Vikram Lander  

(Search results - 10)
  • nasa gave credit to chennai techie Shanmuga Subramanian for finding debris on Moon vikram lander

    NationalDec 3, 2019, 11:31 AM IST

    कौन है विक्रम लैंडर का पता लगाने वाला भारतीय इंजीनियर? नासा ने नाम लिया, सोशल मीडिया पर तारीफ

    भारतीय इंजीनियर ने बताया कि, उन्होंने अपने रिस्क पर अलग से एक रिसर्च शुरू की थी क्योंकि उस समय भी नासा को खुद इसकी कोई जानकारी नहीं थी।

  • Chandrayaan-2:  now the debris of the crashed Vikram lander found on the moon by NASA

    NationalDec 3, 2019, 7:54 AM IST

    चंद्रयान-2 : जब अंतरिक्ष में इतिहास रचने से चूक गया था भारत, अब चांद पर मिला क्रैश हुए विक्रम लैंडर का मलबा

    चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर को लेकर नासा ने बड़ा खुलासा किया है। जिसमें नासा ने द्रयान-2 के विक्रम लैंडर का मलबा उसके क्रैश साइट से 750 मीटर दूर मिला है। मलबे के तीन सबसे बड़े टुकड़े 2x2 पिक्सेल के हैं। 

  • Government told Parliament why hard landing of mission Chandrayaan-2 lander Vikram took place

    NationalNov 21, 2019, 12:57 PM IST

    सरकार ने संसद को बताया, क्यों हुई थी मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की हार्ड लैंडिंग

    मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम की हार्ड लैंडिंग को लेकर संसद में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने एक लिखित प्रश्न का जवाब दिया। जिसमें उन्होंने विक्रम लैडर को लेकर हुए घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लैंडिंग कराए जाने के पहले फेज में विक्रम के चंद्रमा से 30 किमी से 7.4 किमी ऊंचाई पर आने तक सब कुछ सामान्य था।

  • American mission passed by moon, but no clue of Vikram Lander

    WorldOct 23, 2019, 3:53 PM IST

    चंद्रमा के पास से गुजरा अमेरिकी मिशन, पर नहीं मिला विक्रम लैंडर का कोई सुराग

    अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने कहा है कि चंद्रमा क्षेत्र के पास से हाल में गुजरे उसके चंद्रमा ऑर्बिटर द्वारा कैद की गई तस्वीरों में चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर का कोई सुराग नहीं मिला है। 

  • Chandrama's surface photo released, Chandrayaan-2 orbiter sent to ISRO

    NationalOct 5, 2019, 8:00 AM IST

    चंद्रमा की सतह की तस्वीरे आई सामने, चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने ISRO को भेजी

    बेंगलुरू. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO ने चांद की तस्वीर जारी की है। यह तस्वीरें चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर हाई रिजोल्यूशन कैमरे से ली गई हैं। इस तस्वीर में चंद्रमा के सतह पर कई छोटे बड़े गड्ढे नजर आ रहे हैं। बता दें कि इसरो के दूसरे मून मिशन चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर की खराब लैंडिंग की जांच एक राष्ट्रीय स्तर की समिति (NRC)कर रही है। पिछले दिनों इसरो चीफ डॉ. के. सिवन ने यह भी साफ किया कि चंद्रयान-2 मिशन की 98 फीसदी सफलता की घोषणा उन्होंने नहीं की थी। यह घोषणा एनआरसी ने ही अपनी शुरुआती जांच के बाद की थी।

  • Chandrayaan 2: 'Vikram Lander hard landing instead of soft', NASA said it will search again in October

    WorldSep 27, 2019, 10:35 AM IST

    चन्द्रयान 2: 'विक्रम लैंडर की सॉफ्ट की बजाय हार्ड लैंडिंग हुई', नासा ने कहा अक्टूबर में दोबारा खोजेंगे

    इसरो के मिशन चंद्रयान-2 को लेकर नासा की तरफ से बयान जारी हुआ है। चन्द्रमा की सतह पर विक्रम लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग की बजाय हार्ड लैंडिंग हुई। जिसके कारण विक्रम लैंडर का इसरो से संपर्क टूट गया। जिसकी वजह से उसकी वास्तविक लोकेशन खोजने में सफलता नहीं मिल पाई। यह जानकारी अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने दी है।

  • Young man praying to chandra dev until vikram lander found

    HatkeSep 19, 2019, 11:52 AM IST

    विक्रम लैंडर से संपर्क होने तक लड़के ने पकड़ी जिद, करता रहेगा चंद्रदेव की तपस्या

    भारत का चंद्रयान 2 भले ही असफल हो गया लेकिन भारतीयों की उम्मीदें अभी भी कायम है। प्रयागराज में रहने वाला एक युवक इसी उम्मीद में चंद्रदेव से प्रार्थना कर रहा है। इसे लेकर उसने यमुना ब्रिज पर भी काफी हंगामा किया। 

  • chandrayan 2's soft landing today, India will create history

    NationalSep 6, 2019, 8:14 AM IST

    मिलिए चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम से, आज होगी चांद से भारत की अनोखी मुलाकात

    भारत आज इतिहास रचने वाला है। चंद्रयान का लैंडर विक्रम 7 सितंबर को तड़के 1:55 पर चांद की धरती पर कदम रखेगा, वह पल इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिख दिया जाएगा। चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 के उतरने का सीधा नजारा देखने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 60 हाईस्कूल विद्यार्थियों के साथ बेंगलुरु स्थित इसरो केंद्र में मौजूद रहेंगे।

  • Chandrayaan 2 Budget lesser than Avengers Endgame movie

    HollywoodJul 22, 2019, 4:03 PM IST

    फिल्म ‘एवेंजर्स एंडगेम’ के आधे से भी कम है चंद्रयान-2 का बजट

    मुंबई। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का स्पेसक्राफ्ट चंद्रयान-2 चांद पर जाने के लिए तैयार है। 22 जुलाई को दोपहर 2.43 बजे देश के सबसे ताकतवर बाहुबली रॉकेट GSLV-MK3 से इसे लॉन्च किया जाएगा। इसके बाद चांद के दक्षिणी ध्रुव तक पहुंचने के लिए चंद्रयान-2 की 48 दिन की यात्रा शुरू हो जाएगी। भारत के चंद्रयान-2 मिशन का बजट 978 करोड़ रुपए है। वैसे, देखा जाए तो हॉलीवुड में इससे करीब 3 गुना ज्यादा बजट वाली फिल्में बन चुकी हैं। हालांकि भारत के इस मिशन का बजट भले ही इन फिल्मों से सस्ता है लेकिन कई मायनों में यह इनसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।
     
    भारत ही नहीं, दुनिया के लिए भी खास…
    दरअसल, इस मिशन के साथ कुल 13 पेलोड भेजे जा रहे हैं,  जिनमें पांच भारत के, तीन यूरोप, दो अमेरिका और एक बुल्गारिया के हैं। आठ पेलोड ऑर्बिटर में, तीन लैंडर विक्रम में जबकि दो रोवर प्रज्ञान में मौजूद रहेंगे। इस मिशन के जरिए चंद्रमा से जुड़ी खोज और जानकारियां जुटाने में मदद मिलेगी, जिससे न सिर्फ भारत को बल्कि पूरी दुनिया को फायदा होगा। 

    चंद्रयान-2 से दुनिया को मिलेगी ये अहम जानकारी…
    इसरो, चंद्रमा के साउथ पोल पर चंद्रयान-2 को उतारेगा। चांद के इस हिस्से के बारे में दुनिया को ज्यादा जानकारी नहीं है। इसरो के मुताबिक, चंद्रयान-2 चांद के भौगोलिक वातावरण, खनिज तत्वों, उसके वायुमंडल की बाहरी परत और पानी की उपलब्धता की जानकारी इकट्ठी करेगा। इसरो का सबसे जटिल और अब तक का सबसे प्रतिष्ठित मिशन माने जाने वाले 'चंद्रयान-2' के साथ भारत, रूस, अमेरिका और चीन के बाद चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बन जाएगा। हालांकि कोई भी देश अब तक चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास यान नहीं उतार पाया है।

  • Chandrayaan 2 Mission Launch GSLV MK 3

    NationalJul 22, 2019, 3:26 PM IST

    ‘बाहुबली’ से लॉन्च हुआ चंद्रयान-2, ये है रोबोटिक रोवर को चांद पर ले जाने वाले रॉकेट की खासियत

    श्रीहरिकोटा। भारतीय अंतिरक्ष अनुसंधान संगठन  (ISRO) ने इतिहास रचते हुए चंद्रयान-2 को लॉन्च कर दिया है। आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से दोपहर 2:43 मिनट पर चंद्रयान-2 को लॉन्च किया गया। चंद्रयान-2 को भारत के 'बाहुबली रॉकेट' GSLV मार्क III-M1 से लॉन्च किया गया। इसरो के वैज्ञानिकों ने इस बाहुबली रॉकेट को यह नाम उसके विशालकाय आकार की वजह से दिया है। दरअसल इसका नाम जियोसिंक्रोनस स्टैडिंग सेटेलाइट लॉन्च व्हिकल मार्क 3 है। जानते हैं चंद्रयान-2 को लॉन्च करने वाले रॉकेट GSLV मार्क III-M1 की खासियत…