Asianet News HindiAsianet News Hindi

Ganesh Chaturthi: 02 सितंबर को विराजेंगे गणपति, इस दिन बन रहे कई शुभ योग

इस बार गणेश चतुर्थी (2 सितंबर, सोमवार) पर शुक्ल, रवियोग और चतुर्ग्रही शुभ योग बन रहे हैं।

Ganesh Chaturthi : Lord Ganesh will visit on 2nd September, this day will witness many Shubh Yogs
Author
Ujjain, First Published Aug 28, 2019, 2:50 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. इस बार गणेश चतुर्थी (2 सितंबर, सोमवार) पर एक नहीं कई शुभ योग बन रहे हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार इस साल गणेश चतुर्थी पर ग्रह-नक्षत्रों की शुभ स्थिति से शुक्ल और रवियोग बन रहे हैं। इनके साथ ही सिंह राशि में चतुर्ग्रही योग भी बन रहा है। यानी सिंह राशि में सूर्य, मंगल, बुध और शुक्र हैं। सितारों की इस शुभ स्थिति के कारण ये त्योहार और भी महत्वपूर्ण हो जाएगा। ग्रह-नक्षत्रों के इस शुभ संयोग में गणेश स्थापना होने से समृद्धि और सुख-शांति मिलेगी। वहीं भक्तों की मनोकामना भी पूरी होगी।

पूरे दिन रहेगा चित्रा नक्षत्र
2 सितंबर, सोमवार को दिन की शुरुआत हस्त नक्षत्र में होगी और गणेश स्थापना चित्रा नक्षत्र में की जाएगी। मंगल के इस नक्षत्र में चंद्रमा होने से शुभ फल प्राप्त होते हैं। चित्रा नक्षत्र और चतुर्थी का संयोग सुबह लगभग 8 बजे से शुरू होगा और पूरे दिन तक रहेगा। शुक्ल और रवियोग बनने से दिन और भी खास हो जाएगा।

अभिजीत मुहूर्त में करें गणेश स्थापना 
भाद्रपद महीने के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को मध्याह्न के समय गणेश जी का जन्म हुआ था। इसलिए भगवान गणेश की स्थापना और पूजा का सबसे श्रेष्ठ समय मध्याह्न काल ही माना गया है। मध्याह्न यानी दिन का दूसरा प्रहर जो कि सूर्योदय के लगभग 3 घंटे बाद शुरू होता है और लगभग 12 या साढ़े 12 बजे तक रहता है। गणेश चतुर्थी पर मध्याह्न काल में अभिजित मुहूर्त के संयोग पर गणेश स्थापना की जा सकती है, जो कि सुबह लगभग 11.55 से दोपहर 12.40 तक रहेगा। इसके अलावा पूरे दिन शुभ संयोग होने से सुविधा अनुसार किसी भी शुभ लग्न या चौघड़िया मुहूर्त में गणेश स्थापना की जा सकती है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios