दिल्ली: सुभेंदु बनर्जी को श्रद्धांजलि देने के लिए होगा साइकिल राइड का आयोजन

| Dec 03 2022, 06:14 PM IST

दिल्ली: सुभेंदु बनर्जी को श्रद्धांजलि देने के लिए होगा साइकिल राइड का आयोजन

सार

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के महिपालपुर फ्लाईओवर पर सड़क हादसे में सुभेंदु बनर्जी की मौत हो गई थी। उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए साइकिल राइड का आयोजन किया जा रहा है।

नई दिल्ली। 27 नवंबर को दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के महिपालपुर फ्लाईओवर पर साइकिल चला रहे सुभेंदु बनर्जी को एक बीएमडब्ल्यू कार ने टक्कर मार दी थी। हादसे में सुभेंदु की मौत हो गई थी। उनकी याद में रविवार (4 दिसंबर) को साइकिल राइड का आयोजन किया गया है। इसमें दिल्ली एनसीआर के आसपास के कई साइकिलिंग ग्रुप शामिल होंगे। 

साइकिल राइड गुरुग्राम के संस्कार चौक से शुरू होगी और नई दिल्ली में मैसूर कैफे, तीन मूर्ति मार्ग के पास समाप्त होगी। राइड में साइकिल चालक शुभेंदु के दोस्त और परिवार के लोग शामिल होंगे। शुभेंदु साइकिल राइडर थे। उनको श्रद्धांजलि देने के लिए गुरुग्राम के लगभग 100 और शेष दिल्ली एनसीआर के 200 साइकिल राइडर जुटेंगे।

Subscribe to get breaking news alerts

साइकिल राइड आयोजित करने के उद्देश्य

  • साइकिल चलाने वाले लोगों की सुरक्षा की ओर सरकार और लोगों का ध्यान आकर्षित करना।
  • दिल्ली में सड़कों पर साइकिल लेन बनाने की वकालत। 
  • साइकिल चलाने वालों के लिए उचित बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराने की मांग और साइकिलिंग को एक खेल के रूप में बढ़ावा देना।
  • ट्रैफिक के नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए सख्त कानूनों की जरूरत पर प्रकाश डालना।
  • मौजूदा सीमित साइकिलिंग लेन को ठीक कराने की मांग करना। 

यह भी पढ़ें- दिल्ली आबकारी नीति में मनीष सिसोदिया को करना होगा कानून का सामना, संबित पात्रा बोले-घूसखोरी के लिए बनाई नीति

बीएमडब्ल्यू ने मारी थी टक्कर 
बता दें कि साइकिल चला रहे शुभेंदु चटर्जी को एक बीएमडब्ल्यू कार ने टक्कर मार दी थी। कार का एक टायर फट गया था, जिसके बाद ड्राइवर उसे कंट्रोल नहीं कर सका था। शुभेंदु गुरुग्राम के सेक्टर 49 में रहते थे। चटर्जी की दिल्ली में गारमेंट की फैक्ट्री थी। वह गुरुग्राम में रहते थे। वह पिछले 10 साल से साइकिल चला रहे थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी और 20 साल की एक बेटी है। 

यह भी पढ़ें- बेंगलुरू में बेलगाम ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात के लिए एक और पहल, स्कूल बसों के लिए टाइमिंग फिक्स