Asianet News HindiAsianet News Hindi

भारत की अर्थव्यवस्था 2021 में 9.5 प्रतिशत और 2022 में 8.5 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद: आईएमएफ

आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ (Geeta Gopinath) ने कहा कि उनके जुलाई के पूर्वानुमान की तुलना में, 2021 के लिए वैश्विक विकास अनुमान को मामूली रूप से संशोधित कर 5.9 प्रतिशत कर दिया गया है और 2022 के लिए 4.9 प्रतिशत पर अपरिवर्तित है। 

IMF Projections 2022: India to be fastest growing economy in 2021 and 2022
Author
Washington D.C., First Published Oct 13, 2021, 3:30 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

वाशिंगटन। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) द्वारा मंगलवार को जारी नवीनतम अनुमानों के अनुसार, भारत की अर्थव्यवस्था 2021 में 9.5 प्रतिशत और 2022 में 8.5 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है। कोविड -19 महामारी (Covid-19 Pandemic) के कारण यह 7.3 प्रतिशत थी।

विश्व आर्थिक आउटलुक (WEO) द्वारा जारी भारत का विकास अनुमान इस गर्मी में जुलाई के अपने पिछले WEO अपडेट से अपरिवर्तित है, लेकिन 2021 में तीन प्रतिशत अंक और अप्रैल के अनुमानों से 1.6 प्रतिशत की गिरावट है। IMF और विश्व बैंक (world bank) की वार्षिक बैठक से पहले जारी अपडेट के अनुसार, 2021 में दुनिया के 5.9 प्रतिशत और 2022 में 4.9 प्रतिशत की दर से बढ़ने की उम्मीद है।

 

अमेरिका और चीन की बढ़ोतरी से आगे भारत

अमेरिका के इस साल छह फीसदी और अगले साल 5.2 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान है। दूसरी ओर, चीन ने कहा कि 2021 में 8 प्रतिशत और 2022 में 5.6 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान है।

हर देश में कम से कम इस साल 40 प्रतिशत वैक्सीनेशन

आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ (Geeta Gopinath) ने कहा कि उनके जुलाई के पूर्वानुमान की तुलना में, 2021 के लिए वैश्विक विकास अनुमान को मामूली रूप से संशोधित कर 5.9 प्रतिशत कर दिया गया है और 2022 के लिए 4.9 प्रतिशत पर अपरिवर्तित है। उन्होंने कहा कि एडवांस आर्थिक ग्रुप के लिए कुल उत्पादन 2022 में अपने पूर्व-महामारी प्रवृत्ति पथ को फिर से हासिल करने और 2024 में 0.9 प्रतिशत से अधिक होने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि उभरते बाजार और विकासशील अर्थव्यवस्था समूह (चीन को छोड़कर) के लिए कुल उत्पादन 2024 में पूर्व-महामारी पूर्वानुमान से 5.5 प्रतिशत कम रहने की उम्मीद है, जिसके परिणामस्वरूप उनके जीवन स्तर में सुधार के लिए एक बड़ा झटका होगा। गोपीनाथ ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण नीति प्राथमिकता है कि 2021 के अंत तक हर देश में कम से कम 40 प्रतिशत आबादी का टीकाकरण करना और 2022 के मध्य तक 70 प्रतिशत।

यह भी पढ़ें:

कोरोना कैसे फैला? आखिर इस जांच से क्यों कतरा रहा चीन, डब्ल्यूएचओ को फिर बोला- No

राष्ट्रीय मास्टर प्लान-पीएम गतिशक्ति का मोदी करेंगे शुभारंभ, विकास के नाम पर धन की बर्बादी पर लग सकेगा लगाम

रिटायर्ड आइएएस अमित खरे पीएम मोदी के एडवाइजर नियुक्त

ब्लैकआउट के अंदेशे के बीच राहत भरा दावा: केंद्रीय कोयला मंत्री ने बताया कोल इंडिया के पास अभी 22 दिनों का स्टॉक

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios