Asianet News HindiAsianet News Hindi

धनु से मकर राशि में आया गुरु, कुंडली में अशुभ है ये ग्रह तो करें ये आसान उपाय

29 मार्च, रविवार से गुरु ग्रह राशि बदल चुका है। पहले ये ग्रह धनु राशि में था, अब ये ग्रह राशि परिवर्तन कर मकर राशि में आ चुका है।

jupiter enters capricorn from saggitarius, do these remedies for inauspicious planets in your kundli KPI
Author
Ujjain, First Published Mar 31, 2020, 10:28 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. गुरु ग्रह धनु और मीन राशि का स्वामी है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार देवगुरु बृहस्पति पीत वर्ण यानी पीले रंग के हैं। उनके सिर पर सोने का मुकुट और गले में माला है। वे पीले रंग के वस्त्र धारण करते हैं और कमल के आसन पर विराजते हैं। उनके चार हाथ हैं और चारों हाथों में दंड, रुद्राक्ष की माला, पात्र और वरदमुद्रा है।

सभी 12 राशियों पर गुरु ग्रह असर

  • गुरु की वजह से मेष, कन्या, वृश्चिक, धनु, मकर और मीन राशि के लिए समय शुभ रहेगा। इन लोगों को भाग्य का साथ मिलेगा और धन लाभ मिल सकता है।
  • मिथुन, सिंह, तुला और कुंभ राशि के लोगों के लिए ये समय संभलकर रहने का रहेगा। लापरवाही से बचें और धैर्य बनाए रखें।
  • वृषभ और कर्क राशि के लोगों पर इन ग्रहों का सामान्य असर रहेगा। इन्हें अपनी मेहनत के अनुसार फल मिलेगा।

गुरु के अशुभ असर से बचने के लिए क्या करें

  • गुरु ग्रह एक राशि में करीब 13 माह रुकता है। कभी-कभी इसकी वक्री स्थिति के कारण ये समय कम ज्यादा भी हो सकता है।
  • इस ग्रह की महादशा सोलह वर्ष की होती है। इस ग्रह के अशुभ असर से बचने के लिए हर गुरुवार पीला वस्त्र, हल्दी, घी, अनाज का दान करें।
  • गुरु मंत्र ऊँ बृं बृहस्पतये नमः का जाप करें। गुरुवार को तांबे के लोटे में केसर मिश्रित जल भरें और ये जल शिवलिंग पर चढ़ाएं।
Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios