Asianet News HindiAsianet News Hindi

Maharashtra political crisis: क्या शिवसेना को ठिकाने लगाने शरद पवार ने संजय राउत को मोहरा बनाया है?

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट(Maharashtra political crisis) को लेकर संजय राउत लगातार घिरते जा रहे हैं। बागी नेता उन पर आरोप लगा रहे हैं कि वे शरद पवार के इशारे पर शिवसेना को खत्म करने पर लगे हैं। एक बागी विधायक दीपक केसरकर ने संजय राउत को लेकर कई बातें कहीं हैं। पढ़िए क्या बोले केसरकर...
 

Sanjay Raut blue eyed boy of NCP, set to finish off Shiv Sena: Sensational statement of rebel MLA Deepak Kesarkar kpa
Author
Mumbai, First Published Jun 28, 2022, 6:23 AM IST

मुंबई. महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट(Maharashtra political crisis) को लेकर संजय राउत लगातार घिरते जा रहे हैं। बागी नेता उन पर आरोप लगा रहे हैं कि वे शरद पवार के इशारे पर शिवसेना को खत्म करने पर लगे हैं। एक बागी विधायक दीपक केसरकर ने एक पत्र लिखा है, जिसमें संजय राउत को लेकर कई बातें कहीं हैं। पढ़िए क्या बोले केसरकर...

शिवसेना के बागी विधायक दीपक केसरकर(rebel Sena MLA Deepak Kesarkar) ने शिवसेना नेता संजय राउत को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(NCP) का नीली आंखों वाला लड़का बताते हुए कहा कि जब 2019 में महाराष्ट्र में शिवसेना-भाजपा सरकार का गठन महज औपचारिकता थी, तो वह सक्रिय हो गए। एक मजबूत राकांपा नेता के आशीर्वाद के साथ और वह भगवा पार्टी को खत्म करने के लिए तैयार हैं। एक खुले पत्र में केसरकर ने कहा कि जो लोग विधायकों के कारण चुने जाते हैं, वे अब उन्हें हर दिन गाली दे रहे हैं। उनका इशारा संजय राउत की तरफ था। 

हमें सुअर कहा जाता है, बहुत परेशान करने वाली गालियां दी जा रहीं
हमें सुअर कहा जाता है, बहुत परेशान करने वाली गालियां हमें दी जाती हैं, इतना कि अब हमारे शवों का इंतजार है। महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग से तीन बार के विधायक केसरकर ने भी ठाकरे से अपने विचार पर पुनर्विचार करने और भाजपा के साथ गठबंधन करने को कहा। उन्होंने दावा किया कि एनसीपी और कांग्रेस शिवसेना की कीमत पर सत्ता का आनंद ले रहे हैं और साथ ही पार्टी की नींव को खत्म करने के प्रयास कर रहे हैं। 

हिंदुत्व का विरोध करने वालों के साथ गठबंधन
केसरकर ने कहा कि शिवसेना के विधायकों ने हिंदुत्व का विरोध करने वालों के साथ गठबंधन करने का कड़ा विरोध किया है, जिनके खिलाफ दिवंगत शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने अपना जीवन बिताया, जिन्होंने उन्हें जेल में डालने की कोशिश की और जिन्होंने बार-बार वीर सावरकर का अपमान किया है। एक बार नहीं, बल्कि फिर से और फिर जो महाविकास अघाड़ी सरकार(MVA) के तहत भी जारी रहा। हालांकि, हमने अपनी पार्टी के नेता द्वारा बताए गए मार्ग का अनुसरण किया।

केसरकर ने 2019 का जिक्र (जब शिवसेना और भाजपा को दूसरे कार्यकाल के लिए राज्य में सरकार बनाने की उम्मीद थी) करते हुए कहा कि संजय राउत एक मजबूत राकांपा नेता के आशीर्वाद से सक्रिय हो गए। जनादेश शिवसेना-भाजपा गठबंधन के लिए था। हमने भाजपा के साथ अननेचुरल अलांयस (अप्राकृतिक गठबंधन) बनाकर महाराष्ट्र और जनादेश की अनदेखी की। शिवसेना ने बाद में मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा से नाता तोड़ लिया और त्रिपक्षीय एमवीए सरकार बनाने के लिए एनसीपी और कांग्रेस से हाथ मिला लिया।

संजय राउत शिवसेना खत्म करने के लिए तैयार हैं
केसरकर के पत्र का एक बड़ा हिस्सा मुख्य रूप से राउत पर हमला करने से संबंधित है। केसरकर ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संजय राउत, जिन्हें लोगों ने नहीं चुना है, हमारी पार्टी को खत्म करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि राउत की सलाह पर शिवसेना चलाई जा रही है और वह भी उनके (केसरकर) जैसे लोगों को अलग-थलग करने की कीमत पर जो कई बार चुने जाते हैं। राकांपा राउत के कंधे से बंदूक तानती है और गोली किसको लगती है? हमारी पार्टी के दुश्मन नहीं, बल्कि हम जैसे वफादारों को। यह हमें मंजूर नहीं है। केसकर ने पूछा कि संजय राउत की सलाह पर अगर पूरी पार्टी एनसीपी के चरणों में झुकने वाली है, तो शिवसेना के पास क्या बचा है? क्या हमें शरद पवार और सोनिया गांधी को खुश करने के लिए अपने आत्मसम्मान को छोड़ देना चाहिए? 

11 जुलाई तक डिप्टी स्पीकर के फैसले पर रोक
महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक घमासान के बीच सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों को अयोग्यता के नोटिस मिलने के मामले में कार्रवाई पर 11 जुलाई तक रोक लगा दी है। बता दें कि डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल ने शिव सेना के 16 बागी विधायकों को अयोग्यता का नोटिस जारी किया था। विधायकों से सोमवार शाम पांच बजे तक जवाब मांगा था। इसके खिलाफ बागी मंत्री एकनाथ शिंदे ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश किया है कि इस मामले में 11 जुलाई तक स्थिति में बदलाव नहीं होगा। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इन विधायकों और उनके परिवार के लोगों की सुरक्षा के इंतजाम करने का आदेश भी महाराष्ट्र सरकार को दिया है। बागी विधायक 12 जुलाई तक गुवाहाटी के होटल में ही रहेंगे।इस बीच BJP ने अपने विधायकों को 29 जून तक मुंबई  पहुंचने को कहा है।

यह भी पढ़ें
शिवसेना में बगावत के बाद उद्धव ठाकरे ने चाहा दो बार इस्तीफा देना लेकिन हर बार...
Maharashtra Crisis Update: शिंदे गुट को SC से 2 राहत, 11 तक अयोग्य नहीं होंगे बागी विधायक 
सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली तो बागी नेता एकनाथ शिंदे ने किया बाल ठाकरे को याद, हिंदुत्व को लेकर कही यह बात

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios