Asianet News HindiAsianet News Hindi

कश्मीर में जवान शहीद: बेटी की शादी की तैयारी के बीच अब फूलों से बने रास्ते से निकालेगी पिता की अंतिम यात्रा

जम्मू कश्मीर के राजौरी में दस अगस्त को हुए आतंकी हमले में देश के तीन जवान शहीद हो गए थे। इनमें राजस्थान के झुझुनूं राजेन्द्र भांबू भी शामिल हैं। उनके बेटी की शादी की तैयारी चल रही थी लेकिन घर में शहादत की खबर आई। 

Jhunjhunu news Rajouri Terror Attack  3 Army Personnel Martyred subedar rajendra bhambu pwt
Author
Jhunjhunu, First Published Aug 12, 2022, 11:55 AM IST

झुझूनूं. 10 अगस्त को जम्मू कश्मीर में हुए आतंकी हमले में देश के तीन जवान शहीद हो गए थे। इनमें से एक राजस्थान के झुझूनं जिले के रहने वाले राजेन्द्र भाम्बू हैं। राजस्थान में सबसे ज्यादा सपूत देने वाले जिले झुझूनूं का एक और जवान भारत माता की रक्षा करते हुए शहीद हो गया। रक्षाबंधन से ठीक एक दिन पहले उनकी शहादत की खबर सुनकर बहन अचेत हो गई। बेटियां बेसधु हो गई और पत्नी बीमार हो गई। शहादत की खबर जब गांव में फैली तो आसपास के हजारों लोग शहीद के घर में जमा होना शुरु हो गए। आज शाम उनकी पार्थिव देह को उनके गांव पहले हवाई मार्ग और उसके बाद सड़क मार्ग से लाया जाएगा।

जिले के हजारों युवा बड़ी तिरंगा यात्रा निकालने की तैयारी में जुट गए हैं। बता दें कि जम्मू कश्मीर के राजौरी में दस अगस्त को हुए आतंकी हमले में देश के तीन जवान शहीद हो गए थे। इनमें राजस्थान के झुझुनूं राजेन्द्र भांबू भी शामिल हैं।

नया मकान बनवा रहे थे भांबू, पिछले महीने ही वापस पोस्ट पर लौटे थे
शहीद राजेन्द्र के छोटे भाई राजेश शिक्षक हैं। उन्होंने बताया कि भैया पिछले महीने ही वापस लौटे थे। मकान का काम चल रहा था। उसे संभालने आए थे। बेटी की शादी की तैयारी चल रही थी। सामान खरीदे जा रहे थे। गहने बनवाए जा रहे थे। इस बीच भाई की शहादत की खबर आई तो सब कुछ थम गया है। राजेन्द्र पिछले महीने की 16 तारीख को ही वापस पोस्ट पर लौटे थे। लेकिन किसे पता था कि अब वापस नहीं लौटेंगे।

सड़कों पर बिछाए जाएंगे फूल
राजेश ने बताया कि  शहीद राजेन्द्र भाम्बू के दो बेटी व एक बेटा है। बड़ी बेटी प्रिया 20 साल की है। उसने एमएसी कर ली है। उसकी ही शादी की तैयारी चल रही है। छोटी बेटी साक्षी बीएससी फाइनल में है। बेटा अंशुल 11 साल का है जो पढ़ाई कर रहा है। तीनों बच्चें जयपुर में अपने चाचा राजेश के पास रहकर पढ़ाई कर रहे है। शहीद की पत्नी तारामणि बुडानिया में महात्मा गांधी पुस्तकालय में नौकरी करती हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि बगड़ से मालीगांव में शहीद के घर तक तिरंगा बाइक रैली निकाली जाएगी। उनके सम्मान में प्रतिष्ठान बंद कर दिए गए हैं। सैंकडों किलो पुष्प मंगाए गए हैं ताकि उनके मार्ग पर बिछाए जा सके।

इसे भी पढ़ें- जयपुर में मौत का लाइव वीडियो: दोस्त फोटो क्लिक कर रहा था, फिर जो हुआ उसे देख सहम जाएंगे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios