Asianet News HindiAsianet News Hindi

ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली मां को न्यूट्रिशन से जुड़ी 4 बातों का रखना चाहिए खास ख्याल,न्यूट्रिशनिस्ट से लें Tips

देश में 1 से 7 सितंबर तक नेशनल न्यूट्रिशन वीक 2022(National Nutrition Week 2022)मनाया जाता है। पूरे सप्ताह पोषण के बारे में सरकार की तरफ से जागरुकता फैलाने का काम किया जाता है। हेल्दी रहने के लिए डाइट में जरूरी पोषण शामिल करना बहुत जरूरी है।

National Nutrition Week 2022 importance of nutrition during pregnancy and breastfeeding time diet tips NTP
Author
First Published Sep 1, 2022, 5:15 PM IST

हेल्थ डेस्क.भारत में हर साल 1 से 7 सितंबर को ‘नेशनल न्यूट्रिशन वीक 2022’ मनाया जाता है। पूरा हफ्ता खानपान और पोषण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए समर्पित होता है। सेमिनार, प्रोग्राम, कैम्प्स का आयोजन सरकार और एनजीओ द्वारा की जाती है। जिसमें महिलाओं-पुरुषों को हेल्दी जीवन के लिए सही पोषण तत्व की जानकारी दी जाती है। न्यूट्रिशन वीक पर हम बात करेंगे स्तनपान कराने वाली महिलाओं के पोषण के बारे में।

देश में लाखों महिलाएं और बच्चे कुपोषण की शिकार हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के खानपान में पोषण तत्वों की कमी रहने के कारण शरीर में कैल्शियम, आयरन की कमी हो जाती है। जिसे मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचता है। खासकर बच्चों पर तब ज्यादा असर होता है जब उन्हें मां का दूध पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता है। मां को उचित पोषण नहीं मिलने की वजह से सही मात्रा में दूध नहीं बनता है और बच्चा भूखा रह जाता है। इसके अलावा कुछ महिलाएं वजन कम करने के चक्कर में सही पोषण इस दौरान नहीं लेती हैं। 

नई मां की उचित देखभाल जरूरी

जब घर में नन्हा मेहमान आता है तो अपने साथ कई सारी जिम्मेदारियां भी लेकर आता है। बच्चे से जुड़े बहुत सारे कामों के बीच बेहद ज़रूरी हो जाता है कि नई मां के पोषण का भी खयाल खास तौर पर रखा जाए। ताकि उसमें न्यूट्रिएंट्स (Nutrition for new mom) की कमी न रह जाए।क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट अंशुल जयभारत ने बताया कि नई मां को कौन से 4 स्टेप फॉलो करने चाहिए जिससे शिशु को पोषक तत्वों से भरपूर दूध मिल सकें और नई मां की हेल्थ भी बनी रहे।

स्तनपान कराने वाली मां को चार बातों का रखना चाहिए ख्याल

अंशुल जयभारत ने सबसे पहले बताया कि नई मां को दिन में पर्याप्त पानी पीना चाहिए। दूसरा की वजन कम करने के लिए डाइटिंग बिल्कुल ना करें। तीसरा जीरा, मेथी, दूध जैसे गलैक्टोगॉग को डाइट में शामिल करना चाहिए। इसके साथ मां को भरपूर आराम देने की जरूरत होती है।

गर्भवती महिला को आयरन और फॉलिक एसिड युक्त डाइट लेना चाहिए

इसके अलावा वो बताती हैं कि गर्भवती महिला को हैवी खाने की बजाय संतुलित मात्रा में पोषण तत्वों को डाइट में शामिल करना चाहिए। आयरन और फॉलिक एसिड से भरपूर फूड्स को खाना चाहिए। एक खाने से दूसरे खाने के बीच ज्यादा गैप नहीं रखना चाहिए। आयरन के लिए  हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, चुकंदर, अनार, ड्राई फ्रूट्स, अनाज, अंडा, रेड मीट, अमरूद गर्भवती महिला डाइट में ले सकती हैं। वहीं, गर्भावस्था में कुछ महिलाओं को कब्ज की शिकायत होती है। इसलिए फाइबर से भरपूर फूड्स लेना चाहिए। जैसे संतरा, नींबू, रैस्पबेरीज, नाशपाती, स्ट्रॉबेरी, अंजीर, अमरूद, चोकर युक्त आटा, साबुत अनाज आदि खाए। पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए।

और पढ़ें:

3 मिनट से ज्यादा खड़ी नहीं हो पाती ये महिला, 24 घंटे में 10 बार होती है बेहोश

बिना एक्सरसाइज के मिलेगा परफेक्ट फिगर, बस किचन में करें ये 5 चीजें शामिल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios