Asianet News Hindi

Angelina Jolie ने की विंस्टन चर्चिल की बेशकीमती और यादगार पेंटिंग की नीलामी, बिकी इतने करोड़ में

विंस्टन चर्चिल द्वारा बनाई गई मोरक्को की एक लैंडस्केप पेंटिंग हॉलीवुड एक्ट्रेस एंजेलिना जोली ने सोमवार को बेच दी। एंजेलिना ने इस पेंटिंग की नीलामी की थी, जिसमें इस पेंटिंग की सबसे ज्यादा कीमत 84 करोड़ रुपए लगाई गई। 1945 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट के  निधन के बाद उनके बेटे ने ये पेंटिंग बेच दी थी। इसके बाद इसे कई लोगों ने खरीदा। 2011 में इसे एंजेलिना और उनके ब्वॉयफ्रेंड ब्रैड पिट ने खरीदा था।

angelina jolie sold painting made by winston churchill for 84 crore rupee here is detail KPJ
Author
London, First Published Mar 3, 2021, 5:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई/लंदन. द्वितीय विश्व युद्ध के चर्चित नेता और पेंटर विंस्टन चर्चिल  (winston churchill) द्वारा बनाई गई मोरक्को की एक लैंडस्केप पेंटिंग हॉलीवुड एक्ट्रेस एंजेलिना जोली (angelina jolie) ने सोमवार को बेच दी। एंजेलिना ने इस पेंटिंग की नीलामी की थी, जिसमें इस पेंटिंग की सबसे ज्यादा कीमत 84 करोड़ रुपए लगाई गई। चर्चिल द्वारा बनाई गई इस पेंटिंग ने कीमत के मामले में अपना पिछला रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है। कौटूबिया टावर की ये पेंटिंग लंदन के क्रिस्टी में पेंटिंग को बेचा गया। बिक्री से पहले इसकी कीमत लगभग 1.5 से 2.5 पाउंड के बीच लगाई गई थी। कीमत के मामले में चर्चिल की पिछली पेंटिंग का रिकॉर्ड 1.8 पाउंड था, जो पेंटिंग एंजेलिना ने बेची है, उसमें 12वीं शताब्दी में सूर्यास्त के समय एक मस्जिद को दिखाया गया है, जिसमें बैकग्राउंड में एटलस के पहाड़ दिख रहे हैं।


एंजेलिना ने खरीदी थी 10 साल पहले
1945 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट के  निधन के बाद उनके बेटे ने ये पेंटिंग बेच दी थी। इसके बाद इसे कई लोगों ने खरीदा। 2011 में इसे एंजेलिना और उनके ब्वॉयफ्रेंड ब्रैड पिट ने खरीदा था, लेकिन 2019 में ये दोनों अलग हो गए। इस पेंटिंग को एंजेलिना फैमिली कलेक्शन ने यहां बेचा है। हालांकि, इस पेंटिंग को किसने खरीदा है इसकी जानकारी सामने नहीं आई है। 

बता दें कि लंदन के क्रिस्टी में टावर ऑफ द कोउटोउबिया मॉस्क में पेंटिंग को बेचा गया है। ये पेंटिंग राजनैतिक और हॉलीवुड के इतिहास में बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। 1939-45 के संघर्ष के दौरान चर्चिल द्वारा बनाई गई थी। इसे जनवरी 1943 के कैसाब्लांका सम्मेलन के बाद पूरा किया गया था। जहां चर्चिल और अमेरिकी राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट ने नाजी जर्मनी की हार की योजना बनाई थी। दोनों नेताओं ने कॉन्फ्रेंस के बाद मार्राकेच का दौरा किया था। चर्चिल ने रूजवेल्ट की यात्रा को यादगार के रूप में पेंटिंग दी। पेंटिंग को रूजवेल्ट के बेटे ने 1945 में राष्ट्रपति की मौत के बाद बेच दिया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios