Asianet News HindiAsianet News Hindi

मोदी सरकार के मंत्रियों की जन आशीर्वाद यात्राः 6 दिन, 19 राज्य, 265 जिले और 1663 सभाएं

संसद सत्र के दौरान विपक्ष ने हंगामा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने इन मंत्रियों का परिचय नहीं कराने दिया था। इसके बाद भाजपा ने इन मंत्रियों की देश भर में जन आशीर्वाद निकालने का फैसला किया। बीजेपी के महासचिव तरुण चुग ने इस जन आशीर्वाद यात्रा का खाका तैयार किया।

Modi Government new ministers 'Jan Ashirwad Yatra', Know the full schedule of programme
Author
New Delhi, First Published Aug 13, 2021, 11:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। मानसून सत्र के दौरान सदन में अपना परिचय नहीं दे सके मंत्री अब सीधे जनता के बीच में जाकर अपना परिचय देंगे। बीजेपी ने विपक्ष की रणनीतिक तौर पर मात देने के लिए अपने मंत्रियों को जनता के बीच में जाकर अपनी बात रखने की चाल चली है। ‘जनआशीर्वाद यात्राओं’ के जरिए नए बने केंद्रीय मंत्री जनता के बीच पहुंचेंगे। सभी मंत्रियों की मिलकर 6 दिनों में 1663 सभाएं भी होंगी।

इस तरह जनता में जाएंगे मोदी के मंत्री

दरअसल, संसद सत्र के दौरान विपक्ष ने हंगामा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने इन मंत्रियों का परिचय नहीं कराने दिया था। इसके बाद भाजपा ने इन मंत्रियों की देश भर में जन आशीर्वाद निकालने का फैसला किया। बीजेपी के महासचिव तरुण चुग ने इस जन आशीर्वाद यात्रा का खाका तैयार किया।

उन्होंने बताया कि भाजपा ने नए 39 मंत्री तीन दिन यात्रा करेंगे और कुल 212 लोकसभा क्षेत्रों को कवर कर 19567 किमी का फासला तय करेंगे। राज्यमंत्री 16, 17 व 18 अगस्त को और केंद्रीय मंत्री 19, 20 व 21 अगस्त को यात्रा करेंगे। यह यात्रा 19 राज्य व 265 जिले भी कवर करेगी। इसमें 1663 सभाएं होंगी। कुछ राज्यों में यह पांच से सात दिन भी चलेगी।

ये लोग भी भाग लेंगे यात्राओं में

यात्राओं में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, उप मुख्यमत्रियों के साथ सांसद व विधायक भी हिस्सा लेंगे। इन यात्राओं के जरिए सरकार की दो साल की उपलब्धियों खासकर कोराना काल में किए गए काम को ले जाया जाएगा। साथ ही टीकाकरण को लेकर जागरुकता भी लाई जाएगी।

चूंकि, यात्रा प्रधानमंत्री के 15 अगस्त के भाषण व आजादी के 75 साल के शुरू होने पर होगी, इसलिए वह संदेश भी दिया जाएगा। भाजपा ने इस बार यात्रा का स्वरूप इस तरह तय किया है ताकि अधिकतम लोग, कम समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सकें और ज्यादा से ज्यादा भौगोलिक क्षेत्र को कवर किया जा सके।

यह भी पढ़ें:

पाकिस्तान का फिर ‘भारत-अलाप': चीनी नागरिकों पर हमले का दोष भारतीय एजेंसियों पर मढ़ा

इंद्र 2021ः आतंकवाद के खात्मे के लिए भारत-रूस साथ-साथ बढ़ा रहे कदम

फंस गई ममता बनर्जी...तो क्या पांच नवम्बर के बाद देंगी इस्तीफा!

Make in India: स्वदेशी क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, मिसाइल export कर भारत कमाएगा 5 ट्रिलियिन डॉलर

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios