कम उम्र में शादी ले रही है जान! डिप्रेशन और सुसाइड की शिकार हो रही हैं जवान होती बेटियां

| Nov 26 2022, 08:40 AM IST

कम उम्र में शादी ले रही है जान! डिप्रेशन और सुसाइड की शिकार हो रही हैं जवान होती बेटियां
कम उम्र में शादी ले रही है जान! डिप्रेशन और सुसाइड की शिकार हो रही हैं जवान होती बेटियां
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

भारत के अभी भी कई हिस्सों में कम उम्र की लड़कियों की शादी करा दी जाती है। बाल विवाह अपराध की श्रेणी में होने के बाद भी माता-पिता बिना किसी डर के उनका विवाह करा देते हैं। जिसका खामियाजा बेचारी बच्चियों को भुगतना पड़ रहा है। वो डिप्रेशन की शिकार हो रही हैं। इसका खुलासा  द लैंसेट मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में हुआ है।

हेल्थ डेस्क. शादी के लिए लड़का और लड़की दोनों को शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से परिवक्व होना चाहिए। लेकिन कम उम्र की लड़कियों की शादी उन्हें मानसिक तौर पर अस्वस्थ कर रहा है। वो डिप्रेशन में जा रही हैं। जिसके चलते वो सुसाइड कर लेती हैं या कोशिश करती हैं। द लैंसेट मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में हैरान करने वाला खुलासा हुआ है।ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न स्थित किशोर स्वास्थ्य केंद्र के शोधार्थियों ने यह स्टडी  पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के साथ मिलकर किया है।

यूपी और बिहार में बच्चियों की हालत सबसे बुरी
स्टडी के मुताबिक यूपी और बिहार में बाल विवाह की हालत एक जैसी है। इन राज्यों में 24 प्रतिशत यानी एक चौथाई लड़कियों का समय से पहले विवाह होने पर उनमें मानसिक हेल्थ से जुड़ी समस्याएं और आत्महत्या का प्रयास करने जैसे मामले सामने आए हैं। जिन लड़कियों ने आत्महत्या का विचार किया या कोशिश की, उनका विवाह उन लड़कियों की तुलना में जल्दी हुआ, जिन्हें अवसाद नहीं था, या फिर वो सुसाइड करने की कोशिश नहीं की थी।

Subscribe to get breaking news alerts

16 प्रतिशत लड़कियों की शादी कम उम्र में होती है

बेटियों के लिए जल्दी शादी और मानसिक स्वास्थ्य को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही थी। लेकिन किसी अध्यन ने इसकी पुष्टि नहीं की थी। लेकिन अब जाकर यह साबित हो गया है। बता दें कि भारत में 15 से 19 साल के बीच 16 प्रतिशत लड़कियों की शादी होती है। आंकड़ों को देखें तो 
भारत समेत दक्षिण एशिया में एक-तिहाई लड़कियों की शादी 18 साल की उम्र से पहले कर दी जाती है।  8% की शादी 15 साल से पहले हो जाती है। भारत में विश्वस्तर पर बाल वधुओं का एक तिहाई हिस्सा है, जिसमें 15-19 साल की 16% लड़कियों की शादी होती है।

बाल विवाह घरेलू हिंसा और अनचाही प्रेग्नेंसी का जोखिम पैदा करता है

अध्ययन में 7864 किशोरियों को शामिल किया गया।  जिनमें 1,825 (23%) का विवाह सर्वे के दौरान ही हुआ। 11 प्रतिशत नवविवाहिता ने बताया कि वो स्कूल नहीं जा पाई क्योंकि घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। वहीं,37 प्रतिशतने अवसाद के चलते सुसाइड करने का मन में विचार लाया या फिर कोशिश की। 61 प्रतिशत  वविवाहित लड़कियां बिहार में पिछड़ा वर्ग, जनजाति या फिर गरीब परिवारों से थीं। 24प्रतिशथ सामान्य वर्ग परिवारों से थीं। शोधकर्ता डॉ. शिल्पा अग्रवाल ने बताया कि बाल विवाह से घरेलू हिंसा और अनचाही प्रेग्नेंसी का जोखिम पैदा होने लगता है। जिसकी वजह से लड़कियों में आत्महत्या का लक्षण दिखाई देने लगता है।  

और पढ़ें:

भारत में भी Same-Sex मैरेज को मिलेगी कानूनी मान्यता? SC याचिका पर सुनवाई को तैयार

NATIONAL MILK DAY 2022: दूध पीने के फायदे तो सुने होंगे, लेकिन इसके 5 नुकसान क्या आपको पता है