Asianet News HindiAsianet News Hindi

ग्रहों का युवराज है बुध ग्रह, इसे मानते हैं बहुत ही शुभ, साल 2022 में कब-कब राशि बदलेगा ये ग्रह

ज्योतिष में सभी नव ग्रहों में हर एक ग्रह का अपना खास महत्व होता है। बुध ग्रह को सभी ग्रहों में युवराज का दर्जा प्राप्त है। ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह को एक तटस्थ और शुभ ग्रह माना गया है। बुध ग्रह अन्य ग्रहों के स्वभाव के साथ ही अपना फल देते हैं।

Astrology Mercury Planet effect of planet Mercury Mercury Planet 2022  More about astrology MMA
Author
Ujjain, First Published Dec 3, 2021, 7:43 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. बुध जब गुरु, शुक्र, सूर्य और चंद्रमा के साथ रहते हैं तो शुभ फल देते है जबकि गुरु, राहु-केतु, मंगल और शनि के साथ होने पर उनके प्रकृति के अनुसार अशुभ फल प्रदान करते हैं। ज्योतिष में बुध ग्रह को बुद्धि, वाणी, निवेश संवाद, कला, गणित और ज्ञान के कारक ग्रह माना गया है। बुध ग्रह सूर्य, शुक्र और चंद्रमा के मित्र और चंद्रमा और मंगल के शुत्र का भाव रखते हैं।

बुध से बिजनेस में मिलती है सफलता
- वाणी के ग्रह बुध मिथुन और कन्या राशि के स्वामी होते हैं जबकि कन्या राशि इनकी उच्च राशि और मीन नीच की राशि होती है। अगर बुध किसी भी जातक की कुंडली में मजबूत भाव में रहते हैं तो व्यक्ति की बुद्धि और वाणी बहुत ही तीव्र होती है। 
- बली बुध व्यक्ति को व्यापार में सफल बनाता है। ऐसे लोग जिनका बुध बली होता है वे संवाद और संचार के क्षेत्र में सफलता और मान सम्मान प्राप्त करते हैं।जिन जातकों की कुंडली में बुध कमजोर होते है वे दिमागी रूप से थोड़ा किसी विषय को देर से समझ पाते हैं। ऐसे व्यक्ति को कारोबार में ज्यादा मुनाफा नहीं प्राप्त होता है।
- बुध बुद्धि के देवता के रूप में पूजे जाते हैं। बुध ग्रह उत्तर और कुबेर देवता का प्रतिनिधित्व करते हैं। बुध बुद्धि और कौशल के देवता माने गए है जिस कारण बुध ग्रह की उपासना और इनसे जुड़े उपाय करने पर लोगों का बुद्धि और उनके कारोबार में अच्छी सफलता प्राप्ति होती है।
बुध ग्रह किसी एक राशि से दूसरी राशि में आने के लिए करीब 20 दिनों का समय लगाते हैं। 

जानिए साल 2022 में बुध ग्रह कब-कब बदलेगा राशि?
जनवरी- साल की शुरूआत में बुध मकर राशि में रहेगा, 14 जनवरी को इसी राशि में वक्री हो जाएगा। 
फरवरी- 4 फरवरी को बुध वक्री से पुन: मार्गी हो जाएगा। 
मार्च- 6 को बुध ग्रह मकर से निकलकर कुंभ में प्रवेश करेगा। इसके बाद 24 को पुन: राशि परिवर्तन कर मीन राशि में प्रवेश करेगा।
अप्रैल- 8 को बुध ग्रह मीन राशि से निकलकर मेष में प्रवेश करेगा। इसके बाद 24 अप्रैल को वृष राशि में। 
मई- 10 मई को बुध ग्रह वृष राशि में ही वक्री हो जाएगा। 
जून- 4 जून को बुध वृष राशि में पुन: मार्गी हो जाएगा।
जुलाई – 2 को बुध मिथुन में, इसके बाद 16 को कर्क में और 31 जुलाई को सिंह राशि में प्रवेश करेंगे। 
अगस्त - 20 को बुध ग्रह कन्या राशि में प्रवेश करेगा। 
सितंबर – 10 को कन्या राशि में वक्री होगा बुध। 
अक्टूबर- 1 को सिंह राशि में वक्री, इसके बाद 2 को मार्गी होकर कन्या राशि में प्रवेश करेगा। 26 को तुला राशि में प्रवेश करेगा।
नवंबर – बुध ग्रह 13 नवंबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा।
दिसंबर – 2 को बुध ग्रह धनु राशि में प्रवेश करेगा। इसके बाद 27 को मकर में, 29 से वक्री और 31 से धनु में वक्री रहेगा।
 

ज्योतिषीय उपायों के बारे में भी पढ़ें

4 दिसंबर को शनिदेव के साथ करें शिव और हनुमानजी की भी पूजा, मिलेगा परेशानियों से छुटकारा


Shanishchari Amavasya 2021: 4 दिसंबर को करें ये काम, दूर होंगे पितृ और शनि दोष के अशुभ प्रभाव

Shanishchari Amavasya 2021: शनिश्चरी अमावस्या 4 दिसंबर को, इस दिन करें राशि अनुसार उपाय, दूर होंगी परेशानियां

शुद्ध जल में तुलसी के पत्ते डालकर करें ये आसान उपाय, दूर हो सकती हैं आपकी परेशानियां

मंगल और कालसर्प दोष के कारण आती हैं जीवन में परेशानियां, जानिए ये कब बनते हैं और उपाय

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios