Mental Peace  

(Search results - 4)
  • Know the benefits and tips of keeping Buddha statue at home KPI

    UpayJul 2, 2021, 11:11 AM IST

    मानसिक शांति और सुख-समृद्धि के लिए घर में रखें भगवान बुद्ध की प्रतिमा, इन बातों का भी रखें ध्यान

    कई बार लोग घर में सुख-शांति और समृद्धि व मानसिक शांति के लिए कई तरह के उपाय करते हैं। इस सबमें से बहुत ही सरल उपाय है घर में महात्मा बुद्ध की प्रतिमा रखना।

  • For mental peace and get rid of diseases, do these 3 remedies of Hanumanji on Tuesday KPI

    UpayMay 16, 2021, 2:21 PM IST

    मन को शांत रखने और रोगों से मुक्ति पाने के लिए मंगलवार को करें हनुमानजी के ये 3 उपाय

    उज्जैन. क्रोध पर नियंत्रण के लिए सबसे अच्छा ध्यान और योग माना गया है, लेकिन इसके अलावा क्रोध आने के कई और कारण भी होते हैं मंगल की अशुभता के कारण भी अधिक क्रोध आने लगता है। इस स्थिति में आपके लिए भगवान हनुमान की आराधना बहुत शुभ रहती है। यदि आप इस दिन हनुमान जी की आराधना से संबंधित कुछ उपाय करते हैं तो आप अवश्य ही लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इससे आपका मन शांत रहेगा और हेल्थ में भी सुधार होगा। ये उपाय इस प्रकार हैं…

  • Ganesh Utsav: Chant these Ganesh mantras daily , they will give mental peace and positive energy KPI

    UpayAug 26, 2020, 11:16 AM IST

    गणेश उत्सव में रोज करें इन गणेश मंत्रों का जाप, मिलेगी मानसिक शांति और पॉजिटिव एनर्जी

    उज्जैन. इन दिनों गणेश उत्सव चल रहा है। इन 10 दिनों में भगवान श्रीगणेश को प्रसन्न करने के लिए अलग-अलग उपाय किए जाते हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार, इन 10 दिनों में भगवान गणपति के मंत्रों का जाप करना शुभ माना जाता है। वैसे भी शास्त्र कहते हैं कि हर शुभ काम के पहले गणपति की उपासना करना चाहिए। इससे कामों में आने वाले संकट टल जाते हैं। गणपति उत्सव के 10 दिनों में भगवान गणेश के मंत्र का जाप आपको मानसिक शांति और सकारात्मक ऊर्जा से भर देगा। यहां भगवान गणेश के पांच मंत्र और उनके अर्थ हैं, इनमें से किसी भी एक मंत्र का जाप किया जा सकता है...

  • People's court in Kashi, punishment given to effigies of Nirbhaya convicts asa

    Uttar PradeshMar 9, 2020, 3:28 PM IST

    काशी में लगी जनता की अदालत, निर्भया के दोषियों के पुतलों को दी गई ऐसे फांसी


    दरिंदों के पुतलों को सजा देने के पहले घाट वॉकरों व स्वयं सेवियों ने लघु नाटक का मंचन किया गया, जिसमें चारों दोषियों को सामाजिक रुप से बहिष्कृत कर उन्हें सार्वजनिक तौर पर फांसी फंदे पर लटकाने की सजा दी गई ।