Asianet News HindiAsianet News Hindi

बेखौफ आतंकवादी: पीर पंजाल रेंज में आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई में JCO समेत 5 जवान शहीद

पिछले कुछ दिनों से आतंकी गतिविधियां बढ़ गई है। आतंकवादी लगातार नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। आतंकवाद के सफाए के लिए सेना और स्थानीय सुरक्षा बल भी अभियान चला रहे हैं। 

Jammu Kashmir: Soldiers including JCO killed in a counter Terrorist operation in Rajaouri sector
Author
Srinagar, First Published Oct 11, 2021, 12:44 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

श्रीनगर। आतंक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सेना के पांच जांबाज शहीद हो गए हैं। शहीद होने वालों में एक जेसीओ समेत पांच सिपाही हैं। एजेंसियों के अनुसार पीर पंजाल रेंज में राजौरी सेक्टर में आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान कार्रवाई में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) और चार सैनिक मारे गए हैं।


डिफेंस पीआरओ ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आज आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान भारतीय सेना के एक जेसीओ और 4 जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें निकटतम चिकित्सा सुविधा ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया

तलाशी अभियान जारी

उन्होंने बताया कि खुफिया सूचनाओं के आधार पर, भारतीय सेना ने सोमवार की सुबह जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले के सुरनकोट अधिकार क्षेत्र में डीकेजी के करीब के गांवों में घेरा और तलाशी अभियान शुरू किया था। अभी भी आतंकियों से मुठभेड़ जारी है। 

NIA ने रविवार को डाला था 16 जगहों पर रेड

आतंकवादी संगठनों पर शिकंजा कसने NIA भी ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। NIA ने रविवार को जम्मू-कश्मीर में 16 जगहों पर छापेमारी की थी। ये छापे श्रीनगर, अनंतनाग, कुलगाम और बारामूला में मारे गए। दरअसल, वॉइस ऑफ हिंद मैगजीन के पब्लिकेशन पर मारे गए छापे में खुलासा हुआ था कि ये मैगजीन गलत समाचारों के जरिये लोगों को भड़का रही है। मैगजीन फरवरी, 2020 से हर महीने ऑनलाइन पब्लिश हो रही है। इसके बाद NIA ने ताबड़तोड़ कई जगह छापे मारे।

आतंकवादियों ने आम नागरिकों को बनाया निशाना

आतंकवादियों ने 7 अक्टूबर को श्रीनगर के ईदगाह इलाके में एक स्कूल में घुसकर दो टीचरों प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चांद की हत्या कर दी थी। आतंकियों ने दोनों के आईडी कार्ड चेक करने के बाद उनके सिर में गोली मारी थी। 

इससे पहले श्रीनगर के इकबाल पार्क क्षेत्र में प्रसिद्ध फार्मासिस्ट माखनलाल बिंद्रू को आतंकियों ने उनके मेडिकल स्टोर में घुसकर गोली मार दी थी। 68 साल के बिंद्रू ने 90 के दशक में भी कश्मीर नहीं छोड़ा था, जब आतंकवाद चरम पर था। 

बिंद्रू पर हमला करने से घंटेभर पहले आतंकवादियों ने अवंतीपोरा के हवला इलाके में बिहार के वीरेंद्र पासवान की हत्या कर दी थी। मूलत: भागलपुर के रहने वाले वीरेंद्र भेलपूरी और गोलगप्पे का ठेला लगाते थे। वीरेंद्र की हत्या से कुछ मिनट पहले आतंकवादियों ने बांदीपोरा के मो. शफी लोन की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

यह भी पढ़ें:

इंडियन स्पेस एसोसिएशन के उद्घाटन पर बोले पीएम मोदी- 21वीं सदी में दुनिया को एकजुट करने के लिए स्पेस सबसे अहम

जम्मू-कश्मीर में एनआईए की रेड: कर्नाटक में दामुदी की गिरफ्तारी के बाद तेज हुई कार्रवाई

भारत में ब्लैक आउट का खतरा: केंद्रीय उर्जा मंत्री ने टाटा पॉवर व गेल को चेताया-गैर जिम्मेदाराना संदेश देंगे तो होगी कार्रवाई

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios