Asianet News HindiAsianet News Hindi

कांग्रेस ही नहीं उसके नेता भी इस झूठी तस्वीर को सालों से कर रहें वायरल, जानें क्या है इसका सच

इस फोटो का सच जाने बिना ही सालों से इसे ट्वीट किया जा रहा है। कांग्रेस ने भी इस फोटो को साल 2019 में ट्वीट किया था। अब शशि थरूर ने भी इस फोटो को ट्वीट किया है।

Shashi Tharoor including Congress tweeted without knowing the truth of this fake photo kpn
Author
New Delhi, First Published Nov 13, 2021, 3:50 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

क्या वायरल हो रहा है: सोशल मीडिया (Social Media) पर कई ऐसी पोस्ट वायरल होती है, जिसकी सत्यता की गारंटी कोई नहीं लेता। लेकिन अगर उसी पोस्ट को कोई बड़ा नेता या यूथ आइकन पोस्ट कर दे तो उसकी विश्वसनियता बढ़ जाती है। शशी थरूर ने भी कुछ ऐसा ही किया। सोशल मीडिया पर कई दिनों से एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें एक ट्रक दिख रहा है। ट्रक के पीछे लिखा है,  कृपया हॉर्न न बजाए। मोदी सरकार सो रही है। ये फोटो कई दिनों से वायरल हो रही है लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया, लेकिन जब शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने इस फोटो को 6 नवंबर को अपने ट्विटर पर शेयर कर दिया तब मामला आगे बढ़ गया। लोगों को लगा कि ये फोटो सच है। शशि थरूर की पोस्ट पर करीब 4 हजार रीट्वीट और 33 हजार से ज्यादा लाइक्स आए। लेकिन इस पोस्ट पर रिएक्ट करने वालों को शायद ही पता हो कि ये फेक तस्वीर (Fake Picture) है।

वायरल तस्वीर का सच :

  • वायरल तस्वीर का सच बताते से पहले ये जान लेते हैं कि आखिर इस तस्वीर को कब-कब वायरल किया गया है। दरअसल, साल 2018 फरवरी में इसी तस्वीर को मधु पूर्णिमा किश्वर ने ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था, भारत के ट्रक अक्सर सांसारिक ज्ञान, चुटीले हास्य, दार्शनिक कविता और राजनीतिक टिप्पणी के शब्द ले जाते हैं। इसी तस्वीर को 2 साल बाद कांग्रेस ने अपने ट्विटर हैडंल से ट्वीट किया। 
  • अब बताते हैं कि आखिर इस तस्वीर का सच क्या है। सच की पड़ताल के लिए गूगल के रिवर्स इमेज टूल की मदद ली गई। इसके जरिए कई लिंक मिले। एक लिंक फैक्टली वेबसाइट का मिला। जहां बताया गया था कि ये तस्वीर कुछ और है। इसे एडिट करके वायरल किया जा रहा है। असली तस्वीर के साथ पीएम मोदी को लेकर कोई मैसेज नहीं लिखा गया है।
  • भारत में ट्रक चलाने को लेकर 7 नवंबर 2011 को एक लेख पब्लिश किया गया था। यही तस्वीर दूसरी साइट BIANOTI पर भी मिली। दोनों तस्वीरों को देखने पर पता चला कि मूल तस्वीर को एडिट करके वायरल किया जा रहा है। कई आधिकारिक अकाउंट से भी इस तस्वीर का सच जाने बगैर पोस्ट किया गया।

निष्कर्ष:  
वायरल तस्वीर की पड़ताल करने पर पता चला कि मूल तस्वीर को एडिट करके पीएम मोदी से जुड़ा मैसेज डाला गया है। मूल तस्वीर 7 नवंबर 2011 को एक आर्टिकल के साथ पब्लिश की गई है। हैरानी की बात तो ये है कि राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में कई बड़े नेता और आधिकारिक अकाउंट से भी इन तस्वीरों को पोस्ट किया जाता रहा है, जो कि सरासर गलत है। 

ये भी पढ़ें.

बन गया कुत्ता-देखो बन गया कुत्ता: मिल गई बॉयफ्रेंड को कुत्ता बनाकर घुमाने वाली लड़की, जानें इससे क्या फायदा

कौन है 24 साल की उम्र में 500 पुरुषों से संबंध बना चुकी लड़की, कहा- अगला टारगेट 1000

इस देश में Work From Home को लेकर बड़ा बदलाव, ऑफिस खत्म होने के बाद बॉस ने मैसेज किया तो जाएगा जेल

दुनिया की सबसे खतरनाक शार्क की चौंकाने वाली तस्वीर, 300 दांत फिर भी शिकार को फाड़कर निगल जाती है

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios