Asianet News HindiAsianet News Hindi

RamSetu: रामसेतु को बनाने वाले असली इंजीनियर्स कौन थे, किसने डिजाइन किया था पुल?

RamSetu teaser: अक्षय कुमार (Akshay Kumar) की अपकमिंग मूवी रामसेतु (Ram Setu) का टीजर सोमवार को रिलीज किया गया। ये मूवी 25 अक्टूबर 2022 को बड़े परदे पर दिखाई देगी। टीचर के रिलीज होते ही एक बार फिर रामसेतु ट्रेंड करने लगा है।
 

Ramsetu Movie Ramsetu Teaser Akshay Kumar Movie Valmiki Ramayan Sri Ramcharit Manas Who was the engineer of Ram Setu MMA
Author
First Published Sep 27, 2022, 1:09 PM IST

उज्जैन. अक्षय कुमार स्टारर मूवी रामसेतु (Ram Setu Movie) 25 अक्टूबर 2022 को बडे़ परदे पर दिखाई देगी। ये जानकारी खुद अक्षय ने इंस्ट्राग्राम पर दी है। फिल्म में अक्षय का किरदार एक नास्तिक व्यक्ति का है जो पुरातत्व विभाग में काम करता है। फिल्म का टीजर रिलीज होते ही एक बार फिर रामसेतु चर्चाओं में आ गया है। रामसेतु का वर्णन वाल्मीकि रामायण (Valmiki Ramayana) और श्रीरामचरित मानस (Shri Ramcharit Manas) के साथ-साथ अन्य कई ग्रंथों में भी मिलता है। इन्हीं ग्रंथों के आधार पर ये कहा जाता है कि इस पुल का निर्माण लाखों वानरों ने श्रीराम के नेतृत्व में किया था। लेकिन बहुत कम लोग ये जानते हैं कि रामसेतु बनाने वाले असली इंजीनियर्स कौन थे? आज हम आपको रामसेतु से जुड़ी खास बातें बता रहे हैं, जिनके बारे में कम ही लोगों को पता है…

आखिर क्यों बनाना पड़ा वानरों को समुद्र पर पुल?
वाल्मीकि रामायण के अनुसार, त्रेतायुग में भगवान विष्णु ने श्रीराम के रूप में जन्म लिया था। उस समय राक्षसों के राजा रावण ने उनकी पत्नी सीता का हरण कर लंका में कैद कर लिया था। जब ये बात श्रीराम को पता चली तो वे वानरों और रीछों की सेना लेकर लंका पर आक्रमण करने गए, मगर रास्ते में विशाल समुद्र था। विशाल सेना को लेकर समुद्र पार करने का कोई उपाय नहीं था। इस समस्या का कोई हल न देखकर श्रीराम ने समुद्र को सुखाने का निश्चय किया। तभी समुद्र देवता प्रकट हुए और उन्होंने श्रीराम को पुल बनाने की सलाह दी। 

कौन थे रामसेतु के इंजीनियर्स?
समुद्र पर पुल बनाना आसान नहीं था क्योंकि जैसे ही वानर पानी में पत्थर डालते थे, वे डूब जाते थे। तब नल और नील नाम के 2 वानरों ने श्रीराम को बताया कि उन्हें समुद्र पर पुल बनाने की कला आती है। नल-नील ने ये भी बताया कि वे देवताओं के शिल्पी  (इंजीनियर) विश्वकर्मा के पुत्र हैं, इसलिए वे ये काम आसानी से कर सकते हैं। तब श्रीराम के आदेश पर ही उन्होंने रामसेतु का डिजाइन तैयार किया और अपने कौशल के चलते इस कार्य को पूरा करने में जुट गए।

कितने दिनों में बना था रामसेतु?
वाल्मीकि रामायण के अनुसार, वानर सेना को समुद्र पर पुल बनाने में 5 दिन का समय लगा। पहले दिन वानरों ने 14 योजन, दूसरे दिन 20 योजन, तीसरे दिन 21 योजन, चौथे दिन 22 योजन और पांचवे दिन 23 योजन पुल बनाया था। इस प्रकार कुल 100 योजन लंबाई का पुल समुद्र पर बनाया गया। यह पुल 10 योजन चौड़ा था। सूर्य सिद्दांत के अनुसार 1 योजन में 8 किलोमीटर होता है। इस तरह रामसेतु बनकर तैयार हो गया और इस पुल पर चलते हुए श्रीराम की सेना ने विशाल समुद्र को पार किया।


ये भी पढ़ें-

RamSetu Teaser: गोलीबारी और बम धमाकों के बीच रामसेतु बचाने निकले अक्षय कुमार, मूवी रिलीज डेट OUT

Navratri Upay: नवरात्रि में घर लाएं ये 5 चीजें, घर में बनी रहेगी सुख-शांति और समृद्धि

Navratri 2022: नवरात्रि में प्रॉपर्टी व वाहन खरीदी के लिए ये 6 दिन रहेंगे खास, जानें कब, कौन-सा योग बनेगा?
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios