Asianet News HindiAsianet News Hindi

ये क्या बोल गए शिवसेना नेता गीते-Backstabber शरद पवार मेरे गुरु नहीं हो सकते, उन्होंने कांग्रेस को धोखा दिया

महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार (Maha Vikas Aghadi Government) में कुछ ठीक नहीं चल रहा। शिवसेना नेता अनंत गीते ने शरद पवार को लेकर एक विवादास्पद बयान (controversial statement) दिया है।

Backstabber Sharad Pawar cant be our guru, shivsena Sena leader Anant Geete statement
Author
New Delhi, First Published Sep 21, 2021, 2:12 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार (Maha Vikas Aghadi Government) में कलह बाहर आने लगी है। बेशक शिवसेना, कांग्रेस और NCP तीनों मिलकर सरकार चला रहे हैं, लेकिन समय-समय पर इनके नेताओं में मतभेद सामने आते रहे हैं। अब पूर्व केंद्रीय मंत्री और शिवसेना नेता अनंत गीते ने शरद पवार को लेकर विवादास्पद बयान दिया है।

पीठ में छुरा घोंपने वाला मेरा गुरु नहीं
शिवसेना नेता अनंत गीते ने शरद पवार को पीठ में छुरा घोंपने वाला (Backstabber) बताया है। गीते ने कहा कि शरद पवार उनके गुरु नहीं हो सकते हैं। गीते महाराष्ट्र के रायगढ़ में एक कार्यक्रम के दौरान बोल रहे थे। गीते ने कहा कि आने वाले पंचायत चुनावों में शिवसेना अकेले ही अपने उम्मीदवार उतारेगी। शिवसेना का फोकस ग्राम पंचायत, पंचायत समिति और जिला पंचायत चुनावों पर है।

सरकार सिर्फ एक समझौता
PTI न्यूज एजेंसी ने गीते के हवाले से कहा कि महाविकास अघाड़ी सिर्फ एक समझौता है। जब तक ये सरकार चल रही है, वे साथ हैं। गीते ने दो टूक कहा कि शरद पवार ने कांग्रेस को धोखा देकर अपनी पार्टी बनाई है। अगर कांग्रेस और NCP एक नहीं हो सकते हैं, तो शिवसेना भी पूरी तरह से कांग्रेस की राह पर नहीं चल सकती है।

NCP से हार चुके हैं अनंत गीते
बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में अनंत गीते NCP के उम्मीदवार सुनील तटकरे से बहुत कम वोटों के अंतर से हार गए थे। इस समय तटकरे की बेटी अदिति महाराष्ट्र सरकार में राज्य मंत्री है। गीते ने कहा कि लोग पवार की जो चाहें वाहवाही करें, लेकिन उनके गुरु सिर्फ बालासाहेब ठाकरे हैं।

सरकार को लेकर कोई बुरी मंशा नहीं
हालांकि गीते ने स्पष्ट किया कि उनके मन में सरकार को लेकर कोई बुरी मंशा नहीं है। वे तो यही चाहते हैं कि सरकार चले। उल्लेखनीय है कि 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद शिवसेना और भाजपा के रिश्ते बिगड़ गए थे। जबकि शिवसेना और भाजपा 2014 से 2019 तक साथ में सरकार चलाते रहे।

यह भी पढ़ें
पंजाब सीएम चन्नी का ऐलान: जनता बाहर खड़ी रहे और कलक्टर अंदर चाय पीये, ऐसा नहीं चलेगा, बेरोकटोक मिलेगी जनता
महंत नरेंद्र गिरी Suicide Mystery: आज होगा अंतिम संस्कार; ब्लैकमेल किए जाने की बात आई सामने
Rajya Sabha elections: केंद्रीय मंत्री मुरुगन ने भरा नामांकन; शिवराज बोले-मप्र की धरती पर उनका दिल से स्वागत 

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios