Asianet News HindiAsianet News Hindi

Parivartini Ekadashi 2022: 6 सितंबर को एकादशी पर 4 शुभ योग, ये 5 उपाय पूरी करेंगे आपकी हर इच्छा

Parivartini Ekadashi 2022: हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का विशेष महत्व है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा विशेष रूप से की जाती है। इस बार 6 सितंबर, मंगलवार को भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि रहेगी। इसे परिवर्तिनी एकादशी कहते हैं। 
 

Jaljulni Ekadashi 2022 Parivartini Ekadashi 2022 Remedies for Ekadashi Shubh Yogas of Parivartini Ekadashi MMA
Author
First Published Sep 6, 2022, 6:00 AM IST

उज्जैन. धर्म ग्रंथों के अनुसार, एक साल में 24 एकादशी तिथि होती है। इन सभी का अलग-अलग महत्व व नाम पुराणों में बताया गया है। इनमें से भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी (Parivartini Ekadashi 2022 Upay) कहते हैं। कुछ ग्रंथों में इसे जलझूलनी एकादशी (Jaljhulni Ekadashi 2022) भी गया है। इस बार ये एकादशी 6 सितंबर, मंगलवार को है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार, इस एकादशी पर मानस, मित्र, आयुष्मान और सौभाग्य नाम के 4 शुभ योग बन रहे हैं। इन शुभ योगों में अगर कुछ विशेष उपाय किए जाएं तो हर इच्छा पूरी हो सकती है और संकटों से भी बचा जा सकता है। आगे जानिए इन उपायों के बारे में…

1. विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करें
शुभ फल पाने के लिए परिवर्तिनी एकादशी पर सुबह स्नान आदि करने के बाद पहले भगवान विष्णु की पूजा करें और इसके बाद विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। इससे घर में सुख-समृद्धि बनी रहेगी और अगर घर में किसी तरह का दोष है तो वह भी दूर हो सकता है।

2. विष्णु-लक्ष्मी का अभिषेक करें
अगर आप पैसों की तंगी से परेशान हैं तो इस एकादशी पर सुबह स्नान आदि करने के बाद भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की प्रतिमा एक साफ स्थान पर स्थापित करें और गाय के दूध से अभिषेक करें। ऐसा करते समय ऊं नम: भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का जाप करते रहें।

3. पीले फलों का दान करें
भगवान विष्णु को गुरु ग्रह का स्वामी भी कहा जाता है। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में गुरु ग्रह अशुभ स्थान पर है तो उसे एकादशी तिथि पर पीले फलों का दान जरूरतमंदों को करना चाहिए, लेकिन इसके पहले ये फल भगवान के चरणों में रखना चाहिए। इसके बाद भी दान करना चाहिए।

4. संतान गोपाल स्त्रोत का पाठ करें
अगर किसी दंपत्ति को संतान की इच्छा है तो उसे एकादशी तिथि पर संतान गोपाल स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। इसके लिए पहले भगवान श्रीकृष्ण के बाल स्वरूप की पूजा करें और उसी स्थान पर बैठकर इस स्त्रोत का पाठ करें। भगवान की कृपा से जल्दी ही आपकी ये इच्छा पूरी हो सकती है।

5. ब्राह्मण को वस्त्रों का दान करें
परिवर्तिनी एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा करने के बाद किसी योग्य ब्राह्मण को पीले वस्त्रों का दान करें। इससे भगवान की कृपा आप पर बनी रहेगी और आपके घर में सुख-समृद्धि का वास रहेगा। संभव हो तो ब्राह्मण को अपनी इच्छा अनुसार, अन्य चीजें जैसे कच्ची भोजन सामग्री का दान भी करें।


ये भी पढ़ें-

Parivartini Ekadashi 2022: 4 शुभ योग में किया जाएगा परिवर्तिनी एकादशी व्रत, खरीदी के लिए भी शुभ है दिन


Parivartini Ekadashi 2022: कब किया जाएगा परिवर्तिनी एकादशी व्रत? जानें पूजा विधि और शुभ मुहूर्त
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios