Asianet News HindiAsianet News Hindi

दशहरा पर दर्दनाक हादसा: दुर्गा विसर्जन करते वक्त नदी में डूबे एक ही परिवार के 5 लोग, इनमें दो सगे भाई

मरने वाले भाइयों की जगनेर (Jagner) में सिलाई की दुकान थी। पिछले साल एक भाई की बीमारी के कारण मौत हो गई थी। मारे गए युवकों में से एक राजेश की अगले महीने शादी थी। घर में शादी की तैयारी चल रही थी, लेकिन ये हादसा (Accident) हो गया।

5 people of Agra died due to drowning in Parvati river while performing Durga immersion in Dholpur
Author
Agra, First Published Oct 16, 2021, 8:36 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

धौलपुर/आगरा। राजस्थान (Rajasthan) के धौलपुर (Dhaulpur) में दहशरा पर पार्वती नदी (Parvati River) में एक बड़ा हादसा हो गया। यहां आगरा (Agra) के रहने वाले एक ही परिवार के पांच सदस्यों की डूबने से मौत हो गई। इनमें दो सगे भाई थे। ये लोग नवरात्रि पूजन के बाद मां दुर्गा का नदी में विसर्जन करने आए थे। पैर फिसलने से सभी लोग डूब गए। करीब 3 घंटे के रेस्क्यू के बाद सभी पांचों शव बाहर निकाले गए।

मरने वालों की पहचान राजेश (25), रणवीर (22), सत्यपाल (22), संजय (18) और कृष्णा (17) के रूप में हुई। सभी की उम्र 22 से 24 साल के बीच है। राजेश और रणवीर दोनों सगे भाई थे। राजेश की एक महीने बाद शादी होने वाली थी। पांचों आगरा के भवनपुरा इलाके में जगनेर गांव के रहने वाले थे।

Jharkhand: नदी में पानी भरने गए थे 7 बच्चे, तेज धार में बह गए, बारिश में चाल धंसने से मां-बेटी की जान गई

मौके पर पुलिस भी तैनात थी, पैर फिसला और सब लोग डूब गए
दरअसल, दशहरे पर चंबल और पार्वती नदी में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन होता है। ये लोग पार्वती नदी में मूर्ति विसर्जित करने आए थे। लेकिन, मूर्ति ज्यादा वजनी होने के कारण इनका बैलेंस बिगड़ा और सब एक के बाद एक नदी में डूबते चले गए। पांचों को तलाशने के लिए 3 घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। इसके बाद शवों को पोस्टमॉर्टम को भेजा गया। बाद में परिवारवालों को सौंप दिए गए।

एक सेल्फी से 3 दोस्तों की मौत: 2 परिवार के इकलौते बेटे थे, एक की भाई के सामने गई जान और वो कुछ नहीं कर सका

दोनों भाइयों की सिलाई की दुकान थी
राजेश और रणवीर की की जगनेर में सिलाई की दुकान थी। पिछले साल एक भाई की बीमारी के कारण मौत हो गई थी। मारे गए युवकों में से एक राजेश की अगले महीने शादी थी। घर में शादी की तैयारी चल रही थी लेकिन ये हादसा हो गया। भाई हेमराज ने बताया कि सत्य प्रकाश भी चचेरा भाई था। तीनों जगनेर में सिलाई की दुकान पर काम करते थे। संजय और कृष्णा भी परिवार से ही थे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios