Gas Tragedy  

(Search results - 29)
  • Positive thinking and good news of 66 year old Arunkanth Mishra Life left twice gas tragedy now from corona kpr

    Madhya PradeshDec 4, 2020, 10:38 AM IST

    गजब का जज्बा: जिन्हें 2 बार मौत छू भी नहीं पाई, हजारों लाशों के बीच बचे जिंदा..अब कोरोना को दी मात

    ऐसे जिंदादिल इंसान हैं 66 वर्षीय अरुणकांत मिश्रा, जो दिव्यांग हैं, लेकिन उनके जज्बे के चलते मौत उनको छू भी नहीं पाई। 36 साल पहले 1984 में जब गैस त्रासदी हुई तो अरुणकांत भोपाल में ही थे।

  • madhya pradesh story of and Photos  bhopal gas tragedy anniversary gas leak by union carbide factory  kpr

    Madhya PradeshDec 3, 2020, 11:16 AM IST

    गैस त्रासदी: 10 तस्वीरों में देखिए भोपाल की वो भयावह रात, जब लाशें ढोने को गाड़ियां और कफन कम पड़ गए

    भोपाल. (मध्य प्रदेश). 36 साल पहले भोपाल गैस कांड की उस काली रात को शायद ही कोई भूल पाएगा। जहां अमेरिकी कंपनी यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री के प्लांट नंबर सी के टैंक नंबर 610 से लीक हुई मिथाइल आइसोसाइनेट गैस की वजह से हजारों लोगों की जान चली गई और कई परिवार देखते ही देखते तबाह हो गए। मंजर इतना भयावह था कि लाशें ढोने के लिए गाड़ियां छोटी पड़ गईं और अस्पताल में लोगों को भर्ती करने के लिए  जगह नहीं बची। साथ ही कफन भी कम पड़ गए। त्रासदी की 36वीं बरसी पर 10 तस्वीरों में देखिए कैसे जिंदगी भर का दर्द दे गई गैस...इन फोटोज को सीनियर फोटोग्राफर कमलेश जैमिनी ने अपने कैमरे में कैद किया था...

  • Photos and an emotional story related to Bhopal gas Tragedy kpa

    Madhya PradeshDec 3, 2020, 10:02 AM IST

    भोपाल त्रासदी: बच्चे ने जलन से आंखें मल रही मां को देखकर नानी से पूछा-वो क्या प्याज काट रही हैं?

    भोपाल. कांड की 36 साल पूरे हो गए हैं। 2-3 दिसंबर, 1984 की वो रात और अगली सुबह शायद ही कोई भूल पाए। खासकर वो लोग, जिन्होंने उस काली सुबह को भोगा है। अपनी आंखों से गली-चौराहे पर पड़ीं लाशों को देखा है। रोते-बिलखते और यहां-वहां भागते लोगों का सामना किया है। ये किस्से भोपाल गैस कांड के वक्त नायब तहसीलदार रहीं शमीम जहरा ने शेयर किए हैं। शमीम के पति स्वर्गीय शकील रजा तब शहडोल के एसपी थे। जहरा 2009 में भोपाल से डिप्टी कलेक्टर की पोस्ट से सेवानिवृत्त हुई हैं। पढ़िए भोपाल त्रासदी और उसके बाद की कहानी, उनकी आंखों देखी जुबानी...

  • Some shocking pictures of Bhopal gas tragedy kpa

    Madhya PradeshDec 2, 2020, 1:33 PM IST

    भोपाल त्रासदी के 36 साल: मौत का मंजर दिखाती 1984 की वो खौफनाक रात

    भोपाल, मध्य प्रदेश. शायद सदियों तक भोपाल गैस कांड का असर रहेगा! दुनिया के इतिहास में सबसे भीषणतम त्रासदी कहे जाने वाले भोपाल गैस कांड का असर आज भी उन परिवारों की पीढ़ी में देखा जा सकता है, जो गैस से बुरी तरह प्रभावित हुए थे। 3 दिसंबर को इस त्रासदी के 36 साल पूरे हो जाएंगे। बता दें कि 2-3 दिसंबर, 1984 की दरमियानी रात जेपी नगर के सामने स्थित यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड(यूका) के कारखाने में एक टैंक से जहरीली गैस मिथाइल आइसोसाइनेट(MIC) लीक हुई थी। जैसे ही यह हवा में घुली...भोपाल में मीलों तक इसका असर हुआ। लोगों को सांस लेने में तकलीफ हुई। आंखों में जलन हुई। देखते ही देखते पूरे शहर में भगदड़ मच गई। जो भाग सका...वो बच गया। जो नहीं भाग सके, वे मर गए। कुछ इतनी बुरी तरह प्रभावित हुए कि जब तक जिंदगी रही, तकलीफ झेलते रहे। आइए देखते हैं गैस कांड की कुछ पुरानी और कुछ नई पीढ़ी की तस्वीरें...

  • whose negligence made gas leak in air KPZ
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 10:35 PM IST

    गैस कांड: किसकी लापरवाही ने हवा में घोला जहर?

    वीडियो डेस्क। देश में जारी कोरोना के कहर के बीच आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीकेज का मामला सामने आया है। यह घटना गुरुवार सुबह हुई। जहरीली गैस के लीक होने से मासूम समेत 13 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 1000 से अधिक लोग हॉस्पिटल में एडमिट हैं। 

  • know the whole story of gas tragedy KPZ
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 9:49 PM IST

    कब, कैसे, क्या हुआ...गैस कांड की पूरी कहानी

    वीडियो डेस्क। आंध्र प्रदेश गैस लीक कांड अब तक 13 लोगों की मौत एक हजार से ज्यादा लोग बीमार, जानें क्या कब और कैसे हुआ हादसा। कौन सी थी ये जहरीली गैस जो हवा में घुल कर शरीर के अंदर जाने लगी और लाशों से सड़के पट गईं। हादसे के कारणों की जांच के लिए सरकार ने एक कमिटी का गठन किया है। इधर आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट ने मामले का संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर सवाल किया है कि रिहाइशी इलाक़े में प्लांट बनाने की इजाज़त कैसे दी गई। साथ ही जानें कि क्या है स्टाइरीन गैस क्या है।
     

  • know what is styrene gas people-who-have-been-victimized in-visakhapatnam kpv
    Video Icon

    Health CapsuleMay 7, 2020, 6:29 PM IST

    जानें कितनी खतरनाक है स्टाइरीन गैस, विशाखापट्टनम में जिसके शिकार हुए हजारों लोग

    आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम में पॉलीमर फैक्ट्री से लीक हुई जहरीली गैस से सैंकड़ों लोग प्रभावित हुए हैं। अब तक इस जहरीली गैस से 13  लोगों की मौत हो गई।  

  • people try to run away from gas leak but the fell down KPZ
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 5:12 PM IST

    गैस कांड: भागने के लिए उठाई बाइक, लेकिन उससे पहले ही टूट गई सांस

    वीडियो डेस्क। आंखे खुलीं तो सांस नहीं ली जा रही थी। आंखों में जलन होने लगी। शरीर पर रैशिज हो गए। बदन पर जो कपड़े थे वो चुभने लगे। बैचेनी ऐसी हो रही थी कि बार बार उल्टी आ रही थी। लोग जहां खड़े 

  • a little girl trouble during gas leak KPZ
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 3:41 PM IST

    गैस कांड: दम घुटा, सांस रुकी...और मां की गोद में तड़पने लगी मासूम

    वीडियो डेस्क। आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार तड़के लोगों की नींद एक अजीब बदबू के साथ खुली। यहां लोगों को अचानक सांस देने में दिक्कत होने लगी। इससे पहले लोग उठकर अपने आस पास देखते, तब तक 1 बच्चे समेत 3 लोगों की मौत हो चुकी थी। बताया जा रहा है कि अब तक 

  • This work is done in LG Polymer, Indian company formed 59 years ago became part of Korean Group MJA

    BusinessMay 7, 2020, 1:55 PM IST

    LG Polymer में होता है ये काम, 59 साल पहले बनी भारतीय कंपनी ऐसे हो गई थी कोरियन ग्रुप का हिस्सा

    विशाखापट्टनम। विशाखापट्टनम स्थित एक निजी फार्मा कंपनी के प्लान्ट से गुरुवार सुबह गैस लीक हो जाने के कारण 8 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 1000 से ज्यादा लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। इनमें 80 लोगों की हालत गंभीर है, जिन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। 

  • gas leakage at lg polymers industry in visakhapatnam KPV
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 1:45 PM IST

    लोग उल्टियां कर रहे हैं, दम घुट रहा है...गैस लीक के बाद यूं मची भगदड़

    आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम के वेंकटपुरम गांव में केमिकल गैस लीक होने से तीनों लोगों की मौत हो गई। इनमें एक बच्चा भी शामिल है। बताया जा रहा है कि गैस एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री के प्लांट से लीक हुई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक हजार से ज्यादा लोग बीमार पड़े हैं। 

  • visakhapattnam gas leak reminded deadly bhopal gas tragedy where roads filled with dead bodies kph

    HatkeMay 7, 2020, 1:28 PM IST

    विशाखापट्टनम गैस लीक ने लोगों को याद करवाया 36 साल पुराना हादसा, लाशों से भर गई थी सड़कें

    हटके डेस्क: 7 मई को सुबह आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फैक्ट्री से जहरीली गैस का रिसाव हुआ। इस गैस की वजह से हजारों लोग अस्पताल में भर्ती हैं जबकि अभी 8 लोगों की मौत की खबर है, जो आगे बढ़ सकती है। गैस लीकेज सुबह के वक्त हुआ,  जब सो रहे लोगों को अचानक अजीब से बदबू आई और उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगी। जान बचाने के लिए लोग भागने लगे लेकिन रास्ते में ही कई लोग बेहोश हो गए। इस गैस रिसाव ने आज से 36 साल पहले हुए भोपाल गैस त्रासदी की यादें ताजा कर दी। आपको दिखाते हैं भोपाल गैस हादसे की वो दर्नाक तस्वीरें, जब सड़कों पर लाशों के ढेर लग गए थे... 
     

  • Visakhapatnam gas leak photo reminds Bhopal tragedy KPP

    NationalMay 7, 2020, 12:40 PM IST

    3KM तक लोग बेहोश होकर गिरने लगे, आंखों में थी जलन, भोपाल त्रासदी की याद दिलातीं विशाखापट्टनम की तस्वीरें

    आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार तड़के लोगों की नींद एक अजीब बदबू के साथ खुली। यहां लोगों को अचानक सांस देने में दिक्कत होने लगी। इससे पहले लोग उठकर अपने आस पास देखते, तब तक 1 बच्चे समेत 3 लोगों की मौत हो चुकी थी। बताया जा रहा है कि अब तक इस हादसे में 8 लोगों की मौत हो चुकी है। 

  • visakhapatnam gas leakage-at lg polymers industry kpv
    Video Icon

    NationalMay 7, 2020, 10:43 AM IST

    बेहोश होकर सड़क पर गिरने लोग, 8 लोगों की मौत

    आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम के वेंकटपुरम गांव में केमिकल गैस लीक होने से तीनों लोगों की मौत हो गई। इनमें एक बच्चा भी शामिल है। बताया जा रहा है कि गैस एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री के प्लांट से लीक हुई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक हजार से ज्यादा लोग बीमार पड़े हैं।

  • Abdul Jabbar's wife on receiving Padmashri  award KPB

    Madhya PradeshJan 26, 2020, 8:59 PM IST

    पद्मश्री मिलने पर रोते हुए बोली अब्दुल जब्बार की पत्नी, यदि वो होते तो साथ जाकर लेते पुरस्कार

    गैस त्रासदी पीड़ितों की आवाज कहे जाने वाले अब्दुल जब्बार खान को सरकार ने पद्मश्री देने की घोषणा की तो उनकी पत्नी सायरा बानो की आखों में आंसू थे। सालों का दर्द थोड़ी खुशी और थोड़े अफसोस के रूप में बाहर आ रहा था। जब उनसे इस बात को लेकर पूछा गया तो उन्होंने रोते हुए कहा कि अगर वो होते तो साथ में जाकर पुरस्कार लेते। अब्दुल जब्बार खुद गैस से पीड़ित थे और उन्होंने अपने परिवार के कई सदस्यों को इस हादसे में गंवा दिया था।