बालाघाट (मध्य प्रदेश). जहां एक तरफ कोरोना पॉजिटिव आए लोगों के लिए घरवाले जल्द ठीक होने की दुआ मांग रहे हैं। लेकिन, वहीं मध्य प्रदेश में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। जहां क्वारैंटाइन सेंटर से घर लौटे बेटे की घर घुसने से पहले ही पिता ने मौत के घाट उतार दिया।

पिता ने डंडा मार बेटे को मार डाला
दरअसल, यह खौफनाक वारदात बालाघाट के गढ़ी थाने क्षेत्र में 1 मई को हुई। जहां क्वारैंटाइन सेंटर से घर लौटे बेटे को घर में घुसने से मना किया। दोनों के बीच इस बात को लेकर काफी समय तक विवाद भी हुआ। कहासुनी के बाद पिता ने बेटे के सिर में डंडा मार मौत के घाट उतार दिया।

कोरोना के डर से बेटे को नहीं घुसने दिया था
मामले की जानकारी लगते ही पुलिस ने आरोपी पिता भीमा पंचतिलक को हिरासत में ले लिया। जहां उसने बताया कि कोरोना के डर से उसने बेटे यानी टेकचंद को घर में नहीं घुसने दिया था। क्योंकि गांववाले इस बात को लेकर विवाद कर रहे थे। मैंने उससे कहा था कि पहले गांववालों से पूछ लूं, लेकिन वह नहीं माना और जबरन घुसने लगा। 

कुछ दिन पहले औरंगाबाद से आया था घर
जानकारी के मुताबिक, मृतक बेटा टेकचंद पंचतिलक पिछले दिनों औरंगाबाद से लौटा था। जहां स्वास्थ्य विभाग ने उसको सुरक्षा के चलते  क्वारैंटाइन सेंटर में रखा था। लेकिन जब उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई तो डॉक्टरों ने उसको घर जाने के लिए कह दिया था।