Paush Month 2022: कब से कब तक रहेगा पौष मास, इस महीने में सूर्य के किस रूप की पूजा करें?

| Dec 01 2022, 06:00 AM IST

Paush Month 2022: कब से कब तक रहेगा पौष मास, इस महीने में सूर्य के किस रूप की पूजा करें?
Paush Month 2022: कब से कब तक रहेगा पौष मास, इस महीने में सूर्य के किस रूप की पूजा करें?
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

Paush Month 2022: हिंदू पंचांग में साल को 12 महीनों में बांटा गया है। इन सभी महीनों के नाम और महत्व अलग-अलग है। इसी क्रम में साल के दसवें महीने कौ पौष कहा जाता है। पुष्य नक्षत्र के चलते इस महीने का नाम पौष पड़ा है।
 

उज्जैन. हिंदू पंचांग में कुल 12 महीने बताए गए हैं। इनमें से दसवें महीने का नाम पौष (Paush Month 2022) है। इस महीने के अंतिम दिन यानी पूर्णिमा तिथि पर चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में होता है। चंद्रमा के पुष्य नक्षत्र में होने से ही इस महीने का नाम पौष रखा गया है। ये महीना शीत ऋतु के अंतर्गत आता है। इस महीने में सूर्यदेव की पूजा का विशेष महत्व धर्म में बताया गया है। इस महीने में पितृ कर्म यानी पिंडदान और श्राद्ध आदि का भी काफी महत्व है, ऐसा करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है। आगे जानिए इस बार पौष मास कब से कब तक रहेगा…


9 दिसंबर से शुरू होगा पौष मास
पंचांग के अनुसार, इस बार पौष मास की शुरूआत 9 दिसंबर से होगी, जो 7 जनवरी 2023 तक रहेगा। इस महीने में सूर्य पूजा का विशेष महत्व है। परंपरा के अनुसार, इस महीने में रोज सुबह किसी पवित्र नदी में स्नान करने के बाद सूर्यदेव को जल चढ़ाने से कई तरह की परेशानियां दूर हो सकती है। इस महीने में सूर्य के साथ देवी लक्ष्मी और कुबेर की उपासना भी विशेष फलदायी मानी जाती है। इससे आर्थिक परेशानियां भी दूर होती हैं।

Subscribe to get breaking news alerts


इन चीजों का दान करें
पौष महीने में कुछ खास चीजें दान करने का विशेष महत्व बताया गया है। इस महीने में तिल, गेहूं, गुड़, गर्म कपड़े, तांबे के बर्तन, जूते-चप्पल, कंबल और लाल चीजों का दान करना चाहिए। इन चीजों के दान से कई यज्ञ करने जितना फल मिलता है। पौष महीने में किए दान से उम्र बढ़ती है और जाने-अनजाने में हुए पाप खत्म हो जाते हैं।


सूर्य के भग स्वरूप की पूजा करें
धर्म ग्रंथों में सूर्य के 12 रूप बताए गए हैं। हर स्वरूप की पूजा का अलग-अलग फल मिलता है। पौष मास में भगवान भास्कर ग्यारह हजार किरणों के साथ तपकर सर्दी से राहत देते हैं। इनका वर्ण रक्त के समान है। ग्रंथों के मुताबिक, पौष मास में सूर्य देव के भग स्वरूप की पूजा करनी चाहिए। पौष मास का भग नामक सूर्य साक्षात परब्रह्म का ही स्वरूप माना गया है। 


ये भी पढ़ें-

हर किचन में होते हैं ये 5 मसाले, कोई देता है धन लाभ तो कोई बचाता है बुरी नजर से

Mahabharata: इस योद्धा को सिर्फ 6 लोग मार सकते थे, बहुत ही दर्दनाक तरीके से हुई थी इसकी मृत्यु

शनि के नक्षत्र में बना 3 ग्रहों का संयोग, किन-किन राशियों को मिलेगा इसका शुभ फल?
 

Disclaimer : इस आर्टिकल में जो भी जानकारी दी गई है, वो ज्योतिषियों, पंचांग, धर्म ग्रंथों और मान्यताओं पर आधारित हैं। इन जानकारियों को आप तक पहुंचाने का हम सिर्फ एक माध्यम हैं। यूजर्स से निवेदन है कि वो इन जानकारियों को सिर्फ सूचना ही मानें। आर्टिकल पर भरोसा करके अगर आप कुछ उपाय या अन्य कोई कार्य करना चाहते हैं तो इसके लिए आप स्वतः जिम्मेदार होंगे। हम इसके लिए उत्तरदायी नहीं होंगे।