Asianet News Hindi

लाइफ मैनेजमेंट: वो कौन-से 9 लोग हैं, जिनकी बात हमें तुरंत मान लेनी चाहिए, जानिए क्यों

हमारे धर्म ग्रंथों में लाइफ मैनेजमेंट के अनेक सूत्र बताए गए हैं। ये सूत्र आज के समय में भी प्रासंगिक हैं।

Life Management, know why one should listen to these 9 people KPI
Author
Ujjain, First Published Jun 15, 2021, 8:58 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. तुलसीदासजी द्वारा चरित श्रीरामचरित मानस में ऐसे 9 लोगों के बारे में बताया गया है जिनकी बात तुंरत मान लेनी चाहिए, नहीं तो हम संकट में फंस सकते हैं। इन लोगों का विरोध करने पर ये हमारा अहित भी कर सकते हैं। आगे जानिए कौन हैं वो 9 लोग…

1. शस्त्रधारी
यदि कोई शस्त्रधारी हमें किसी काम को करने के लिए कह रहा है, तो हमारी भलाई इसी में है कि हम उसका काम कर दें, अन्यथा परिणाम भयंकर हो सकते हैं। शस्त्रधारी की बात टालने पर उसे क्रोध आ सकता है और वह हम पर प्रहार भी कर सकता है। इस स्थिति से बचने के लिए हमें उस समय सभी बातें मान लेनी चाहिए।

2. भेद जानने वाला
यदि कोई व्यक्ति हमारे सभी भेद यानी राज जानता है, तो उसकी बात न मानना बहुत ही हानिकारक हो सकता है। भेद जानने वाला व्यक्ति नाराज हो जाए तो वह हमारे राज सभी को बता सकता है। राज की बातें सार्वजनिक होने पर कई प्रकार के विपरीत परिणाम झेलने पड़ सकते हैं।

3. मालिक या बॉस
बॉस की बात को टालना आपकी नौकरी पर बुरा असर डाल सकता है। इसीलिए मालिक जो भी बात कहे, उसे तुरंत मान लेना चाहिए। कभी-कभी बॉस गलत निर्णय भी ले लेते हैं, लेकिन हमें यह बात वाद-विवाद करके नहीं, बल्कि काम करके सिद्ध करनी चाहिए कि बॉस का निर्णय गलत था।

4. सठ यानी मूर्ख
यदि कोई व्यक्ति मूर्ख है और वह कुछ कह रहा है तो उसे तुरंत मान लें, अन्यथा वह आपका समय बर्बाद करेगा। बेकार के तर्क-वितर्क करेगा और इन बातों को सुनने से आपको कोई फायदा नहीं होगा। इसलिए मूर्ख व्यक्ति की बात तुरंत मान लेनी चाहिए।

5. धनवान
धन ही सब कुछ नहीं है, लेकिन धन बहुत कुछ कर सकता है। जहां धन की आवश्यकता है, वहां उसके अलावा और किसी चीज से काम नहीं चल सकता। इसलिए कभी भी धनी व्यक्ति का अनादर नहीं करना चाहिए, अन्यथा जब धन की आवश्यकता होगी तो उससे मदद प्राप्त नहीं हो पाएगी। धनी व्यक्ति अपने धन से कई प्रकार के कार्यों में हमारा सहयोग कर सकता है।

6. वैद्य
वैद्य यानी डॉक्टर को भगवान का ही एक रूप माना जाता है। जब स्वास्थ्य बिगड़ता है तो वैद्य ही इलाज करता है। इसलिए वैद्य यदि कोई सलाह दे तो उसका अक्षरश: पालन करना चाहिए।

7. भाट
भाट प्राचीन काल में अपने राजाओं की प्रशंसा करते हुए कविताएं लिखते थे और गाते थे। इस कारण वे राजा के प्रिय होते थे। रावण और मारीच के काल में भाटों का काफी महत्व था। इस कारण इनकी बात को भी नजरअंदाज करना हानिकारक ही होता था, क्योंकि वे राजा के करीबी होते थे और अपने विरोधी को सजा भी दिलवा सकते थे।

8. कवि
यदि हम किसी कवि का अनादर करेंगे या उसका विरोध करेंगे तो वह कविताओं के माध्यम से अपने विरोधियों की साख खराब कर सकता है। कविताएं बहुत प्रभावी होती हैं और इनसे बहुत ही जल्दी किसी भी व्यक्ति की साख बन भी जाती है और खराब भी हो जाती है। इसलिए कवि की बात भी तुरंत मान लेनी चाहिए।

9. रसोइया
रसोइए की बातों को भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यदि रसोइया रूठ जाएगा तो वह खाने में कुछ भी मिलाकर हमारी सेहत बिगाड़ सकता है।

धर्म ग्रंथों के लाइफ मैनेजमेंट के बारे में ये भी पढ़ें

चाणक्य नीति: धन का कभी अहंकार नहीं करना चाहिए, इन 3 चीजें पैसे से भी अधिक महत्वपूर्ण हैं

चाणक्य नीति: विपरीत समय आने पर ऐसा पैसा और ज्ञान हमारे किसी काम नहीं आता

चाणक्य नीति: गुरु सहित इन 4 लोगों का भी पिता की तरह आदर-सम्मान करना चाहिए

चाणक्य नीति: इन 4 महिलाओं का अपनी माता के समान ही आदर करना चाहिए

जब भी आए मुश्किल समय तो हमेशा ध्यान रखें आचार्य चाणक्य की ये 5 नीतियां

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios