Asianet News Hindi

हाथरस के बाद: RJD में लालू-तेजस्वी का समाजवाद, 'रेपिस्ट' नेता की पत्नी को ही दे दिया टिकट

First Published Oct 5, 2020, 6:11 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना। उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में दलित के बेटी के साथ हुई हैवानियत के बाद बिहार में एनडीए के खिलाफ दूसरे विपक्षी दलों के साथ ही आरजेडी (RJD) ने भी मुद्दा बनाया था। लेकिन पार्टी के टिकट बंटवारे से पता चल रहा है कि आरजेडी रेप आरोपों का सामना कर रहे नेताओं को लेकर कितनी ईमानदार है। आरजेडी पहले से ही राजनीति के अपराधीकरण के आरोप का सामना करती आई है। अब विधानसभा चुनाव के लिए दागियों के परिजनों को टिकट देने का मामला तूल पकड़ सकता है। 

दरअसल, आरजेडी की लिस्ट में पूर्व विधायक राजबल्लभ यादव (Rajvallabh Yadav) की पत्नी विभा देवी (Vibha Devi) को नवादा (Navada) से टिकट दिया गया है। राजबल्लभ रेप के एक मामले में जेल में बंद पूर्व विधायक हैं। रेप की वजह से उनकी विधायकी चली गई थी। हाथरस के शोर के बावजूद पार्टी ने राजबल्लभ की पत्नी को विधानसभा का टिकट थमा दिया है। विभा के नाम पर अभी से राजनीति शुरू हो गई है। 

दरअसल, आरजेडी की लिस्ट में पूर्व विधायक राजबल्लभ यादव (Rajvallabh Yadav) की पत्नी विभा देवी (Vibha Devi) को नवादा (Navada) से टिकट दिया गया है। राजबल्लभ रेप के एक मामले में जेल में बंद पूर्व विधायक हैं। रेप की वजह से उनकी विधायकी चली गई थी। हाथरस के शोर के बावजूद पार्टी ने राजबल्लभ की पत्नी को विधानसभा का टिकट थमा दिया है। विभा के नाम पर अभी से राजनीति शुरू हो गई है। 

राजबल्लभ पर एक मासूम नाबालिग लड़की से बलात्कार का आरोप लगा था। मामला 2016 का है। इस मामले में 2018 में राजबल्लभ को कोर्ट ने दोषी भी पाया। जेल जाने की वजह से उसे आरजेडी से निलंबित कर दिया गया लेकिन यह दिखावे भर के लिए था। 
 

राजबल्लभ पर एक मासूम नाबालिग लड़की से बलात्कार का आरोप लगा था। मामला 2016 का है। इस मामले में 2018 में राजबल्लभ को कोर्ट ने दोषी भी पाया। जेल जाने की वजह से उसे आरजेडी से निलंबित कर दिया गया लेकिन यह दिखावे भर के लिए था। 
 

आरजेडी में उसका रसूख पहले की तरह ही बना रहा। राजबल्लभ की आरजेडी में हैसियत क्या है इसका अंदाजा सिर्फ इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भी नवादा सीट से उसकी पत्नी को लालू (Lalu Yadav) की पार्टी ने टिकट दिया था। हालांकि वो जीत नहीं पाई। अब उसे दोबारा विधानसभा के लिए टिकट दिया गया है। 
 

आरजेडी में उसका रसूख पहले की तरह ही बना रहा। राजबल्लभ की आरजेडी में हैसियत क्या है इसका अंदाजा सिर्फ इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भी नवादा सीट से उसकी पत्नी को लालू (Lalu Yadav) की पार्टी ने टिकट दिया था। हालांकि वो जीत नहीं पाई। अब उसे दोबारा विधानसभा के लिए टिकट दिया गया है। 
 

सिर्फ राजबल्लभ ही नहीं आरजेडी का एक और नेता अरुण कुमार यादव (MLA Arun Kumar Yadav) की पत्नी किरण यादव (Kiran Yadav) को भी विधानसभा का टिकट दिया गया है। अरुण पर रेप के आरोप लगे हैं और वो कई महीनों से फरार चार रहा है। आरजेडी की लिस्ट में इन दो नेताओं की पत्नियों को टिकट देने की बता लोगों के गले से नीचे नहीं उतर रही है। 
 

सिर्फ राजबल्लभ ही नहीं आरजेडी का एक और नेता अरुण कुमार यादव (MLA Arun Kumar Yadav) की पत्नी किरण यादव (Kiran Yadav) को भी विधानसभा का टिकट दिया गया है। अरुण पर रेप के आरोप लगे हैं और वो कई महीनों से फरार चार रहा है। आरजेडी की लिस्ट में इन दो नेताओं की पत्नियों को टिकट देने की बता लोगों के गले से नीचे नहीं उतर रही है। 
 

विपक्ष हमलावर है। माना जा रहा है कि इसे आरजेडी के खिलाफ मुद्दा बनाया जा सकता है। 243 विधानसभा सीटों के लिए आरजेडी ने कांग्रेस (CONGRESS) और सीपीआई, सीपीआई एमएल, सीपीएम के साथ गठबंधन किया है। आरजेडी 144 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 

विपक्ष हमलावर है। माना जा रहा है कि इसे आरजेडी के खिलाफ मुद्दा बनाया जा सकता है। 243 विधानसभा सीटों के लिए आरजेडी ने कांग्रेस (CONGRESS) और सीपीआई, सीपीआई एमएल, सीपीएम के साथ गठबंधन किया है। आरजेडी 144 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios