उज्जैन. घर के लोग और वहां का वातावरण ही एक मकान को घर बनाते हैं। वास्तु शास्त्र भी इस बात से इत्केफाक रखता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, हर घर का अपना एक आभा (ओरा) मंडल होता है। घर के अंदर की और बाहर की बहुत सी बातें इसे प्रभावित करती हैं। घर में रहने वाले लोग भी इससे प्रभावित होते हैं। हम आपको वास्तु के कुछ ऐसे ही आसान टिप्स बता रहे हैं, जो आपके घर के ओरा मंडल को नेगेटिव एनर्जी से बचा सकते हैं।

1. घर का मुख्य दरवाजा हमेशा साफ-सुथरा रखें। उसके आस-पास भी गंदगी नहीं होनी चाहिए। मेन डोर पर पर्याप्त रोशनी का भी ध्यान रखें।

2. घर के मेन डोर के ऊपर गणेशजी की मूर्ति लगाएं या ऊँ लिखवाएं। ऐसा करना शुभ होता है।

3. घर के नैऋत्य कोण में अंधेरा नहीं होना चाहिए और ये भी ध्यान रखें कि वायव्य कोण में तेज रोशनी का बल्ब न लगा हो।

4. घर के आस-पास यदि कोई सूखा पेड़ या ठूंठ है तो उसे तुरंत हटा दें। इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है।

5. घर का प्लास्टर उखड़ा हुआ नही होना चाहिए। यदि कहीं से थोड़ा सा भी प्लास्टर उखड़ जाए तो तुरंत उसे दुरुस्त करवाएं।

6. घर की छत पर फालतू सामान न रखें। यदि जरुरी हो तो एक कोने में रखें। ऐसा सामान घर के आभामंडल को प्रभावित करता है।

7. घर के आस-पास कोई गंदा नाला, गंदा तालाब, शमशान घाट या कब्रिस्तान नहीं होना चाहिए। इससे भी आभामंडल प्रभावित होता है।

8. घर कितना ही पुराना हो, समय-समय पर उसकी मरम्मत, रंग-रोगन आदि करवाते रहना चाहिए ताकि घर में और घर के वातावरण में नयापन व ताजगी बनी रहे।