Asianet News HindiAsianet News Hindi

स्मार्टफोन यूजर की अक्सर ये 5 गलतियां करा देती हैं चुटकियों में बैंक अकाउंट खाली

एंड्रॉइड दुनिया में सबसे लोकप्रिय स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम होने के कारण हैकर्स, स्कैमर और विज्ञापनदाताओं का ध्यान आकर्षित करता है। 

smartphone hacker online scam bank account tech news ANP
Author
New Delhi, First Published Nov 15, 2021, 4:04 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

टेक डेस्क. अगर आप एंड्रॉइड फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ध्यान दें कि आप क्या डाउनलोड कर रहे हैं और किन ऐप्स के पास आपकी निजी जानकारी है, इस पर ध्यान देना जरूरी है। एंड्रॉइड दुनिया में सबसे लोकप्रिय स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम होने के कारण हैकर्स, स्कैमर और विज्ञापनदाताओं का ध्यान आकर्षित करता है। मैलवेयर के अलावा, अनगिनत ऐप हैं जो आपको लगातार विज्ञापन दिखाकर पैसा कमाते हैं, जिससे आपका फोन धीमा हो जाता है। ये 8 गलतियां हैं जो आप अपने Android फ़ोन पर कर रहे हैं जो स्कैमर की मदद कर सकती हैं।

​नए एंड्रॉइड फोन के साथ आने वाले बोल्टवेयर ( प्रीइंस्टाल ऐप) को रखना

ब्लोटवेयर बस फ़ोन की स्टोरेज लेते हैं और बाद में कई स्कैमर और हैकर का कारण भी बन सकते हैं। नया फोन खरीदने के तुरंत बाद, यदि आप फ़ोन में इंस्टाल ऐप हैं, तो उन्हें फ़ोन से अनइंस्टॉल करें। इसके अलावा, कुछ बिना काम के ऐप्स आपके फोन पर जबरदस्ती इंस्टॉल किए जाते हैं जो विज्ञापन दिखा सकते हैं, आपके डिवाइस के उपयोग को ट्रैक कर सकते हैं और यहां तक ​​कि आपकी फोन की कॉन्टैक्ट लिस्ट भी चुरा सकते हैं।

लोकेशन ऑन करके अपने Android फ़ोन को चोरी से सुरक्षित न रखना

जब भी आप कोई नया Android स्मार्टफोन खरीदें, तो Google की डिवाइस ढूंढे ( Find My Device) फ़ीचर को इनेबल करें। यह आपके फोन के खो जाने या चोरी हो जाने की स्थिति में उसे ट्रैक करने में आपकी मदद करेगा। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि चोरों को अब केवल डिवाइस में ही दिलचस्पी नहीं है, वे आपका डेटा भी चुरा सकते हैं। साथ ही, सेटिंग्स को बदलकर लॉकस्क्रीन को सुरक्षित करें ताकि कोई भी बिना पासवर्ड के मोबाइल डेटा को बंद या डिवाइस को स्विच ऑफ न कर सके।

​सेटिंग्स के अंदर डाउनलोड की गई ऐप लिस्ट की जांच नहीं करना

सेटिंग्स के अंदर डाउनलोड की गई ऐप लिस्ट के माध्यम से जाने की आदत डालें। कई मैलवेयर या स्पाइवेयर हैं जो एक आइकन नहीं बनाते हैं और बस आपके फोन के अंदर छिप जाते हैं। पूरी डाउनलोड की गई ऐप सूची की जाँच करने से आपको फ़ोन में छुपी ऐप का पता लगाने में मदद मिल सकती है।

बेकार और फ़ालतू ऐप्स को नहीं हटाना

अगर आपने कुछ समय से किसी ऐप का इस्तेमाल नहीं किया है तो उसे डिलीट कर देना ही बेहतर है। साथ ही अगर आपके फोन में कुछ पुराने ऐप्स हैं तो उन्हें भी डिलीट कर दें। पुराने या बिना काम के ऐप्स को रखने से केवल मेमोरी भरी रहती है और यह मैलवेयर खतरे को भी बढ़ा देती है।

ऐप्स डाउनलोड करने से पहले नियम और शर्तें और परमिशन नहीं पढ़ना

ऐप डाउनलोड करने से पहले जरूरी परमिशन और शर्तों को पढ़ने की आदत बना लें। जब भी कोई ऐप ज्यादा परमिशन मांगता है तो आपको सतर्क होने की जरूरत है। उदाहरण के लिए, अगर आप कोई वॉलपेपर के लिए किसी ऐप का इस्तेमाल करेंगे तो वो आपसे आपकी कॉन्टैक्ट लिस्ट और माइक का परमिशन नहीं मांगेगा।

यह भी पढ़ें.

Realme: बजट फ़ोन लॉन्च करने के बाद अब अल्ट्रा-प्रीमियम फ़ोन लॉन्च करेगी कंपनी , i-Phone को देगी कड़ी टक्कर

हैंग कर रहे लैपटॉप को इन 5 तरीकों से बनाएं सुपरफ़ास्ट, नया खरीदने की नहीं होगी झंझट

Oppo Reno7: इस दिन इंडिया में धूम मचाने आएगा ये धांसू स्मार्टफोन, 50MP कैमरे के साथ मिलेंगे शानदार फ़ीचर्स

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios