Asianet News HindiAsianet News Hindi

सरकार को 'आश्रम' पर आपत्ति : गृहमंत्री ने कहा - झा डालें 'प्रकाश', ऐसा क्यों हुआ?..

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने वेब सीरीज पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस फिल्म का नाम आश्रम ही क्यों रखा गया? वेब सीरीज का नाम बदला जाना चाहिए। आखिर हमारी भावनाओं को आहत करने वाले दृश्यों को फिल्माते ही क्यों हो?

madhya pradesh, home minister narottam mishra said prakash jha should change ashram 3 name
Author
Bhopal, First Published Oct 25, 2021, 4:15 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में वेब सीरीज आश्रम-3 (Ashram-3)की शूटिंग पर बवाल जारी है। रविवार को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने डायरेक्टर प्रकाश झा (prakash jha) पर ना केवल स्याही फेंकी, बल्कि शूटिंग में लगे कर्मचारियों को भी पीटा। जिसके बाद मामले ने सियासी तूल पकड़ लिया। अब सरकार ने भी इसको लेकर ऐतराज जताया है। सोमवार को प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने वेब सीरीज पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस फिल्म का नाम आश्रम ही क्यों रखा गया? वेब सीरीज का नाम बदला जाना चाहिए।

गृहमंत्री ने क्या कहा
नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अब जल्द ही सरकार फिल्म के लिए गाइडलाइन बनाएगी। इस गाइडलाइन के तहत पहले फिल्ट की स्टोरी को प्रशासन को देकर अनुमति लेनी होगी। अगर फिल्म में कोई आपत्तिजनक सीन है या फिर किसी धर्म को आहत करने वाला सीन है तो उसके हटाने के बाद ही फिल्मांकन की अनुमति दी जाएगी।

 

ऐसे सीन फिल्माते ही क्यों हो?
नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आखिर हमारी भावनाओं को आहत करने वाले दृश्यों को फिल्माते ही क्यों हो? हिम्मत है तो दूसरे धर्म के बारे में करके दिखाओ। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में शूटिंग करने वालों का स्वागत है, लेकिन इस तरह नहीं। फिल्म आश्रम का नाम बदलने को लेकर उन्होंने कहा कि मैं नाम बदले जाने का पक्षधर हूं। आखिर फिल्म का नाम आश्रम ही क्यों? किसी दूसरे धर्म पर नाम रख कर बताओ। 

 

बीजेपी माफी मांगे - कांग्रेस 
वहीं कांग्रेस ने इस घटना के बाद बीजेपी पर हमला बोला है। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने ट्विटर पर लिखा कि मध्यप्रदेश के भोपाल में वेब सीरीज की शूटिंग टीम पर हमले की घटना बेहद निंदनीय है, इससे प्रदेश की छवि खराब हुई है। भाजपा और उससे जुड़े संगठन इस तरह के कृत्यों से प्रदेश की छवि को खराब कर प्रदेश का नुकसान कर रहे हैं, रोजगार को प्रभावित कर रहे हैं। बीजेपी इसके लिए माफी मांगे।

 

दिग्विजय सिंह भी हमलावर हुए
वहीं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ने भी बजरंग दल को गुंडों का दल कहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी, गृहमंत्री जी मध्यप्रदेश की जनता आपके पाले हुए गुंडों को कब तक बर्दाश्त करेगी। बजरंग दल संघ का आपराधिक प्रवृत्ति का दल है। भोपाल फिल्मों की शूटिंग के लिए काफी लोकप्रिय हो गया है। प्रकाश झा ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माता है। क्या प्रकाश झा की यूनिट को भोपाल पुलिस द्वारा संरक्षण नहीं देना जाना चाहिए था।

 

रामेश्वर शर्मा का पलटवार
दिग्विजय सिंह के इस बयान पर पलटवार करते हुए हुजूर से विधायक रामेश्वर शर्मा (Rameshwar Sharma) ने कहा कि आश्रम पर वेब सीरीज बनाने वाले क्या कभी मदरसों पर वेब सीरीज बनाने की औकात रखते हैं। ईद पर जबलपुर में पुलिस पर हमला करने वाले क्या थे, राजा साहब? शांति दूत? उस दिन आपकी ट्विटर की चिड़िया क्यों नहीं चहकी?

 

अब साधु-संत भी विरोध में उतरे
वहीं अब प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के वेब सीरीज आश्रम नाम को लेकर आपत्ति जताने के बाद सांधु-संत भी इसके नाम को लेकर सड़कों पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं। वे भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) से मिलकर इस पर अपनी आगे की रणनीति तैयार कर रहे हैं। इधर, बजरंग दल ने एक बार फिर प्रकाश झा को चेतावनी देते हुए आगाह किया है कि अगर नाम नहीं बदल जाता तो वह अपने तरीके से समझाएंगे। फिलहाल पुलिस ने एसएएफ की दो कंपनियों को मौके पर तैनात कर दिया है।

यह है पूरा मामला
बता दें कि वेब सीरीज आश्रम -3 की शूटिंग इन दिनों भोपाल (bhopal) के अलग- अलग लोकेशन पर चल रही है। इसी वेब सीरीज का एक हिस्सा जहांगीराबाद के अरेरा हिल्स पर स्थित पुरानी जेल में फिल्माया जाना था। इसके लिए बाकायदा पूरी यूनिट काम कर थी। एक्टर बॉबी देओल (Bobby Deol) और डायरेक्टर प्रकाश झा अपनी वैनिटी वेन में थे। शाम करीब साढ़े 6 बजे बजरंग दल के करीब तीन सौ के करीब लोग पुरानी जेल के बाहर प्रदर्शन करने पहुंच गए थे। बजरंग दल के लोगों ने जमकर बाहर हंगामा मचाया, जब सुरक्षा कर्मियों ने उनको हंगामा करने से रोका तो उन्होंने प्रकाश झा से मुलाकात की बात रखी है, इस पर प्रकाश झा हंगामा करने वालों को मुलाकात करने को राजी हो गए। इस दौरान उनके साथ झूमाझटकी कर उन पर स्याही फेंक दी थी। 

चार लोग गिरफ्तार
इस मामले में पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की है। इस मामले में अभिजीत, जीवन शर्मा, दिलीप और करण को गिरफ्तार किया। प्रकाश झा अब इस मामले में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं। एक दिन पहले हंगामे के बाद प्रकाश झा के सुरक्षाकर्मियों ने मीडिया द्वारा लिए गए फोटो और वीडियो को डिलीट करवा दिया था। उन्होंने अब तक पुलिस से कोई शिकायत नहीं की है। DIG इरशाद वली ने बताया कि झा ने पुलिस को कोई शिकायत नहीं की है। हम मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

रात तीन बजे शूटिंग
वहीं, विरोध और हंगामा होने के बाद भी शूटिंग जारी है। इसे रोका या बंद नहीं किया गया है। पुरानी जेल में ही रात करीब तीन बजे तक सीरीज के लोकेशन से संबंधित सीन को फिल्माया गया। बताया जाता है कि रात को ही प्रमुख कलाकार, कैमरा और अन्य सामान दूसरी लोकेशन पर शिफ्ट कर दिया गया, हालांकि बसें अब भी पुरानी जेल में खड़ी हैं। सोमवार सुबह टेंट हाउस वाले अपना सामान समेट कर ले गए।

इसे भी पढ़ें-मुश्किल में समीर वानखेड़े: उनके खिलाफ भष्टाचार की जांच शुरू, फिर भी रौब में अफसर,बोले-वर्दी किसी की जागीर नहीं

इसे भी पढ़ें-पिता लालू की बिहार में एंट्री से पहले तेजप्रताप धरने पर, कहा-'मेरा भाई ऐसे में कभी गद्दी पर नहीं बैठ पाएगा''

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios