होंने फिल्मों पर सवाल खड़े करते हुए  कहा कि बॉलीवुड भलाई से ज्यादा नुकसान पहुंचा रहा है। हैरान की बात यह है कि जब  नकारात्मक किरदार निभाने वाले एक्टर को फिल्म मेकर एक हीरो की तरह दिखाते हैं तो ऐसी घटनाएं होती हैं। ऐसा ही देखने को मिलता है जब आप अपराध का महिमामंडन करते हैं। ऐसे में बॉलीवुड को शर्म आनी चाहिए जो भलाई से ज्यादा नुकसान कर रहा है।

 

8 प्वाइंट मेंः निकिता मर्डर केस की पूरी कहानी...

- 26 अक्टूबर को फरीदाबाद के बल्लभगढ़ के अग्रवाल कॉलेज में पेपर देकर लौट रही 21 साल की छात्रा निकिता की गोली मारकर हत्या कर दी गई। नूंह से कांग्रेस विधायक आफताब आलम के चचेरे भाई तौसीफ ने अपने दोस्त रेहान के साथ मिलकर सोमवार शाम 4 बजे घटना को अंजाम दिया।

- निकिता बी कॉम थर्ड ईयर की स्टूडेंट थी। पेपर देकर लौट रही निकिता को बीच रास्ते तौसीफ ने गाड़ी में खींचने की कोशिश की। इनकार करने पर तौसीफ ने उसे गोली मार दी। घटना के 5 घंटे बाद पुलिस ने तौसीफ और रेहान को गिरफ्तार कर लिया। दोनों दो दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। बता दें, मुख्य आरोपी फिजियोथैरेपी का कोर्स कर रहा है।

- फरीदाबाद पुलिस की 10 टीम ने 5 घंटे में दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने मोबाइल नंबर बंद नहीं किया था। वह लगातार कुछ लोगों के संपर्क में थे। इसलिइए पुलिस के राडार से वो बच नहीं पाया।

- बता दें, तौसीफ 12वीं तक निकिता के साथ ही पढ़ा था। वो निकिता पर दोस्ती और धर्म बदलने के लिए दबाव बनाता था। कहता था, मुस्लिम बन जाओ, हम शादी कर लेंगे। 2018 में वो एक बार निकिता को किडनैप कर चुका है।

- 3 अगस्त 2018 को तौसीफ ने 3-4 सहेलियों के साथ निकिता को जबरदस्ती कार में बैठाया था। कुछ दूरी पर सहेलियों को उतारकर निकिता को किडनैप कर ले गया था। सहेलियों और परिजनो ने पुलिस को निकिता के अपहरण की जानकारी दी थी। जिसके बाद पुलिस ने 2 घंटे में उसे बरामद कर लिया था।

- पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह ने बताया, घटना की जांच के लिए एसीपी क्राइम अनिल कुमार की अगुवाई में एसआईटी गठित कर दी गई है।

- बता दें, तौसीफ का परिवार पॉलिटिकली स्ट्रॉन्ग है। दादा कबीर अहमद पूर्व विधायक जबकि चचेरे भाई आफताब आलम मेवात जिले की नूंह सीट से कांग्रेस विधायक हैं। इतना ही नहीं, आफताब के पिता खुर्शीद अहमद हरियाणा सरकार में मंत्री रह चुके हैं। चाचा जावेद अहमद बसपा से जुड़े हैं।

- निकिता के पिता मूलचंद तोमर 25 साल पहले यूपी के हापुड़ जिले से बल्लभगढ़ आए थे। निकिता भाई-बहनों में छोटी थी। बड़ा भाई नवीन सिविल सर्विस की तैयारी कर रहा है, जबकि निकिता सेना में भर्ती होना चाहती थी।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios