Asianet News HindiAsianet News Hindi

Congo: नदी में नाव पलटने से हाहाकार, 51 शव मिले, 69 की तलाश, जगह-जगह बिखरी पड़ी मिलीं लाशें

कांगो  (Congo) में नाव दुर्घटनाएं (Boat Accidents) आम हो गईं हैं। यहां अक्सर क्षमता से ज्यादा यात्री सवार होते हैं। ज्यादातर लोग लाइफ जैकेट (Life jacket)भी नहीं पहनते हैं। इसी साल फरवरी में माई-नदोम्बे प्रांत (Mai-Ndombe Province) में कांगो नदी में नाव पलटने से बड़ा हादसा हो गया था। इसमें 60 लोगों की मौत हो गई थी। नाव में 700 से ज्यादा यात्री सवार थे। जांच में पता चला कि क्षमता से ज्यादा यात्रियों के सवार होने से यह दुर्घटना हुई।

Democratic republic of Congo Boat Accident Congo River More Passengers than Capacity News and updates
Author
Congo River, First Published Oct 9, 2021, 7:11 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

किंशासा। डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (Democratic Republic of Congo)में बड़ा हादसा हो गया। यहां नाव के पलटने से 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और करीब 69 लोग लापता हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। घटना के बाद जगह-जगह लाशें बिखरी पड़ी मिलीं। यह हादसा कांगो नदी में हुआ। उत्तर पश्चिमी प्रांत मोंगाला (Mongala) के गवर्नर के प्रवक्ता नेस्टर मैगबाडो (Nestor Magbado) ने बताया कि 51 शवों को निकाल लिया गया है। बाकी की तलाश की जा रही है। हादसे में 39 लोग सुरक्षित बचाए गए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नाव में यात्रियों के सवार होने से पहले गिनती नहीं की गई थी। ऐसे में नाव में बैठने की क्षमता को देखकर लापता लोगों की संख्या का अंदाजा लगाया जा रहा है। सरकार का कहना है कि सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है। इसके लिए कुछ घंटे इंतजार करना होगा, तभी पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। उम्मीद की जा रही है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को जिंदा बचाया जा सके। सरकार का कहना था कि हादसा रात में खराब मौसम के कारण या फिर ज्यादा भीड़भाड़ की वजह से होने की आशंका है। प्रांतीय अधिकारियों ने तीन दिन के लिए शोक की घोषणा की है। इससे पहले जुलाई, 2010 में पश्चिमी प्रांत बांडुंडु में नाव के पलटने से 135 से ज्यादा लोगों की जान चली गई थी।

बिहार में बड़ा हादसा: बीच नदी में जाकर डूब गई 22 लोगों से भरी नाव, एक-एक करके निकल रहीं लाशें...

फरवरी में 60 लोगों की मौत हो गई थी
इससे पहले, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में 15 फरवरी को एक नाव के पलटने से 60 लोगों की मौत हो गई थी। ये हादसा भी कांगो नदी में ही हुआ। नाव पर क्षमता से ज्यादा लोग सवार थे, जिस कारण नाव डूब गई। देश के मानवीय मामलों के मंत्री स्टीव मबिकायी ने बताया था कि इस नाव में 700 लोग सवार थे। नाव एक दिन पहले किनहासा प्रांत से मबनडाका के लिए रवाना हुई थी। माई-नोमडबे प्रांत के लोंगगोला इकोती गांव के पास पहुंचने पर डूब गई। इस घटना में जिम्मेदार लोगों पर प्रतिबंध लगाने की मांग भी की गई थी।

गुजरात की समुद्री सीमा से 12 पाकिस्तानी नागरिक गिरफ्तार, अवैध रूप से घुसने की कर रहे थे कोशिश

लंबी दूरी की यात्रा के लिए कांगो नदी एकमात्र रास्ता है
इससे पहले भी कांगो में इस तरह की घटनाएं सामने आती रही हैं। जनवरी में भी नाव हादसा हुआ था, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 20 लोगों का कुछ पता नहीं चला था। ये हादसा क्षमता से ज्यादा यात्रियों के बैठने की वजह से हुआ था। दरअसल, देशभर में सड़कों का बुरा हाल है, इस कारण लोग नाव के जरिए यात्रा करने को तवज्जो देते हैं। हालांकि इस वजह से नाव पर ज्यादा संख्या में लोग सवार हो जाो हैं। वहीं, नाविकों द्वारा ज्यादा भार भी लोड कर दिया जाता है। कांगो वासियों के लिए लंबी दूरी की यात्रा करने का एकमात्र जरिया कांगो नदी है। बता दें कि कांगो की अर्थव्यवस्था काफी खराब है और इसलिए सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाती है।

महाराष्ट्र के अमरावती में हुए नाव हादसे का Video, तेज बहाव में फंसी नाव और फिर 11 लोगों की मौत

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios