Asianet News HindiAsianet News Hindi

4 बार प्रेग्नेंसी नहीं टिकी, 5वीं बार कोख में ही हो गई 2 बच्चों की मौत, दिल दहला देगा फैशन डिजाइनर का दर्द

आलिया अल रफाई ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी प्रेग्नेंसी का दर्द बयां किया है। उनका कहना है कि 8 साल पहले वे इसके कॉम्प्लिकेशन के चलते मर भी सकती थीं। 

Allia Al Rufai The Fashion Designer of Kiara Advani And Anushka Sharma Shares Her Pregnancy Pain Online GGA
Author
Mumbai, First Published Jun 26, 2022, 4:51 PM IST

एंटरटेनमेंट डेस्क. बॉलीवुड की फेमस फैशन डिजाइनर आलिया अल रफाई की मानें तो उन्हें अपना परिवार बढ़ाने के लिए काफी दुःख और तकीफ से गुजरना पड़ा। उनके मुताबिक़, चार बार असफल प्रेग्नेंसी के बाद जब वे पांचवी बार प्रेग्नेंट हुईं तो उन्होंने अपने दो बच्चों को कोख में ही खो दिया था। अनुष्का शर्मा, कियारा आडवाणी, दीपिका पादुकोण और यामी गौतम जैसी एक्ट्रेसेस के लिए काम कर चुकीं आलिया ने सोशल मीडिया पपर अपना दर्द बयां किया है।

आलिया ने लिखा- हर 6 महीने में एक्टोपिक प्रेग्नेंसी हुई 

आलिया ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि 8 साल पहले उनके पति और उन्होंने बच्चे के लिए कोशिश शुरू कर दी थी। वे लिखती हैं, "8 साल पहले मुझे अब तक के सबसे अंधे दर्द के चलते अस्पताल ले जाया गया। वहां मुझे पता चला कि मैं प्रेग्नेंट थी, लेकिन यह प्रेग्नेंसी एक्टोपिक (अस्थानिक) थी। मेरी लाइफ सेविंग सर्जरी करनी पड़ी। 6 महीने बाद मैं फिर से प्रेग्नेंट हुई। लेकिन यह भी एक्टोपिक प्रेग्नेंसी रही। इसके 6 महीने बाद मुझे अपनी तीसरी प्रेग्नेंसी के बारे में पता चला। लेकिन बमुश्किल एक दिन बाद ही मैंने अपनी इस प्रेग्नेंसी को भी खो दिया।"

चौथी प्रेग्नेंसी के बाद डी एन सी करानी पड़ी

आलिया ने आगे लिखा है, "तीसरी प्रेग्नेंसी खोने के 6 महीने बाद मैं चौथी बार प्रेग्नेंट हुई। लेकिन यह भी नहीं टिकी। गर्भाशय में परमानेंट घाव और क्षति रोकने के लिए मुझे डी एन सी करानी पड़ी। दो साल के असहनीय  शारीरिक और भावनात्मक दर्द के बाद हमने IVF शरू किया। पहले भ्रूण स्थानांतरण के बाद हमें पता चला कि ये 1 प्रतिशत थे, जो विभाजित हो चुके थे। मैं ट्रिपलेट्स के साथ प्रेग्नेंट थीं, जिनमें से दो एक जैसे थे और एक प्लेसेंटा साझा करता था। इस तरह मेरी हाई रिस्क प्रेग्नेंसी शुरू हुई। हमें सलाह दी गई कि हम अपनी गर्भावस्था को कम करें, ताकि सुरक्षित एक बच्चे को जन्म दे सकें। लेकिन मैं इसके समर्थन में नहीं थी। 15 सप्ताह तक मैंने हर दिन उलटी करके बिस्तर पर आराम किया। यही प्रार्थना करती रही कि मेरे बच्चे ठीक हो जाएं। हर झटके, हर दर्द ने मेरी हालत खराब की। मैं इन बच्चों को अपने जीवन से ज्यादा चाहती थी। अगर मुझसे कोई पूछता था कि मैं बड़ा होकर क्या बनना चाहती हूं तो मेरा जवाब होता मां। 18वें सप्ताह में मुझे पूरी तरह बेडरेस्ट की सलाह दी गई। मुझे बताया गया कि मेरे जुड़वां बच्चों में टीटीटीएस (ट्विन-टू-ट्विन ट्रांसफ्यूजन सिंड्रोम) विकिसत हो गया है।"

जुड़वां बच्चों में टीटीटीएस विकसित हो गया था

आलिया लिखती हैं, "एक बच्चे को दूसरे की तुलना में ज्यादा खून मिल रहा था। मेरी लीला, तेजी से बढ़ रही थी। अन्य समान जुड़वां बच्चों की तुलना में अधिक संसाधनों का उपयोग कर रही थी। मेरी मिलान, नन्ही सी बच्ची, जो पसलियों के नीचे थी, मेरे दिल के करीब थी। हमें विशेषज्ञों को दिखाने के लिए कहा गया और संभवतः टीटीटीएस को ठीक करने के लिए सर्जरी की जरूरत थी। हम एक सप्ताह बाद एक विशेषज्ञ के पास गए, लेकिन वे मिले नहीं। कहीं बाहर गए थे और दो दिन बाद आने वाले थे। तीनों बच्चों ने पूरे वीकेंड मुझे लात मारी।"

फिर डॉक्टर ने दी बुरी खबर

बकौल आलिया, "सोमवार को जब हम डॉक्टर के पास गए तो अल्ट्रासाउंड करने के बाद डॉक्टर ने कहा कि अच्छी खबर नहीं है। बेबी बी की धड़कन नहीं मिल रही है। उसे हैमर हैंगिंग हो गया था और दौरे पड़ रहे थे और संभवतः वह जीवित नहीं बचेगी। लेकिन अगर वह सर्वाइव कर गई तो जिंदगीभर  न सांस ले पाएगी, न खा पाएगी और न ही अपने आप बढ़ पाएगी। उस वक्त हमारी जो हालत थी, उसके लिए हम बर्बाद हो गए कहना भी बहुत छोटा सा वाक्य था। बस इस बात ने हमें उम्मीद दी कि हमारा बेबी सी ठीक था। वह शारीरिक रूप से अपनी जुड़वां बहनों से अलग हो गया था।"

डॉक्टर ने बेबी को टर्मिनेट करने की सलाह दी

आलिया लिखती हैं, "चूंकि मैं ट्रिपलेट्स के साथ प्रेग्नेंट थी और एक बच्चा हेल्दी थी। इसलिए मुझे बेबी A लीला को टर्मिनेट करने के लिए कहा गया था, जो मेरे सामने स्क्रीन पर हेल्दी बेबी दिख रही थी। लेकिन उसे खून बहता रहा और दौरे पड़ते रहे। अगर मैं उसे बचाने के लिए कुछ भी कर सकती तो वह जरूर करती। मैं उसे हर चीज़ से बढ़कर चाहती थी। लेकिन मुझे नहीं पता कि कौन उसे दुनिया में अपने पूरे जीवन में सांस लेने, खाने और चलने की क्षमता के बिना लाने को कहेगा। उसके पास कोई विकल्प नहीं था। लेकिन मेरे पास था।" आलिया के मुताबिक़, इसके दो दिन बाद डॉक्टर ने ऑपरेशन के जरिए उनकी बेटी की धडकन रोल दीं। आलिया के मुताबिक़, 29 सितम्बर 2016 को उन्होंने तीनों बच्चों को डिलीवर किया, जिनमें से सिर्फ एक ही जीवित रहा। उनका बेटा चार्ली जन्म के बाद 7 सप्ताह तक एनआईसीयू में रहा, उसके बाद घर आया। बाद में आलिया ने एक बेटी को भी जन्म दिया, जो 7 महीने की हो चुकी है।

और पढ़ें... 

JUG JUGGG JEEYO के बेडरूम सीन से पहले हुआ था वरुण-कियारा का जमकर झगड़ा, जानिए क्या थी इसकी वजह?

JUG JUGG JEEYO : दूसरे दिन वरुण धवन की फिल्म ने पकड़ी रफ़्तार, 'सम्राट पृथ्वीराज' के मुकाबले दोगुनी रही ग्रोथ

Kiss के साथ फुल रोमांटिक अंदाज, अर्जुन के साथ मलाइका अरोड़ा को ऐसे देखा तो लोग बोल उठे- क्या बात है

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: आखिर क्यों नहीं मिला 'अंजलि भाभी' को 6 महीने का मेहनताना, मेकर्स ने बताई वजह

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios