Asianet News Hindi

शनि और मंगल हैं शत्रु ग्रह, जन्म कुंडली में जब ये दोनों साथ हो तो मिलते हैं ये अशुभ फल

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि और मंगल एक-दूसरे के शत्रु ग्रह हैं। जिस व्यक्ति की कुंडली में ये दोनों ग्रह एक ही भाव में होते हैं, उन्हें अपने जीवन में अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

Saturn and Mars are enemy planets, when these two are together in the horoscope then you get these inauspicious results KPI
Author
Ujjain, First Published Dec 31, 2020, 1:21 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. कुछ ज्योतिषियों ने इस युति को द्वंद्व योग की संज्ञा दी है। द्वंद्व का अर्थ है लड़ाई। शनि मंगल का योग कुंडली में करियर के लिए संघर्ष देने वाला होता है। जानिए इससे जुड़ी अन्य खास बातें…

1. जिस व्यक्ति की कुंडली में शनि और मंगल की युति होती है उसे करियर की स्थिरता में बहुत समय लगता है और व्यक्ति को बहुत अधिक पुरुषार्थ करने पर ही करियर में सफलता मिलती है।
2. शनि मंगल का योग यदि कुंडली के छठे या आठवे भाव में हो तो स्वास्थ में कष्ट उत्पन्न करता है। शनि मंगल का योग विशेष रूप से पाचनतंत्र की समस्या, जॉइंट्स पेन और एक्सीडेंट जैसी समस्याएं देता है।
3. कुंडली में बलवान शनि सुखकारी तथा निर्बल या पीड़ित शनि कष्टकारक और दुखदायी होता है। इन विपरीत स्वभाव वाले ग्रहों का योग स्वभावतः भाव स्थिति संबंधी उथल-पुथल पैदा करता है।
4. यह योग लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम या द्वादश भाव में होने पर मंगल दोष को अधिक अमंगलकारी बनाता है, जिसके फलस्वरूप जातक के जीवन में विवाह संबंधी कठिनाइयां आती हैं।
5. लग्न में शनि-मंगल के होने से व्यक्ति अहंकारी व सनकी हो जाता है। जिस कारण वह अपने जीवन में हमेशा ऊट-पटांग निर्णय लेकर अपने जीवन को बर्बाद कर लेता है।

ये उपाय करें
 

1. शनि और मंगल से जुड़ी वस्तुओं का दान समय-समय पर करते रहना चाहिए।
2. शनि और मंगल के मंत्रों का जाप स्वयं करें। अगर संभव न हो तो किसी योग्य ब्राह्मण से भी मंत्र जाप करवा सकते हैं।
3. इन ग्रहों को दोष दूर करने से किसी ज्योतिषी से सलाह लेकर रत्न धारण करना चाहिए।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

कुंडली में कब बनता है समसप्तक योग, कब देता है शुभ और कब अशुभ फल?

ये हैं जन्म कुंडली के 5 अशुभ योग, इनसे जीवन में बनी रहती हैं परेशानियां, बचने के लिए करें ये उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में होते हैं इन 5 में से कोई भी 1 योग, वो होता है किस्मत का धनी

लाइफ की परेशानियां बढ़ाता है गुरु चांडाल योग, जानिए कैसे बनता है ये और इससे जुड़े उपाय

आपकी जन्म कुंडली में बन रहे हैं दुर्घटना के योग तो करें ये आसान उपाय

जिन लोगों की जन्म कुंडली के होते हैं ये 10 योग, वो बनते हैं धनवान

जन्म कुंडली में कब बनता है ग्रहण योग? जानिए इसके शुभ-अशुभ प्रभाव और उपाय

गुरु पुष्य से शुरू होकर इसी शुभ योग में खत्म होगा पौष मास, पिछले 100 सालों में ऐसा नहीं हुआ

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios