जौनपुर ( Uttar Pradesh) । कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने की डर से लोग अपनों से ही दूरी बना रहे हैं। लॉकडाउन में किसी तरह ट्रक में सवार होकर घर पहुंचे युवक से पूरे परिवार ने दूरी बना ली। लोगों की सलाह पर एक कमरे में होम क्वारंटाइन हो गया। वहीं, पत्नी उसे खिड़की से देखकर संतोष कर लेती थी। लेकिन, एक रात पति उसके दरवाजे पर खटखटाने लगा, किंतु पत्नी ने क्वारंटाइन टाइम पूरा होने पर ही आने की बात कही, जिसे सुनकर काफी आहत हुआ। तनहाई में परेशान पति ने पेड़ पर फांसी लगा। यह घटना गोपालापुर बाजार की है। 

खिड़की से देखकर चली जाती थी पत्नी
मुंबई में भिवंडी में एक कंपनी में मशीन का सांचा चलाने श्रमिक छोटेलाल (32) लॉकडाउन में ट्रक से 12 मई को घर आ गया था। अपने घर में अलग कमरे में होम क्वारंटाइन था। कोरोना से संक्रमित होने के डर से उसकी पत्नी उसे खिड़की से देखती तो थी। लेकिन, उसके पास नहीं जाती थी।

कमरे में आने की बार-बार कर रहा था विनती
15 मई की रात को जय कुमार मौर्य ने अपनी पत्नी को कमरे में बुलाया। लेकिन, पत्नी ने कोरोना रिपोर्ट आने तक इंतजार करने को कहा। इसपर पति ने पत्नी से कमरे में आने की बार-बार विनती की। लेकिन, डर की वजह से वो पति के कमरे में नहीं गई। इनकार करने के बाद पति-पत्नी में झगड़ा शुरू हो गया।

सुबह पेड़ पर शव लटका देख मचा कोहराम
झगड़े से आहत होकर जय कुमार ने अपने घर के पास ही पेड़ से लटक कर जान दे दी। लोग, जब सुबह जगे तो उन्हें इसकी सूचना मिली जिसके बाद मृतक के घर में कोहराम मच गया। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।

पुलिस ने कही ये बातें
पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने कहा है कि शुक्रवार की रात छोटेलाल ने अपनी पत्नी से मिलने के लिए उसके कमरे का दरवाजा खटखटाया। पत्नी ने दरवाजा खोलने से इनकार कर दिया। इससे क्षुब्ध होकर उसने घर के सामने पेड़ में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

(प्रतीकात्मक फोटो)