Asianet News HindiAsianet News Hindi

राजस्थान सूदखोरों की करतूत: पति के ब्याज पर लिए 50 हजार के बदले महिला से मांगा लाखों रु. का मकान

राजस्थान के सीकर जिले में एक सूदखोरी का मामला सामने  आया है। जहां कर्ज देने वालों ने महिला के पति को किडनैप कर अपने 50 हजार रुपए के बदले लाखों का मकान मांगने लगे। इसके लिए आरोपियों ने उसके कर्जदार पति को भी किडनैप कर लिया और धमकी देने लगे।

sikar news money lender kidnap man and asking for house worth lakhs from wife in return of fifty thousand loan asc
Author
First Published Sep 27, 2022, 1:33 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले से सूदखोरी का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक युवक ने सूदखोरों से 50 हजार रुपए ब्याज पर लिए थे। जिसके बदले उसने ब्याज सहित रुपए चुका दिए। लेकिन अब सूदखोरों ने युवक के लाखों रुपए के मकान पर कब्जा करने का प्लान बना लिया है। इसी बात को लेकर उन्होंने युवक को किडनैप भी कर लिया। मामले में युवक की पत्नी ने एसपी ऑफिस में अपनी शिकायत दी है।  जिस पर पुलिस ने जांच करने की बात कही है। 

सूदखोरों ने महिला को दी धमकी
सीकर के मोहल्ला बिसायतियां में रहने वाली बानो देवी ने बताया कि उसके पति आरिफ में मोहम्मद मुस्लिम, साहिल समेत तीन चार लोगों से 20 प्रति सैकड़ा के हिसाब से 50 हजार रुपए उधार लिए थे। जो उसके पति आरिफ ने समय रहते चुका दिए पूर्णविराम लेकिन इसके बाद अब यह सूदखोर लगातार पहले तो आरिफ को पैसे और देने के लिए धमकी देते रहे। इसके बाद 13 सितंबर को इन सूदखोरों ने आरिफ को मिलने के लिए नवलगढ़ बुलाया। जिसके बाद से आरिफ का कुछ भी पता नहीं चल पाया है। एक-दो दिन पहले सूदखोरों ने बानो को फोन कर कहा कि यदि पति जिंदा चाहिए तो अपना 40 लाख का मकान मेरे नाम कर दो। धमकी मिलने के बाद महिला बुरी तरह से डरी हुई है।

सूदखोरों से परेशान होकर लोगों ने आत्महत्या भी की
प्रदेश में सूदखोरी का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी प्रदेश के अधिकतर जिलों में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। भीलवाड़ा में सूदखोरों से परेशान होकर एक युवक ने सुसाइड कर लिया। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सीकर के नीमकाथाना में भी सामने आया। यहां सूदखोरी के चलते एक बुजुर्ग की हत्या कर दी गई। वहीं दूसरी ओर पुलिस आंकड़ों की माने तो सूदखोरी में करीब 15% मामले ही ऐसे होते हैं जिनमें पुलिस आरोपियों तक पहुंचती है। अन्य सभी मामले या तो झूठे पाए जाते हैं। या उनमें कोई कार्रवाई नही होती है।

यह भी पढ़े- गर्ल्स कॉलेज में प्रेक्टिकल के लिए बुलाकर प्रोफेसर ने किया गंदा काम, चौंकने वाले हैं टीचर के काले कारनामे

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios