नई दिल्ली. कोरोना महामारी में लॉकडाउन के दौरान ट्रेन में 30 से ज्यादा डिलीवरी कराई गई है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने बताया, भारतीय रेलवे ने अपने डॉक्टर भेजकर ट्रेन में 30 से ज्यादा डिलीवरी कराई हैं। भारतीय रेलवे के डॉक्टरों और नर्सों ने 24 घंटे काम करके जहां जरूरत है वहां पहुंच कर डिलीवरी कराई और अस्पताल घर में शिफ्ट किया। 

28 मई तक 3840 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं
विनोद कुमार ने बताया, 28 मई तक 3840 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चली हैं। करीब 52 लाख यात्री जा चुके हैं। पिछले एक हफ्ते का औसत 1,524 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें और करीब 20 लाख यात्रियों का है। पिछले एक हफ्ते में हमने प्रतिदिन करीब 3 लाख प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया।

ओरिजनेटिंग राज्य से ट्रेनों की मांग कम हुई
विनोद कुमार यादव ने बताया, रेलवे ओरिजनेटिंग राज्य (जिस राज्य से ट्रेन चलती है) की मांग के हिसाब से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें उपलब्ध करा रहा है और धीरे-धीरे ऐसा लग रहा है कि ओरिजनेटिंग राज्य की मांग कम होने लगी है। 24 मई को हमने सब राज्य सरकारों से उनकी ट्रेनों की जरूरत ली थी, ये करीब 923 ट्रेनों की थी। कल हमने फिर राज्य सरकारों से बात करके उनकी ट्रेनों की जरूरत ली, आज केवल 449 ट्रेनों की जरूरत है।