भुवनेश्वर. भारतीय पुरूष हाकी टीम ने शनिवार को यहां दो मैच के मुकाबले में शुरूआती भिड़ंत में दुनिया की तीसरे नंबर की टीम नीदरलैंड को 5-2 से हराकर एफआईएच प्रो लीग में स्वप्निल पदार्पण किया। रूपिंदर पाल सिंह ने 12वें और 46वें मिनट में दो पेनल्टी कार्नर को गोल में बदला जबकि गुरजांत सिंह ने पहले ही मिनट में और मंदीप सिंह ने 34वें और ललित उपाध्याय ने 36वें मिनट में शानदार मैदानी गोल दागे। नीदरलैंड के लिये जिप जानसेन ने 14वें और जेरोएन हर्टबर्गर ने 28वें मिनट में गोल किये। प्रो लीग के पहले चरण में नहीं खेलने वाली भारतीय टीम ने तोक्यो ओलंपिक की तैयारियों की आदर्श शुरूआत की। भारतीय टीम अब रविवार को दूसरा मुकाबला खेलेगी।

पहले मिनट से भारत ने शुरू किया आक्रमण 
भारतीयों ने गुरजांत की मदद से 30 सेकेंड के अंदर ही बढ़त बनाकर शानदार शुरूआत की। गुरजांत ने स्ट्राइकर मंदीप की मदद से नीदरलैंड के गोलकीपर पिरमिन ब्लाक को पछाड़ते हुए गोल किया। भारत ने 12वें मिनट में बढ़त दोगुनी कर दी जब रूपिंदर ने पेनल्टी कार्नर को गोल में बदला। दो मिनट बाद नीदरलैंड ने जानसेन के पेनल्टी कार्नर को शानदार तरीके से गोल में बदलने से अंतर कम किया। 20वें मिनट में नीदरलैंड को लगातार तीसरा पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन भारतीय रक्षात्मक पंक्ति ने उन्हें सफलता हासिल नहीं करने दी।

डिफेंस में भारत का शानदार खेल 
अमित रोहिदास ने दो बार जानसेन को रोका और भारतीय गोलकीपर पी आर श्रीजेश ने तीसरे प्रयास में मिंक वान डर वीरडेन की ड्रैगफ्लिक को गोलपोस्ट में नहीं जाने दिया। श्रीजेश ने शानदार बचाव से ब्योर्न केलरमैन को भी कामयाबी नहीं हासिल करने दी। दूसरे क्वार्टर के अंत में दो मिनट पहले नीदरलैंड ने हर्टबर्गर के मैदानी गोल से स्कोर 2-2 से बराबर कर दिया जो हाफ टाइम तक बरकरार रहा। ब्रेक के बाद भारतीय टीम जोश से भर गयी और तीसरे क्वार्टर के चौथे मिनट में मंदीप ने कप्तान मनप्रीत के पास से गोल कर बढ़त दिलायी।

एक मिनट बाद भारत को एक और पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन रूपिंदर का ड्रैग फ्लिक शाट दूर चला गया। ललित ने घरेलू टीम की बढ़त बढ़ायी, उन्होंने हरमनप्रीत की मदद से करीब से गोल किया। भारतीय रक्षात्मक पंक्ति भी चुस्त थी और उन्होंने प्रतिद्वंद्वी टीम के तीन पेनल्टी कार्नर को रोका।

अंतिम क्वार्टर में भारत ने ली निर्णायक बढ़त 
चौथे और अंतिम क्वार्टर के पहले ही मिनट में भारत ने स्कोर 5-2 कर दिया जब रूपिंदर ने एक और पेनल्टी कार्नर पर अपना दूसरा गोल दाग दिया। भारत ने छठे वीडियो रैफरल से 53वें मिनट में एक और पेनल्टी कार्नर हासिल किया लेकिन अमित रोहिदास इसका फायदा नहीं उठा सके। हूटर से दो मिनट पहले नीदरलैंड ने एक पेनल्टी कार्नर हासिल किया लेकिन मिंक वान डर वीरडेन के प्रयास का श्रीजेश ने अच्छा बचाव किया।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)