Asianet News HindiAsianet News Hindi

जिन्हें चोट पहुंची उनसे माफी मांगता हूं.. यह कहकर बॉम्बे शेविंग कंपनी के CEO ने लिंक्डइन को कहा- बाय

बॉम्बे शेविंग कंपनी के फाउंडर और सीईओ ने शांतनु देशपांडे ने कुछ दिन पहले फ्रेशर्स कर्मचारियों को सलाह दी थी कि वे रोज 18 घंटे काम करें। उनकी बिन मांगी इस सलाह पर लोगों ने जमकर क्लास लगा दी। इसके बाद शांतनु ने माफी मांग लिंक्डइन को बाय बोल दिया। 

Bombay Shaving Company CEO Shantanu Deshpande quits LinkedIn after massive backlash apa
Author
First Published Sep 3, 2022, 2:24 PM IST

ट्रेंडिंग डेस्क। दिन में कर्मचारियों को 18 घंटे काम करने की नसीहत देने वाले CEO ने माफी मांगने के बाद सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म LinkedIn को बाय-बाय बोल दिया। दरअसल, बॉम्बे शेविंग कंपनी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी शांतनु देशपांडे ने हाल ही में लिंक्डइन पर पोस्ट लिखकर फ्रेंशर्स कर्मचारियों को सलाह दी थी कि वे हर रोज  18 घंटे तक काम करें। इस नसीहत के बाद लोगों ने खूब खरी-खोटी सुनाते हुए उनकी जमकर आलोचना की। 

इसके बाद शांतनु देशपांडे ने अपनी सलाह वापस लेते हुए बिन मांगी नसीहत देने को लेकर माफी मांगी। उन्होंने लिंक्डइन पर पोस्ट लिखकर बताया कि वह माफी मांग रहे हैं और अब यह उनकी आखिरी पोस्ट है। शांतनु ने पोस्ट में लिखा, मैं उन सभी लोगों से माफी मांगता हूं, जिन्हें मेरी पोस्ट से चोट पहुंची। मैं बारिकियों और उसके संदर्भ की आवश्यकता को समझता हूं। 

फ्रेशर्स के पास जिम्मेदारी कम और मौके अधिक 
पोस्ट में शांतनु ने इस बात का जिक्र भी किया कि उनकी सलाह को सही संदर्भ में समझा नहीं गया। साथ ही, उन्होंने अपनी नसीहत वाली पोस्ट सही ढंग से नहीं लिखे जाने और संदेश लोगों को तक ठीक तरीके से नहीं पहुंचाने को लेकर अपनी गलती भी स्वीकार की। उन्होंने कहा, मैं यह बताना चाहता था कि फ्रेशर्स कर्मचारी, जिनकी उम्र 22 से 27 साल के बीच होती है, उनके पास मौके अधिक होते हैं और जिम्मेदारी कम। ऐसे में वे कड़ी मेहनत करने और अपने कौशल को सुधारने का मौका पा सकते हैं। 

मेरी कंपनी में 80 प्रतिशत पुराने कर्मचारी 
उन्होंने कहा, अपनी पोस्ट के जरिए वह जहरीली कार्य संस्कृति को बढ़ावा नहीं दे रहे थे बल्कि, यह बताना मकसद था कि यदि आप ऐसी जगह काम कर रहे हैं, जहां आप सीख नहीं रहे या काम को एन्जाय नहीं कर रहे, तो काम करने के लिए वह सही जगह नहीं है। ऐसे में काम के माहौल को बदलना जरूरी है। यदि आपका शोषण हो रहा है तो यह बिल्कुल जरूरी हो जाता है। उन्होंने बताया कि बॉम्बे शेविंग कंपनी में 70 से 80 प्रतिशत तक वे कर्मचारी हैं, जो शुरुआत से जुड़े हुए थे। ऐसे में कंपनी की कार्य संस्कृति का अंदाजा बेहतर तरीके से लगाया जा सकता है। 

हटके में खबरें और भी हैं..

पार्क में कपल ने अचानक सबके सामने निकाल दिए कपड़े, करने लगे शर्मनाक काम 

किंग कोबरा से खिलवाड़ कर रहा था युवक, वायरल वीडियो में देखिए क्या हुआ उसके साथ  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios