Asianet News HindiAsianet News Hindi

भारी बारिश ने झारखंड-उड़ीसा में काफी हद तक पानी की कमी पूरी की, जानिए IMD ने आगे क्या भविष्यवाणी की है

झारखंड और उड़ीसा सहित पश्चिम बंगाल के लिए सितंबर जबर्दस्त बारिश लेकर आया है। इन राज्यों के कई इलाके सूखे का शिकार थे, लेकिन भारी बारिश ने काफी हद तक पानी की कमी पूरी कर दी है। आगे भी भारी बारिश का अलर्ट है।

Monsoon Update, Heavy rains in eastern states, Meteorological Department issues heavy rain alert in many states kpa
Author
First Published Sep 13, 2022, 7:52 AM IST

मौसम डेस्क. भारी बारिश ने पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और झारखंड में काफी हद तक पानी की कमी पूरी कर दी है। इन राज्यों में फिर भारी बारिश की चेतावनी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने आजकल में पश्चिम बंगाल, उत्तरी ओडिशा, झारखंड, बिहार के कुछ हिस्सों, मध्य प्रदेश, गुजरात के कुछ हिस्सों, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र और तटीय कर्नाटक में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। उत्तराखंड में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है।

(यह तस्वीर पश्चिम बंगाल की है। नदिया में हुगली नदी के ऊपर घने बादल मंडरा रहे हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, 13 सितंबर को ओडिशा, छत्तीसगढ़, विदर्भ और पूर्वी और पश्चिमी मध्य प्रदेश में भारी बारिश के साथ गरज और बिजली गिरने की संभावना है। आईएमडी ने भविष्यवाणी की है कि महाराष्ट्र में बारिश बढ़ने की संभावना है और यह 14 सितंबर तक जारी रहेगी)

इन राज्यों में हल्की या मध्यम बारिश का अलर्ट
मौसम विभाग ने आजकल में पूर्वोत्तर भारत के उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल सिक्किम आंतरिक उड़ीसा, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, गुजरात के शेष हिस्सों, बिहार, उत्तर प्रदेश, दक्षिण और दक्षिणपूर्व राजस्थान और मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश का अलर्ट जारी किया है। जम्मू संभाग, कश्मीर, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, लद्दाख, आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, लक्षद्वीप और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की बारिश संभव है।

इन राज्यों में बीते दिन हुई बारिश
स्काईमेट वेदर(skymet weather) के अनुसार, पिछले दिन गंगीय पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश के उत्तरी तट, दक्षिण मध्य प्रदेश, विदर्भ और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश दर्ज की गई। पश्चिम बंगाल के शेष हिस्सों, आंतरिक ओडिशा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों, असम, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, सिक्किम, तटीय आंध्र प्रदेश, केरल के कुछ हिस्सों, लक्षद्वीप, गुजरात, राजस्थान के कुछ हिस्सों, जम्मू और कश्मीर में हल्की से मध्यम बारिश हुई। राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, आंतरिक कर्नाटक और शेष पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में बारिश हुई। जबकि तटीय कर्नाटक, कोंकण और गोवा के कुछ हिस्सों, मध्य महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई।

भारी बारिश ने बंगाल, उड़ीसा और झारखंड में काफी हद तक पानी की कमी पूरी की
सोमवार को कम दबाव का क्षेत्र बनने से गंगीय पश्चिम बंगाल के अधिकांश हिस्सों, ओडिशा और झारखंड के अधिकांश जिलों में भारी बारिश हुई। इस बारिश ने इन राज्यों में बारिश की कमी को घटाकर 25 प्रतिशत पर ला दिया है। यह बारिश बुधवार सुबह तक जारी रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने कहा कि दक्षिण मध्य प्रदेश में सोमवार दोपहर को बना दबाव कमजोर होकर एक अच्छी तरह से चिह्नित निम्न दबाव में बदल गया है और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों और उड़ीसा में 35 से 45 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलना जारी रखेगा।

मौसम विभाग ने गंगीय पश्चिम बंगाल के कोलकाता, हावड़ा, हुगली, पश्चिम मिदनापुर, बीरभूम और मुर्शिदाबाद जिलों में बुधवार सुबह तक भारी बारिश की संभावना जताई है। इसमें पूर्वी मिदनापुर, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना और नदिया जिलों में आजकल में मध्यम, जबकि बुधवार सुबह तक भारी बारिश की चेतावनी दी है। क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र, भुवनेश्वर के वैज्ञानिक यूएस दास ने कहा कि ओडिशा के कुछ हिस्सों में इस प्रणाली के कारण कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। समुद्र की खराब स्थिति के कारण मछुआरों को बंगाल की खाड़ी में न जाने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग ने बताया कि ओडिशा के 30 में से 25 जिलों में बारिश हुई है। ओडिशा के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। कुछ जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है।

भारी बारिश से झारखंड को मिली राहत
रांची मौसम विज्ञान केंद्र प्रभारी अभिषेक आनंद ने बताया कि राज्य में एक जून से 12 सितंबर के बीच 676.2 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि सामान्य बारिश 899.6 मिलीमीटर थी। भारी बारिश ने झारखंड में बारिश की ओवरऑल कमी को रविवार को 27 प्रतिशत से सोमवार को 25 प्रतिशत तक कम करने में मदद की है। सात जिलों-बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, खूंटी, रामगढ़, रांची, सरायकेला-खरासवां और पश्चिमी सिंहभूम में बारिश अब मानसून की सामान्य श्रेणी की सीमा में पहुंच गई है। हालांकि, 17 अन्य जिलों में अभी भी 24 प्रतिशत से 66 प्रतिशत के बीच वर्षा की कमी है। आईएमडी के अधिकारी ने कहा कि पाकुड़ में सबसे अधिक 66% बारिश हुई है, इसके बाद साहिबगंज में 62% और गोड्डा में 55% बारिश की कमी है। झारखंड के उत्तरपूर्वी हिस्से भारी बारिश की कमी का सामना कर रहे हैं, क्योंकि इस साल मानसून के मौसम में बनने वाली अधिकांश प्रणालियां राज्य की दक्षिणी रेखा से या उसके नीचे से होकर गुजरी हैं। मानसून के पहले दो महीनों में कम बारिश के कारण झारखंड के किसानों को सूखे जैसी स्थिति का सामना करना पड़ा है। 1 जून से 31 जुलाई तक राज्य की कुल वर्षा की कमी 49 प्रतिशत थी।

दिल्ली में हल्की बारिश की संभावना
दिल्ली में सोमवार को गर्मी और उमस बनी रही और अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 37.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि दिन का न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 27.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने आजकल में शहर के कुछ स्थानों पर बहुत हल्की बारिश की संभावना के साथ आसमान में आमतौर पर बादल छाए रहने की संभावना जताई है। अधिकतम और न्यूनतम तापमान क्रमश: 36 और 27 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा।

यह भी पढ़ें
पाकिस्तान में मंदिर के लाउडस्पीकर से किया गया ऐलान-मुस्लिम अपने जानवरों के साथ यहां आकर रह सकते हैं
पाकिस्तान को इन 3 घटनाओं ने दिए बड़े Shocks: जितनी ग्रोथ नहीं की, उससे अधिक नीचे गिरे, पढ़िए HDI रिपोर्ट

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios