Asianet News HindiAsianet News Hindi

उदयपुर कन्हैया लाल केस में पहली बार मोबाइल यूजर्स गिरफ्तार, एक्टिव दिखी राजस्थान पुलिस वरना कुछ बड़ा होता...

आप सोच रहे हैं आखिर पूरे राजस्थान में 24 घंटों के लिए इंटरनेट क्यों बंद किया गया, ये रहा जवाब।

udaipur Kanhaiya Lal murder case update know why police banned internet connection in Rajasthan state sca
Author
Banswara, First Published Jun 30, 2022, 2:44 PM IST

बांसवाड़ा (Banswara). उदयपुर में मंगलवार, 28 जून की दोपहर हुई टेलर कन्हैया लाल की सनसनीखेज हत्या के बाद राजस्थान पुलिस ने सोशल  मीडिया यूजर्स के खिलाफ भी कार्रवाई करना शुरु कर दिया है। इसी कड़ी में प्रदेश के बांसवाड़ा जिले से दो आरोपी पकडे़ गए हैं। इनमें एक ग्रुप एडमिन भी शामिल है। दोनों के पास से दो मोबाइल भी बरामद किए गए हैं। इन फोन की जांच करने के बाद कई अन्य लोगों को मार्क किया गया है जो सोशल मीडिया ग्रुप्स से जुड़े हुए हैं। उनमें से कुछ और को गिरफ्तार करने की तैयारी की जा रही है। राजस्थान पुलिस की इस कार्रवाई की खबरें जब सामने आई हैं तो हडकंप मच गया है। यही कारण है कि राजस्थान सरकार ने कई घंटों से इंटरनेट बंद कर दिया है। 

ग्रुप के सदस्य ने भेजे थे भड़काउ डॉयलॉग और मैसेज, एडमिन ने किया सपोर्ट

दरअसल, बांसवाड़ा जिले की कोतवाली थाना पुलिस ने आईपीसी की धारा 188ए, 153 क और 120 बी के तहत केस दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार किया। इनके कब्जे से दो मोबाइल जब्त किए गए। कोतवाली एसएचओ रतन सिंह ने बताया है- उदयपुर में हुए मर्डर के बाद सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिए अफसरों से निर्देश मिले थे। इस कारण नजर रखी जा रही थी। पता चला कि मुस्लिम कॉलोनी निवासी मोहम्मद अली एवं ग्रुप एडमिन मुस्लिम कॉलोनी के ही मोहम्मद सिद्दिक ने इस मामले में भड़काउ बयान वाले मैसेज भेजे हैं। एक ने मैसेज भेजा और एक ने उसका समर्थन किया और इसके बाद इन मैसेज को कई ग्रुप में भेजा गया। ये मैसेज शहर में और ज्यादा वायरल होते तो माहौल और ज्यादा खराब हो सकता था। पुलिस ने बताया- इन्हीं तरह के मैसेज वायरल होने से रोकने के लिए ही सरकार और पुलिस अधिकारियों ने इंटरनेट बंद कर दिया था। दोनों के पास से जब्त मोबाइल में और भी कई मैसेज और आपत्तिजनक वीडियो एवं अन्य सामग्री मिली है। इस बारे में पुलिस अधिकारियों को जानकारी दे दी गई है।

इसलिए की गई थी कन्हैया लाल की हत्या

मंगलवार, 28 जून को दोपहर करीब 3 बजे दो बाइक सवार युवक धानमंडी इलाके में मौजूद सुप्रीम टेलर्स की दुकान में पहुंचे। ये दुकान कन्हैयालाल की थी। दोनों ने कन्हैयालाल (40) से कहा- हमें कपड़े सिलवाने हैं। कन्हैयालाल जब माप ले रहे थे तभी आरोपियों ने उनपर हमला बोल दिया। दोनों ने तलवार से कई वार कन्हैया के ऊपर किया। जिस कारण मौके पर ही कन्हैयालाल की मौत हो गई। बता दें, कुछ दिन पहले उसने नुपुर शर्मा के सपोर्ट में एक पोस्ट सोशल मीडिया पर डाला था। जिसके बाद समुदाय विशेष से उसको लगातार धमकियां दे रहे थे। जिस कारण से उसने 6 दिन अपनी दुकान नहीं खोली थी। धमकी देने वालों के खिलाफ पुलिस में नामजद रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी। पुलिस ने कन्हैयालाल के दोनों हत्यारे रियास और गोस मोहम्मद को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों उदयपुर के सूरजपोल क्षेत्र के निवासी हैं।

यह भी पढ़े- कन्हैयालाल के हत्यारों ने 2014 में करांची से ली थी ट्रेनिंग, सामने आया पाकिस्तानी कनेक्शन

यह भी पढ़ें-  कन्हैयालाल कहते थे ऐसे कपड़े सिलो की आदमी सज जाए, साथी कारीगर ने सुनाया हत्या का आंखों देखा हाल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios